ताज़ा खबर
 

ब्रेकअप से परेशान डॉक्टर ने IV ट्यूब लगा दे दी जान, हॉस्टल की छत से मिली लाश

रेजिडेंट मेडिकल ऑफिसर हॉस्टल बिल्डिंग की छत पर उनकी लाश मिली। उस समय IV ट्यूब उनके हाथ में लगी हुई थी। पास में एक बैग पड़ा था। वहां कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ। डॉक्टरों का कहना है कि लाश मिलने के करीब 12 घंटे पहले उन्होंने आत्महत्या की है।

Author मुंबई | Published on: November 17, 2019 12:31 PM
मुंबई के केईएम हॉस्पिटल में डॉक्टर ने की खुदकुशी, प्रतीकात्मतक तस्वीर (फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

केईएम अस्पताल के सर्जरी विभाग से जुड़े डॉक्टर प्रणय जायसवाल (28) ने शुक्रवार देर रात कैंपस में खुद को इंट्रावीनस (IV) दवाओं का इंजेक्शन लगाकर आत्महत्या कर ली। वह अमरावती के रहने वाले थे और केईएम अस्पताल में जनरल सर्जरी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी करने के बाद विशेषज्ञ के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे थे। वह तीन सालों से हॉस्टल में एक दोस्त के साथ रह रहे थे।

कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं : शनिवार सुबह करीब 11.30 बजे रेजिडेंट मेडिकल ऑफिसर हॉस्टल बिल्डिंग की छत पर उनकी लाश मिली। उस समय IV ट्यूब उनके हाथ में लगी हुई थी। पास में एक बैग पड़ा था। वहां कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ। डॉक्टरों का कहना है कि लाश मिलने के करीब 12 घंटे पहले उन्होंने आत्महत्या की है। उनके सहयोगियों के मुताबिक हाल ही में उनकी अपनी प्रेमिका के साथ ब्रेक-अप हो गया था। इससे वह काफी परेशान थे। हालांकि पुलिस का कहना है कि वह पारिवारिक विवाद के कारण पिछले छह महीनों से अवसाद (depression) में थे और अवसाद रोधी दवा भी ले रहे थे।

Hindi News Today, 17 November 2019 LIVE Updates: बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

डिप्रेशन की दवाएं भी ले रहे थे : उनके रूममेट समर्थ पटेल के मुताबिक वह शुक्रवार शाम से लापता थे। इसके बाद उसने दूसरे डॉक्टरों को इसकी सूचना दी, जिसके बाद वे लोग भी उनकी तलाश शुरू की। भोईवाड़ा पुलिस के वरिष्ठ निरीक्षक विनोद कांबले ने कहा, “हमने एक्सीडेंटल डेथ की रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी। पटेल और जायसवाल पिछले तीन सालों से एक कमरे में रह रहे थे। पटेल ने अपने बयान में बताया है कि वे डिप्रेशन की दवाएं भी ले रहे थे।”

साथियों ने कहा ईमानदार और गोल्ड मेडलिस्ट थे : फोरेंसिक विशेषज्ञों ने कहा कि जायसवाल में रिस्पाएरेटरी फेल्योर के लक्षण दिखे हैं। शरीर पर कोई अन्य चोट नहीं मिली। उनके अंगों को रासायनिक विश्लेषण के लिए संरक्षित किया गया है। एक डॉक्टर ने बताया, “अगर कोई जानता है कि दवाओं का कैसे उपयोग करना है तो सैकड़ों ऐसी दवाएं हैं, जो आत्महत्या करने के लिए इस्तेमाल की जा सकती हैं।” केईएम अस्पताल के डीन डॉ. हेमंत देशमुख ने बताया कि पुलिस को जायसवाल का सेलफोन और बैग सौंप दिया गया है। अस्पताल के एक डॉक्टर ने कहा कि वह अपने काम में ईमानदार थे। उनको गोल्ड मेडल मिला था। उनका एक शोध पत्र भी प्रकाशित हुआ था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बेड से बांधे छोटी बहन के हाथ-पैर और कर डाला रेप, 16 साल के लड़के ने अंजाम दी वारदात, पीड़िता ने स्कूल टीचर को बताया दर्द
2 Unnao: मुआवजे को लेकर भड़के किसान, SP बोले- पुलिस पर गोलियां चलाईं, पत्थर फेंके; सब स्टेशन में लगाई आग
3 गांधी-गोडसे पर लिखी आपत्तिजनक बात और बांट दिए पर्चे, हिंदू महासभा के लोगों पर केस दर्ज
जस्‍ट नाउ
X