scorecardresearch

इकबाल मिर्ची: एक कारोबारी जो मिर्च की आड़ में मादक पदार्थों की तस्करी करके बन गया अंडरवर्ल्ड डॉन

कभी मिर्च-मसालों की दुकान चलाने वाले इकबाल मिर्ची ने 80 के दशक में दाउद इब्राहिम का गैंग ज्वाइन किया। इसके बाद उसने दाउद के इशारे पर ड्रग्स तस्करी के धंधे को मुंबई के कोने-कोने में फैलाया।

underworld don iqbal mirchi, dawood ibrahim, iqbal mirchi, mumbai
इकबाल मिर्ची को दाउद इब्राहिम का राइट हैंड कहा जाता था। (Photo Credit – Social Media)

90 के दशक में जब एक तरफ दाउद इब्राहिम की मुंबई में धमक चलती थी तो दूसरी तरफ कुख्यात ड्रग्स माफिया इकबाल मिर्ची भी गैरकानूनी नशे के धंधे से साम्राज्य बनाने में जुटा था। दरअसल, इकबाल मिर्ची का पूरा नाम मेमन इकबाल मोहम्मद था। लेकिन आज बताएंगे कि मुंबई के नल बाजार में मसाले और मिर्च पाउडर की दुकान चलाने वाला इकबाल मिर्ची कैसे एक कुख्यात ड्रग्स माफिया बन गया।

मुंबई के एक गरीब परिवार में पैदा हुए इकबाल की मिर्च-मसाले की एक दुकान थी, लेकिन उसे इस काम में मजा नहीं आया। 1960 में हाई स्कूल की पढ़ाई छोड़कर इकबाल टैक्सी चलाने लगा था। इसके बाद उसने मुंबई के डॉकयार्ड में विदेशी सामानों और मादक पदार्थों की तस्करी शुरू की। यहां इकबाल को तस्करी के धंधे का एक खिलाड़ी आमिर का साथ मिला। 80 के दशक में आमिर के साथ काम करते-करते इकबाल का संपर्क दाउद गैंग से हुआ और मिर्च कारोबारी बनकर इकबाल ने ड्रग्स की तस्करी शुरू की।

साल 1980 में दाउद की गैंग में जगह बनाने के बाद वह दाउद इब्राहिम का पसंदीदा बन गया। काम ड्रग्स की तस्करी का ही था, लेकिन सिर पर दाउद का हाथ क्या आया इकबाल ने करोड़ों रूपये बनाए, गैंग के साथ-साथ उसने अपने लिए भी करोड़ों की दौलत जुटाई। साल 1986 में इकबाल मिर्ची के कथित फार्म हाउस पर रेवेन्यू इंटेलिजेंस के हत्थे 9 करोड़ की कीमत वाली ड्रग्स तो चढ़ गई पर ठोस सबूतों के न होने के कारण इकबाल बच गया।

साल 1993 के मुंबई बम धमाकों के बाद इकबाल मिर्ची देश से फरार होकर दुबई चला गया। दुबई पहुंचने के बाद उसने एक्ट्रेस हिना कौसर से शादी की जो कि मुगल-ए-आजम के निर्देशक आसिफ की बेटी थी। बताया जाता है कि इकबाल मिर्ची दुबई में रहकर ही मुंबई में फैले पूरे नेटवर्क को देखता था।

दुबई में कुछ ही साल रहने के बाद कुख्यात ड्रग्स माफिया इकबाल ब्रिटेन चला गया। यहां रहने के दौरान साल 1995 में हत्या के एक मामले में इकबाल के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कार्नर नोटिस जारी कर दिया, जिसके बाद स्कॉटलैंड पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि, जब मामले में उसके खिलाफ ठोस सबूत नहीं मिले तो स्कॉटलैंड पुलिस ने साल 1999 में उसे छोड़ दिया। इस घटना के दो साल बाद 2001 में इकबाल को रेजिडेंसी परमिट मिल गया और वह यहीं बस गया।

इकबाल मिर्ची ने ब्रिटेन में बसने के बाद भारत के कई शहरों में संपत्तियां खरीदी। साथ ही अपने शिपिंग के कारोबार को अफ्रीका, कनाडा, मलेशिया, लंदन, मोजाम्बिक, नैरोबी जैसी कई जगहों पर स्थापित किया। ब्रिटेन के एसेक्स के पॉश इलाके में रहने वाले इकबाल मिर्ची की एक समय पूरी मुंबई में तूती बोलती थी, लेकिन देश से फरार होने के बाद उसके पकड़ कम होने लगी थी। ब्रिटेन में खुद को बड़ा मसाला कारोबारी बताने वाले इकबाल की साल 2013 में हार्ट अटैक के चलते मौत हो गई थी।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट