ताज़ा खबर
 

लड़कों का रेप कर घर के नीचे दफना देता था यह साइकोक‍िलर, 33 को बनाया श‍िकार, जहर देकर दी गई मौत

पत्नी ने गेसी को उस वक्त तलाक दे दिया था, जब उसे 16 साल के एक बच्चे के साथ यौन शोषण के मामले में दोषी करार दिया गया था।
साल 1978 में गेसी के घर से शव बरामद करती पुलिस। (Photo Source: AP)

अमेरिका के शिकागो का एक सीरियल साइकोकिलर जॉन वेन गेसी लड़कों के साथ रेप करके उनकी हत्या कर देता था और फिर उन्हें अपने ही घर में दफना देता था। रिपोर्ट्स के मुताबिक उसने ऐसे 33 युवा लड़कों को मौत के घाट उतारा। गेसी के पकड़े जाने के बाद उसे जहर का इंजेक्शन देकर मौत की सजा दी गई थी। गेसी की जब मौत हुई, तब उसकी उम्र 52 साल थी। उसका जन्म 17 मार्च 1942 को शिकागो इलिनोयस में हुआ था। बताया जाता है कि गेसी के शराबी पिता उसके साथ बचपन में बहुत मारपीट करता था। लेकिन बाद में गेसी एक सफल बिजनेसमैन बन गया। गेसी तीन केएफसी रेस्तरां के मालिक थे। इसके बाद उसने मार्लिन मायर्स कर ली थी। इस शादी से दोनों को एक बेटी और एक बेटा भी था।

मायर्स ने गेसी को उस वक्त तलाक दे दिया था, जब उसे 16 साल के एक बच्चे के साथ यौन शोषण के मामले में दोषी करार दिया गया था। साल 1968 में इस मामले में उसे 10 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। इसके बाद वह साल 1970 में पैरोल पर जेल से बाहर आ गया और उसके बाद उसने कंस्ट्रशन का बिजनेस शुरू किया। इसके साथ ही उसने दोबारा से शादी भी की। बाद में वह जोकर की ड्रेस पहनने लगा। जोकर की ड्रेस पहनकर वो इवेंट्स और बच्चों के अस्पताल में जाकर उनका मनोरंजन करता था। इसके बाद गेसी ने साल 1972 को एक 16 साल के लड़के को बस टर्मिनल से उठाया और फिर घर लाकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद उसने एक-एक करके 33 युवा लड़कों को अपना निशाना बनाया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक गेसी पहले अपने शिकार को नशीली ड्रिंक या ड्रग्स देता था, उसके बाद उसे हथकड़ी पहना देता था। इसके बाद उनके साथ रेप करता था और फिर गला दबाकर मार देता था। बताया जाता है कि वह मुंह में कपड़ा ठूंस देता था, ऐसे में कईयों की मौत सांस घुटने से भी हो गई थी। उसने कई लड़कों के शव अपने ही घर में दफन कर दिए थे। इस दौरान पुलिस एक 15 साल के लड़के रॉबर्ट पिएस्ट के गायब होने के मामले की जांच कर रही थी। इस दौरान पुलिस ने गेसी पर लगातार नजर रखी हुई थी। तभी पुलिस ने उसे पकड़ा और उससे पूछताछ की। पूछताछ में उसने अपना अपराध स्वीकार कर किया। इसके बाद उसे 14 साल की सजा हुई। बाद में साल 1994 में उसे लीथल(जहरीला केमिकल) का इंजेक्शन देकर मौत की नींद सुला दिया गया। बताया जाता है कि गेसी द्वारा मारे गए केवल 27 लोगों की ही पहचान हो पाई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.