ताज़ा खबर
 

केरल सोना तस्करी कांड: कौन है स्वप्ना सुरेश जिसपर घिरी पिनरई विजयन सरकार?, अबू धाबी से है कनेक्शन!

साल 2011 में उसने तिरुवनंतपुरम में एक ट्रैवल एजेंसी में नौकरी ज्वायन कर ली। कहा जा रहा है कि करीब 2 साल बाद स्वप्ना एयर इंडिया से जुड़ी लेकिन साल 2016 में वो वापस अबू धाबी चली गईं।

crime, crime newsस्वप्ना के खिलाफ पहले भी फ्रॉडगिरी की जांच हुई थी।

केरल में सोने की तस्करी का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। कांग्रेस-बीजेपी इस मामले में राज्य की पिनरई विजयन सरकार को घेर रही है। विपक्षी दलों का आरोप है कि इस हाईप्रोफाइल मामले के तार सीएम कार्यालय से जुड़े हैं। अभी इस मामले में सूचना प्रौद्योगिकी की पूर्व सलाहकार स्वप्ना सुरेश की तलाश की जा रही है। अभी तक इस मामले में विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स में यहीं कहा जा रहा है कि स्वप्ना सुरेश ही किंगपिन हैं। केरल में सूचना प्रौद्योगिकी विभाग सीधे तौर से मुख्यमंत्री पिनरई विजयन के कार्यालय के अधीन है।

इतनी बड़ी मात्रा में सोने की तस्करी का मामला सामने आने के बाद मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन ने बड़े अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की है। इस तस्करी के सामने आने के बाद सूचना प्रोद्योगिकी सचिव और मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव एम शिवशंकर का ट्रांसफर कर दिया गया है। यही नहीं सोमवार को सूचना प्रोद्योगिकी सलाहकार स्वपना सुरेश की सेवाएं समाप्त कर दी गई हैं और वह फिलहाल फरार चल रही हैं। जानकारी के अनुसार स्वपना सुरेश, एम शिवशंकर की करीबी भी हैं।

हम आपको बताते हैं कि स्वप्ना सुरेश आखिर कौन है? जिसकी तलाश में अभी केरल पुलिस दिन-रात एक कर रही है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि स्वप्ना सुरेश अबू धाबी में पैदा हुईं। साल 2011 में उन्होंने तिरुवनंतपुरम में एक ट्रैवल एजेंसी में नौकरी ज्वायन कर ली। कहा जा रहा है कि करीब 2 साल बाद स्वप्ना एयर इंडिया से जुड़ी लेकिन साल 2016 में वो वापस अबू धाबी चली गईं। यह वो साल था जब क्राइम ब्रांच ने स्वप्ना के खिलाफ धोखाधड़ी के एक मामले की जांच शुरू की थी।

कहा जाता है कि धारा प्रवाह अऱबी भाषा बोलने वाली स्वप्ना ट्रैवेल एजेंसी और बाद में एयर इंडिया में अपने कार्यकाल के दौरान हवाईअड्डों और सीमा शुल्क विभाग के कई अधिकारियों के संपर्क में आ गई थी। उन्हें राजनयिक खेपों की आपूर्ति और हैंडलिंग की भी जानकारी हो गई थी। माना जाता है कि केरल के साथ ही यूएई में अपने संपर्कों के कारण स्वप्ना धीरे-धीरे विभिन्न समूहों से परिचित हो गई थी और कथित रूप से राजनयिक खेपों के जरिए स्वर्ण तस्करी के लिए उसने सिस्टम का इस्तेमाल उन्होंने किया।

यहां आपको बता दें कि रविवार को तिरुवनंतपुरम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से सीमा शुल्क अधिकारियों ने भारी मात्रा में सोना बरामद किया था। यह सोना यूएई के वाणिज्य दूतावास के लिए आए बैगों में भरा हुआ था। उस वक्त तस्करी के आरोप में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के वाणिज्य दूतावास के एक पूर्व कर्मचारी को हिरासत में लिया गया था।

बताया जा रहा है कि इसके तार यूएई के महावाणिज्य दूतावास से संबंधित एक राजनयिक खेप से जुड़े हुए हैं। यूएई की एक पूर्व वाणिज्य अधिकारी स्वप्ना सुरेश इस मामले की मुख्य आरोपी हैं। स्वप्ना सुरेश केरल राज्य सूचना प्रौद्योगिकी इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (केएसआईटीआईएल) के तहत स्पेस पार्क की विपणन संपर्क अधिकारी थीं जिन्हें अब हटा दिया गया है।

इस पूरे मामले पर विपक्ष सीबीआई से जांच कराने की मांग कर रही है। इसपर राज्य के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने कहा कि यह निर्णय पूरी तरह केंद्र पर है कि कौन सी जांच एजेंसी को मामले की जांच करनी चाहिए। मामले में विपक्ष की ओर से सीबीआई जांच की मांग को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां तक राज्य सरकार का सवाल है, तो उसे किसी भी जांच से परेशानी नहीं है। उन्होंने विपक्ष के उन आरोपों को खारिज किया, जिसमें कहा गया था कि मुख्यमंत्री कार्यालय ने मामले में हस्तक्षेप का प्रयास किया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिजली बिल की रीडिंग के बहाने से घरों में घुसता था, फिर साइकिल की चेन से गला घोंट औरतों पर करता था अटैक, जानें कैसे आया चंगुल में Serial Chain Killer
2 ‘मेरे साथ धोखा हुआ गलत काम कराया गया’, महिला अधिकारी ने आत्महत्या से पहले छोड़ा सुसाइड नोट
3 केरल में सोना तस्करी का मामला! CM विजयन पर सवाल, प्रधान सचिव का तबादला; कांग्रेस ने PM को चिट्ठी लिख जांच कराने की उठाई मांग
ये पढ़ा क्या?
X