scorecardresearch

शोभा जॉन: केरल की महिला गैंगस्टर जो रिकवरी एजेंट से बनी थी सेक्स रैकेट की सरगना

Gangster Sobha John: वरप्पुझा सेक्स रैकेट मामले में 18 साल कैद की सजा पाने वाली शोभा जॉन का इतिहास किसी थ्रिलर फिल्म से भी ज्यादा रोमांचक है। उसने ब्याज पर पैसा देना शुरू किया फिर उसे वसूलने के लिए वह स्थानीय गुंडों के संपर्क में आ गई थी और फिर वह खुद उनको लीड करने लगी।

Kerala Gangster Sobha John | Sobha John | flesh trade | blade mafia | Thiruvananthapuram | Prostitution racket kingpin
प्रतीकात्मक तस्वीर। (Photo Credit – Freepik)

आज बात केरल की महिला गैंगस्टर शोभा जॉन जो कभी रिकवरी एजेंट हुआ करती थी। शुरुआत में किसी भी अन्य आम लड़की की तरह, नेय्यत्तिनकारा, तिरुवनंतपुरम की मूल निवासी शोभा सामान्य लड़की थी। लेकिन कम उम्र में शादी के बाद के ही उसने अपनी बड़ी महत्वाकांक्षाओं के चलते पैसे कमाने की सोची। ऐसे में शोभा ने स्थानीय लोगों को ऊंची ब्याज दर पर पैसे उधार देना शुरू कर दिया था। यहीं से उसकी जिंदगी में नया अध्याय शुरू हुआ था।

गुंडा एक्ट में अरेस्ट होने वाली केरल की पहली महिला: केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम के नेय्यत्तिनकारा की रहने वाली शोभा केरल की पहली महिला थीं, जिसे गुंडा अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था। जिसे वर्तमान में अब केरल असामाजिक गतिविधि रोकथाम अधिनियम (KAAPA) के नाम से जाना जाता है। शोभा को बाद में हत्या, देह व्यापार, ब्लेड माफिया द्वारा किए गए अपराध और उनकी साजिश आदि से जुड़े विभिन्न मामलों में आरोपी बनाया गया था।

रिकवरी एजेंट से गुंडों की नेता: शोभा ने कम उम्र में ही शादी कर ली लेकिन अपने आसपास के लोगों के बीच चर्चा में तब आई जब उसे सेक्स रैकेट मामले में गिरफ्तार किया गया था। इस घटना के बाद शोभा ने अपने रिश्तेदारों और यहां तक ​​कि परिवार वालों से भी दूरी बना ली थी। दरअसल, शोभा कभी रिकवरी एजेंट थी लेकिन शादी के बाद उसने स्थानीय लोगों को ऊंची ब्याज दर पर पैसे उधार देना शुरू कर दिया। उसी व्यापार में लगे अन्य लोगों से आने वाले खतरे से बचने और पैसा वसूलने के लिए शोभा स्थानीय गुंडों से संपर्क करती थी। कुछ ही समय में वह उनकी नेता बन गई।

सबरीमाला तंत्री केस में लगा था आरोप: पहला मामला जिसमें शोभा जॉन को आरोपी बनाया गया था, वह केरल का चर्चित तंत्री केस था; जिसमें सबरीमाला तंत्री कंडारू मोहनारू शामिल था। यह घटना 23 जुलाई 2006 को हुई थी। इसमें शोभा और उसके गिरोह के सदस्यों ने तंत्री को कोच्चि में उसके (शोभा) अपार्टमेंट में लाने की साजिश रची और चाकू की नोक पर उसे एक और नग्न महिला के साथ अश्लील पोज देने के लिए मजबूर किया।

शोभा के गिरोह ने तंत्री को बंदूक की नोक पर आपत्तिजनक स्थिति में उसे महिला के साथ पोज देने को कहा और फिर उसकी तस्वीरें लीं। इस मामले में शोभा और गिरोह पर आरोप लगाया था कि उन्होंने इन फोटो के जरिए तंत्री से 30 लाख रुपये निकालने की कोशिश की थी। इसके बाद 5 अक्टूबर, 2011 को शोभा तब सुर्खियों में रही; जब उसके मुख्य सहयोगी बचू रहमान को वरप्पुझा सेक्स रैकेट मामले में गिरफ्तार किया गया था।

नाबालिग लड़की के बयान ने खोला राज: यह घटना उस समय प्रकाश में आई जब एक नाबालिग लड़की और सेवानिवृत्त कर्नल जयराजन नायर को चार अगस्त को वरप्पुझा में एक किराए के घर से अनैतिक गतिविधियों के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। बाद में पता चला कि लड़की नाबालिग थी और शोभा ने उसे उसके माता-पिता से 1 लाख में खरीदा था। जांच के दौरान लड़की के माता-पिता ने बयान दिया कि शोभा लड़की को कासरगोड और बेंगलुरु समेत कई जगहों पर ले गई थी।

वरप्पुझा सेक्स रैकेट केस: नाबालिग लड़की ने मजिस्ट्रेट को दिए अपने बयान में कहा कि उसके साथ 100 से अधिक लोगों ने दुर्व्यवहार किया। इस घटना से जुड़े कुल 32 मामले दर्ज किए गए थे जिसमें 80 आरोपी थे; जिनमें से 72 को गिरफ्तार कर लिया गया था। एक आरोपी बिनिल कुमार की सुनवाई के दौरान मौत हो गई, जबकि अदालत ने पांच आरोपियों को बरी कर दिया था। वरप्पुझा सेक्स रैकेट मामले में शोभा जॉन को 18 साल की सजा मिली थी।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट