ताज़ा खबर
 

2018 से ही सुरक्षा की मांग कर रहे थे कमलेश तिवारी, CM और प्रमुख सचिव गृह को भी लिखे थे पत्र

अपने भड़काऊ बयानों के लिए चर्चा में रहे हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी को कई साल से जान से मारने की धमकी मिल रही थी। इसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री और प्रमुख सचिव गृह को पत्र भी लिखा था।

Author लखनऊ | Published on: October 19, 2019 5:37 PM
हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की लखनऊ मे दिनदहाड़े हुई हत्या के बाद प्रदेश में सुरक्षा को लेकर सवाल उठने लगे हैं। कमलेश ने 2018 में अपनी जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा की मांग की थी। उन्होंने उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव गृह को लिखे पत्र में बताया था कि उन्हें 2016 से ही धमकी मिल रही है। अपने पत्र में उन्होंने सरकार से कहा था कि जब से उन्होंने पैगंबर मोहम्मद साहब पर टिप्पणी की है, तब से ही उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही है।

टिप्पणी के बाद देशभर में हुआ था विरोध :  कमलेश तिवारी ने 2015 में टिप्पणी की थी। इसके बाद देश भर में काफी विरोध हुआ था। उन्होंने सोशल मीडिया पर कुछ ऐसे ही पोस्ट किए थे। 2018 में, कमलेश तिवारी ने प्रमुख सचिव को लिखे पत्र में टिप्पणी का उल्लेख किया और अपने जीवन के लिए खतरा होने का दावा किया था। उन्होंने 2017 में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी पत्र लिखा और विभिन्न मुस्लिम मौलवियों से धमकी मिलने का दावा किया। उन्होंने लिखा था, “मुझे मुस्लिम मौलवियों से जान से मारने की धमकी मिल रही है। मेरे खिलाफ फतवे भी जारी किए गए हैं। एक मुस्लिम ने उत्तर प्रदेश के अमीनाबाद में एक हिंदू समाज पार्टी के कार्यक्रम में जबरदस्ती प्रवेश किया था। जबकि पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। बाद में छोड़ दिया गया था।”
National Hindi News, 19 October 2019 Live Updates: दिन भर की बड़ी खबरों के लिए यहां करें क्लिक

पत्नी ने दो मौलानाओं के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई : बताया जाता है कि भगवा वस्त्र पहने हमलावर मिठाई का डिब्बा सौंपने के बहाने खुर्शीद बाग इलाके में तिवारी के कार्यालय में घुसे। अंदर आने के तुरंत बाद हमलावरों ने पेटी खोली, बन्दूक निकाली और कमलेश तिवारी को गोलियों से छलनी कर दिया, उसका गला दबा दिया और फरार हो गए। उत्तर प्रदेश के बिजनौर के दो मौलानाओं के खिलाफ कमलेश तिवारी की पत्नी की शिकायत पर लखनऊ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। कमलेश तिवारी की पत्नी ने अपनी शिकायत में कहा कि मौलानाओं ने 2016 में उनके पति को मारने की धमकी दी थी।

एक महीने में चार नेताओं की हत्या : एक महीने में मारे गए कमलेश चौथे दक्षिणपंथी नेता हैं। 8 अक्टूबर को देवबंद में भाजपा नेता चौधरी यशपाल सिंह को इसी तरह से गोली मार दी गई थी। 10 अक्टूबर को बस्ती में एक अन्य भाजपा नेता कबीर तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। दो दिन बाद, सहारनपुर के देवबंद में भाजपा पार्षद धारा सिंह को अज्ञात हमलावरों ने गोलियों से भून दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 UP: पुलिस कस्टडी में दलित को बेरहमी से पीटकर तोड़ डाला पैर, आरोप- इतना मारा कि पीड़ित ने कर दी पेशाब
2 UP के कन्नौज में असली किन्नरों ने निर्वस्त्र करके नकली को धुना, कहा- बदनामी नहीं सहन करेंगे
3 Kamlesh Tiwari Murder: पकड़े गए साजिशकर्ताओं में एक दर्जी तो दूसरा बेचता है साड़ी, तीसरा करता है जूते की दुकान पर काम