ताज़ा खबर
 

कमलेश तिवारी की पत्नी को योगी से मिली आर्थिक मदद: तिवारी पर चाकू से किये गये थे कई वार

पुलिस ने अशफाक शेख (34) और मोइनुद्दीन (27) द्वारा कथित तौर पर इस्तेमाल की गयी पिस्तौल और चाकू बरामद कर लिया है। इस बीच कमलेश तिवारी की मां कुसुम तिवारी ने संवाददाताओं को बताया कि वह हत्यारों की गिरफ्तारी से खुश हैं और चाहती हैं कि उन्हें फांसी दी जाए।

Author लखनऊ | Updated: October 23, 2019 7:32 PM
राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि योगी ने दिवंगत कमलेश तिवारी के परिवार की मदद के लिए उनकी पत्नी को तात्कालिक रूप से 15 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिये जाने तथा परिवार को तहसील महमूदाबाद, जिला सीतापुर में एक आवास की सुविधा प्रदान करने के निर्देश दिये हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिन्दू संगठन के नेता कमलेश तिवारी की पत्नी को 15 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने के बुधवार को निर्देश दिये। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि योगी ने दिवंगत कमलेश तिवारी के परिवार की मदद के लिए उनकी पत्नी को तात्कालिक रूप से 15 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दिये जाने तथा परिवार को तहसील महमूदाबाद, जिला सीतापुर में एक आवास की सुविधा प्रदान करने के निर्देश दिये हैं।
उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह कड़े निर्देश दिये कि तिवारी की हत्या के अपराध में गिरफ्तार किये गये मुख्य हत्यारों के खिलाफ त्वरित अदालत में प्रभावी कार्रवाई की जाए।

गौरतलब है कि तिवारी (45) की 18 अक्टूबर को नाका हिण्डोला थाना क्षेत्र के खुर्शेदबाग में उनके आवास पर बने कार्यालय में हत्या कर दी गयी थी।
कमलेश तिवारी के कथित दोनों हत्यारों ने तिवारी पर सिर्फ गोली ही नहीं चलायी बल्कि उन पर चाकू से लगातार कई वार भी किये थे। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को बताया कि तिवारी के पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में कहा गया है कि उनके शरीर में एक गोली लगी है और चाकू के 15 वार हैं। कमलेश के चेहरे पर एक गोली मारी गयी थी। उन्होंने बताया कि कमलेश के चेहरे और गले पर चाकू के वार के कई निशान पाये गये।

पुलिस ने अशफाक शेख (34) और मोइनुद्दीन (27) द्वारा कथित तौर पर इस्तेमाल की गयी पिस्तौल और चाकू बरामद कर लिया है। इस बीच कमलेश तिवारी की मां कुसुम तिवारी ने संवाददाताओं को बताया कि वह हत्यारों की गिरफ्तारी से खुश हैं और चाहती हैं कि उन्हें फांसी दी जाए। उन्होंने कहा कि वह सरकार की कार्रवाई से संतुष्ट हैं। तिवारी के बेटे सत्यम ने विशेष जांच दल :एसआईटी:, गुजरात और उत्तर प्रदेश सरकार एवं प्रशासन का धन्यवाद किया।
सत्यम ने कहा कि हत्यारों की पहचान अब हो चुकी है इसलिए उन्हें फांसी दी जानी चाहिए। गुजरात के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने मंगलवार को तिवारी की हत्या में कथित तौर पर शामिल दो लोगों को गिरफ्तार किया था। आरोपी सूरत के अशफाक शेख ओर मोइनुद्दीन पठान हैं ।

गुजरात एटीएस के उप महानिरीक्षक हिमांशु शुक्ला ने बताया कि दोनों आरोपियों को गुजरात-राजस्थान सीमा पर शामलाजी के निकट से गिरफ्तार किया गया। वे मंगलवार की शाम गुजरात में घुसने वाले थे। गुजरात एटीएस ने एक विज्ञप्ति में बताया कि अपराध को अंजाम देने के बाद दोनों हत्यारे नेपाल गये और शाहजहांपुर पहुंचने के बाद वहां से गुजरात की ओर बढ़े। हत्या के सिलसिले में छह लोगों को पहले ही हिरासत में लिया जा चुका है, जिनमें से तीन सूरत के और एक महाराष्ट्र के नागपुर का है।

उत्तर प्रदेश पुलिस और गुजरात एटीएस ने एक संयुक्त अभियान में शुक्रवार को मामले के तीन संदिग्धों मौलाना मोहसिन शेख, फैजान और राशिद पठान को गिरफ्तार किया था। इस बीच उत्तर प्रदेश पुलिस की एक टीम तिवारी की हत्या की आगे की जांच के लिए मंगलवार को सूरत पहुंच गयी है।
एक स्थानीय अदालत ने मंगलवार को उन तीन लोगों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था जिन्होंने तिवारी की हत्या की कथित साजिश रची थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बॉस की हत्या कर 3 टुकड़ों में काट दिया, पुलिस ने पकड़ा तो कहा – समलैंगिक संबंध बनाने का बना रहा था दबाव
2 West Bengal: कूचबिहार में भिड़े TMC व BJP के कार्यकर्ता, जमकर हुई तोड़फोड़; दोनों के ऑफिस तबाह
3 KYC के नाम पर ट्रेनी IAS से ठग लिए 6 लाख रुपए, लिंक खोलते ही खाते से उड़ गए पैसे