ताज़ा खबर
 

कानपुर संजीत यादव हत्याकांड: योगी सरकार करेगी CBI जांच की सिफारिश, 12 दिनों से लाश ढूंढ रही पुलिस

Kanpur Lab Technician Sanjit Murder and Kidnapping Case: परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने खुद किडनैपर्स को फिरौती की यह रकम दिलवाई थी और कहा था कि वो किडनैपर्स को पकड़ लेगें लेकिन पुलिस किडनैपर्स को पकड़ नहीं सकी और वो उनके पैसे भी ले गए।

sanjit yadav murder case, kanpurइस मामले में पुलिस पर फिरौती दिलाने का आरोप भी लगा था।

Kanpur Lab Technician Sanjit Murder and Kidnapping Case: कानपुर के चर्चित लैब तकनीशियन संजीत यादव के अपहरण और उनकी हत्या के बाद यहां पुलिस अब तक संजीत की लाश नहीं ढूंढ सकी है। पुलिस करीब 12 दिनों से संजीत का शव ढूंढने की दिशा में प्रयास कर रही है। इन सब के बीच अब राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की सिफारिश करने का फैसला किया है।

न्यूज एजेंसी ‘ANI’ ने बताया है कि सीएम कार्यालय की तरफ से बताया गया है कि संजीत यादव के परिवार वालों की अपील पर राज्य सरकार ने इस मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश करने का फैसला किया है। संजीत यादव की हत्या की खबर सामने आने के बाद से ही उनके परिजन सीबीआई जांच की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए थे।

बताया जा रहा है कि सीबीआई जांच की सिफारिश होने के बाद संजीत के परिजनों ने धरना खत्म कर दिया है। आपको बता दें कि कानपुर के बर्रा के रहने वाले संजीत यादव का 22 जून को अपहरण कर लिया गया था। 28 साल के संजीत के अपहरण के बाद परिजनों का कहना था कि किडनैपर्स ने उन्हें फोन कर संजीत को रिहा करने के बदले 30 लाख रुपए की फिरौती मांगी थी।

परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने खुद किडनैपर्स को फिरौती की यह रकम दिलवाई थी और कहा था कि वो किडनैपर्स को पकड़ लेगें लेकिन पुलिस किडनैपर्स को पकड़ नहीं सकी और वो उनके पैसे भी ले गए।

इधर संजीत के अपहरण के करीब 1 महीने बाद पुलिस ने इस मामले मे 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया। इन सभी ने पुलिस को बताया कि अपहरण के चार दिन संजीत की हत्या कर उन्होंने उनका शव पांडु नदी में फेंक दिया था। हालांकि अपहरणकर्ताओं ने फिरौती की रकम लेने से इनकार किया था।

इन आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस पिछले करीब 12 दिनों से संजीत यादव की लाश खोज रही है। कई गोताखोरों की मदद नदी में लाश खोजने के लिए ली गई है लेकिन अब तक डेड बॉडी नहीं मिली है।

मामले में प्रदेश सरकार ने जिले के एएसपी, डीएसपी और थाने के इंस्पेक्टर समेत 6 पुलिसकर्मियों को निलंबित किया था। पुलिस मुख्यालय के एडीजी बीपी जोगदंड को मामले की जांच सौंपी थी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिल्ली के पॉश इलाके में चार लोगों को BMW कार से रौंदकर फरार हुई फैशन डिजायनर, सीसीटीवी फुटेज के सहारे पुलिस ने धर दबोचा, पर तुरंत बेल पर बाहर
2 ‘सीएम ने कह दिया मारो, विकास दुबे की तरह कहकर टूट पड़े पुलिस वाले’, क्राइम जर्नलिस्ट ने सुनाई पीड़ा, देखें- वीडियो
3 क्या सुशांत सिंह राजपूत को पहले दिया गया जहर, फिर लगाई गई फांसी? बीजपी सांसद ने पूछे सवाल- अभी तक विसरा रिपोर्ट क्यों नहीं भेजी?
ये पढ़ा क्या?
X