कर्नाटकः हिंदू लड़की से दोस्ती करने पर काटा मुस्लिम युवक का सिर, पुलिस का दावा: माता-पिता ने दी थी सुपारी

कर्नाटक में हुए एक मुस्लिम युवक की मौत मामले में सामने आया है कि प्रेमिका के परिवार वालों ने ही ये हत्या करवाई है। लड़की के पैरेंट्स ने ही इसके लिए सुपारी दी थी। इस मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है।

karnataka muslim youth murder, love jihad,
कर्नाटक मुस्लिम युवक हत्या मामले में 10 गिरफ्तार (प्रतीकात्मक फोटो-इंडियन एक्सप्रेस)

कर्नाटक मुस्लिम युवक की हत्या मामले ने पुलिस ने खुलासा करते हुए कहा कि लड़की के माता-पिता ने ही मर्डर की सुपारी दी थी। इस मामले में अबतक 10 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिसमें दक्षिणपंथी हिन्दूवादी समूह से जुड़े हुए लोग भी शामिल हैं।

करीब 10 दिन पहले कर्नाटक के बेलगावी जिले में एक रेलवे ट्रैक पर 24 वर्षीय एक युवक की सिर कटी लाश मिली थी। जिसके बाद शुक्रवार को पुलिस ने दावा किया कि युवक की हत्या अंतर-धार्मिक संबंधों को लेकर की गई थी। पुलिस ने कहा कि इस मामले में एक दक्षिणपंथी नेता सहित कम से कम 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस के अनुसार दक्षिणपंथी समूह श्री राम सेना हिन्दुस्तान से जुड़े शख्स महाराज पुंडालीका ने युवक की हत्या के लिए लड़की के परिवारवालों से पैसे लिए थे। युवक की सिर कटी लाश रेलवे ट्रैक पर इसलिए फेंकी गई थी, क्योंकि आरोपी पुलिस को गुमराह करना चाहते थे।

मुस्लिम युवक अरबाज का शव 28 सितंबर को रेलवे ट्रैक पर मिला था, जिसके बाद रेलवे पुलिस ने अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज किया था। शव के पोस्टमार्टम से पता चला कि अरबाज की हत्या करने के बाद उसकी लाश को रेलवे ट्रैक पर रखा गया था। मर्डर की कहानी सामने आने के बाद मामले को बेलगावी पुलिस के पास ट्रांसफर कर दिया गया। जिसके बाद मामले की जांच शुरू कर दी गई।

अरबाज की हत्या की जानकारी मिलने के बाद उसके परिवार ने आरोप लगाया कि अंतर-धार्मिक प्रेम संबंध के कारण उसकी हत्या की गई है। अरबाज की मां नजीमा मोहम्मद शेख ने शिकायत दर्ज कराई थी कि अरबाज को लड़की के परिवार वाले धमका रहे हैं। नजीमा ने पुलिस को बताया कि अपने बेटे की सुरक्षा के डर से वह खानापुर से करीब 31 किलोमीटर दूर बेलगावी शहर में शिफ्ट हो गई, जहां वे पहले रहते थे।

युवक की मां ने दावा किया कि 26 सितंबर को लड़की के परिवार ने अरबाज और उसे खानापुर बुलाया, जहां उन्हें धार्मिक मतभेदों का हवाला देते हुए रिश्ता खत्म करने के लिए कहा गया। उन्होंने आरोप लगाया कि मुलाकात के दौरान लड़की के परिवार ने कथित तौर पर अरबाज का मोबाइल छीन लिया और तस्वीरें हटा दीं। जिसके बाद अरबाज का सिम कार्ड भी तोड़ दिया और उसे धमकी भी दी।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि इसके दो दिन बाद लड़की के पिता और महाराज ने अरबाज को वापस बुलाया और उसकी हत्या कर दी। जांच के बाद एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि जांच के दौरान, हमने पाया कि लड़की के माता-पिता ने रिश्ते का विरोध किया था। जिसके बाद उन्होंने महाराज पुंडालीका को अरबाज की हत्या के लिए पैसे दिए थे। हत्या के बाद आरोपियों ने सबूत मिटाने के लिए शव को रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया। जहां से शव को बरामद किया गया।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट