CM पर लगाया था ड्रग माफिया को छोड़ने के लिए दबाव बनाने का आरोप, चर्चित अफसर थौनाओजम बृंदा की कहानी

साल 2020 में थौनाओजम बृंदा उस वक्त भी सुर्खियों में आई थीं जब उनपर लॉकडाउन के नियमों को तोड़ने का आरोप लगा था।

crime, crime news IPS थौनाओजम बृंदा। फोटो सोर्स- वीडियो स्क्रीनशॉट, यूट्यूब

इस महिला आईपीएस अधिकारी की गिनती निडर पुलिसवालों की लिस्ट में होती है। मणिपुर की पुलिस अफसर थौनाओजम बृंदा राज्य की पहली Narcotics and Affairs of Border Bureau (NAB) अफसर होने का गौरव हासिल है। साल 2018 में उन्हें स्टेट गैलेंन्ट्री अवार्ड से भी नवाजा गया था। यह अवार्ड उन्हें ड्रग्स के एक मामले की जांच के बाद दिया गया था। हालांकि इस बेबाक अफसर ने बाद में ड्रग्स के एक मामले में कुछ आरोपियों के बरी होने के बाद अपना अवार्ड लौटाया था।

साल 2018 में ड्रग्स केस में शामिल 7 लोगों को गिरफ्तार कर यह महिला अफसर काफी सुर्खियों में आई थीं। बाद में इसी ड्रग्स मामले के एक आरोपी Lhukosei Zou को लेकर इस अफसर ने राज्य के मुख्यमंत्री ए बिरेन सिंह पर उसे रिहा करने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया था। जून, 2018 में बृंदा एनएबी में बतौर एएसपी पदस्थापित थीं। इसी दौरान उन्होंने Lhukosei Zou के इम्फाल स्थित घर पर छापेमारी कर करोड़ों रुपए के ड्रग्स बरामद किये थे। उस वक्त यह बात भी सामने आई थी कि Lhukosei Zou भारतीय जनता पार्टी से जुड़ा हुआ था।

हालांकि इस केस में चार्जशीट दाखिल करने के महज 4 दिन बाद Lhukosei Zou को एक स्थानीय अदालत ने जमानत पर रिहा कर दिया था। इसके बाद इसे लेकर काफी विवाद भी हुआ था। अपना अवार्ड लौटाते वक्त बृंदा ने एक पत्र के जरिए कहा था कि ‘मैं नैतिक रूप से यह महसूस कर रही हूं कि मैंने राज्य के आपराधिक न्याय वितरण प्रणाली की इच्छा के अनुसार अपना कर्तव्य नहीं निभाया है। इसलिए मैं खुद को आपके द्वारा मुझे दिए गए सम्मान के योग्य नहीं मानती हूं, इसलिए मैं राज्य के गृह विभाग को मेडल लौटा रही हूं ताकि यह किसी अधिक योग्य और वफादार पुलिस अधिकारी को दिया जा सके।’

साल 2020 में थौनाओजम बृंदा उस वक्त भी सुर्खियों में आई थीं जब उनपर लॉकडाउन के नियमों को तोड़ने का आरोप लगा था। उस वक्त इम्फाल फ्री प्रेस ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया था कि, संगिप्राउ लामखाई में लॉकडाउन प्रतिबंधों का उल्लंघन करने पर बृंदा और उनके साथियों को अस्थायी रूप से हिरासत में लिया गया था।

 

Next Stories
1 ‘शरीर से खाल निकाल ली जाएगी’, …जब BJP सांसद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पुलिस अधिकारियों को दी थी धमकी
2 दारोगा का गिरेबान पकड़ बीच सड़क उछाल दी थी टोपी, लखनऊ में हुए बवाल का VIDEO हुआ था वायरल
3 मंच के नीचे आकर लगाने लगा ‘जय श्री राम’ के नारे, भड़के अखिलेश यादव ने सभा के बीच पुलिसवाले की लगा दी थी क्लास
यह पढ़ा क्या?
X