ताज़ा खबर
 

शिकार को दावत और प्लेन का टिकट भेज किया अगवा, किडनैपिंग की अजीबोगरीब कहानी

किडनैपर्स की बात सुन दिल्ली के कारोबारियों के हाथ-पांव फूलने लगते हैं। आनन-फानन में परिवार के अन्य सदस्य पटना पहुंचते हैं और एयरपोर्ट थाने में अपनी शिकायत दर्ज कराते हैं।

किडनैपर्स ने उनके हाथ-पैर बांध दिए थे। प्रतीकात्मक तस्वीर।

अपहरण से जुड़ी कई वारदातों के बारे में आपने सुना होगा। लेकिन आज बात किडनैपिंग की एक अजीबोगरीब कहानी की। इस कहानी को सुनकर आप चौंक जाएंगे। इस कहानी में किडनैपर्स अपने शिकार को जबरदस्ती कहीं से उठाते या अगवा नहीं करते थे बल्कि उसे दावत देकर अपने पास बुलाते थे। इतना हीं नहीं वो अपने शिकार को कई बार हवाई यात्रा के लिए एयर टिकट भी दिया करते थे। आज हम बात कर रहे हैं दिल्ली के बदरपुर इलाके के मशहूर मार्वल व्यापारी के दो बेटों सुरेश और कपिल के अपहरण कांड की। सुरेश और कपिल कारोबार में अपने पिता की मदद किया करते थे। बात सितंबर 2016 की है जब इस कारोबारी के घर फोन की घंटी बजती है। फोन करने वाला खुद को बिहार के पटना का रहने वाला बताता है और अपना नाम गोपाल गोयल बताता है। वो फोन पर बताता है कि बिहार में मार्बल के काम से जुड़ा 200 करोड़ रुपए का कॉन्ट्रैक्ट उसके पास आया है। यह शख्स दिल्ली के मार्बल कारोबारियों को भरोसा दिलाता है कि वो उनके साथ मिलकर काम करना चाहता है और इस कॉन्ट्रैक्ट में उन्हें काफी मुनाफा भी होगा।

गोपाल गोयल कारोबारी परिवार को यह भी बताता है कि वो उन्हीं के परिवार के किसी सदस्य का परिचित है और उन्हीं से उसने उनका मोबाइल नंबर लिया था। फोन पर गोपाल गोयल की इन लोगों के साथ काफी देर तक बातचीत होती है और गोपाल अचानक उनसे यह कहता है कि इस कॉन्ट्रैक्ट को हासिल करने के लिए उन्हें एक दिन के लिए पटना आना होगा और साइट को खुद देखना होगा क्योंकि यह डील बहुत बड़ी है। इतना ही नहीं जब गोपाल, कारोबारी परिवार का भरोसा जीत लेता है तो उन्हें प्लेन का टिकट भेजने का आश्वासन भी देता है। थोड़ी ही देर बाद एक ट्रैवल एजेंट दिल्ली में उनके घर आकर दो टिकटें सौंपता है। सुरेश और कपिल के नाम से यह टिकट अक्टूबर के महीने का होता है।

टिकट मिलने के बाद तय वक्त पर सुरेश और कपिल पटना पहुंचते हैं। पटना एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद एक शख्स दोनों भाइयों को रिसीव करने के लिए एयरपोर्ट पर पहुंचता है और उन्हें अपनी गाड़ी में बैठाकर साथ ले जाता है। यह शख्स करीब ढाई घंटे तक लगातार गाड़ी चलाता है और उन्हें सुनसान रास्ते पर लेकर जाता है। एयरपोर्ट से करीब 100 किलोमीटर दूर एक सुनसान जगह पर एक मकान के पास ड्राइवर गाड़ी अचानक रोक देता है। गाड़ी के रुकते ही दोनों भाई गाड़ी से उतरते हैं लेकिन वहां पहले से मौजूद करीब 6 लोग इन दोनों भाइयों के साथ मारपीट करने लगते हैं औऱ फिर उनके हाथ-पैर बांध और उनके मुंह में कपड़ा ठूंस उन्हें एक दूसरी गाड़ी में बैठा देते हैं। दोनों कारोबारी भाइयों को बताया जाता है कि उनका किडनैपिंग हो चुका है। अगले ही दिन कारोबारी भाइयों के दिल्ली स्थित घर पर रंजीत मुंडा नाम के एक शख्स का फोन जाता है और वो उनसे सुरेश और कपिल को रिहा के एवज में 5 करोड़ रुपए की फिरौती मांगता है।

किडनैपर्स की बात सुन दिल्ली के कारोबारियों के हाथ-पांव फूलने लगते हैं। आनन-फानन में परिवार के अन्य सदस्य पटना पहुंचते हैं और एयरपोर्ट थाने में अपनी शिकायत दर्ज कराते हैं। लेकिन पुलिस के पास इस मामले में कोई सुराग नहीं होने की वजह से उन्हें किडनैपर्स को ढूंढने में काफी परेशानी होती है। इसके बाद पुलिस को पहला सुराग उस वक्त मिलता है जब उसे यह पता चलता है कि जिस नंबर से फिरौती की डिमांड की गई है वो नंबर इलाहाबाद के किसी शख्स का है। लेकिन यह शख्स पुलिस को बताता है कि वो इस मामले में संदिग्ध नहीं बल्कि खुद ही पीड़ित है। यह शख्स पुलिस को बताता है कि कुछ महीने पहले उसे भी पटना बुलाकर किडनैप कर लिया गया था और उसे लखीसराय के घने जंगलों में कई दिनों तक रखा गया था। बाद में वो किसी तरह वहां से फरार हो पाने में कामयाब हो गया था।

इसी सूचना के आधार पर पुलिस ने टीम बनाकर लखीसराय के जंगलों में रात के वक्त छापेमारी की और थोड़ी देर चली मुठभेड़ के बाद दोनों कारोबारी भाइयों को आजाद करा लिया। पुलिस ने यहां से 5 लोगों को गिरफ्तार भी किया। उस वक्त खुलासा हुआ कि जिस रंजीत मुंडा ने कारोबारी परिवार से फिरौती मांगी थी दरअसल वो रंजीत मुंडा नहीं बल्कि बिहार के किडनैपिंग इंडस्ट्री का सबसे बड़ा चेहरा रंजीत डॉन था। हालांकि पुलिस की कार्रवाई के वक्त रंजीत डॉन अंधेरे का फायदा उठाकर घने जंगलों से फरार हो गया था, लेकिन बाद में पुलिस ने उसे पटना से गिरफ्तार कर लिया था। यह भी खुलासा हुआ था कि रंजीत डॉन ने मध्य प्रदेश, राजस्थान, और हरियाणा जैसे राज्यों से कई लोगों का अपहरण इसी अंदाज में किया था और करोड़ों रुपए की फिरौती भी वसूली थी। (और…CRIME NEWS)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X