ताज़ा खबर
 

पटियाला: ASI का हाथ काट भागने वालों में महिला भी थी शामिल, तलाशी में लाखों रुपए और हथियार मिले; जानें कौन होते हैं निहंग सिख?

India Lockdown, Nihang Sikhs Cut off ASI Hand

india lockdownबताया जा रहा है कि गिरफ्तार किये गये लोगों में एक महिला भी है। फोटो सोर्स – ANI

India Lockdown, Nihang Sikhs Cut off ASI Hand: पटियाला में ASI का हाथ काट कर भागने वाले निहंग सिखों को पुलिस ने पकड़ लिया है। प्रशासन ने इन्हें बालबेरा गांव में स्थित एक गुरुद्वारे से पकड़ा है। पुलिस ने बताया कि रविवार (12-04-2020) सुबह हमले के बाद यह सभी भाग कर इस गुरुद्वारे में छिप गए थे। जब पुलिस की टीम वहां पहुंची तो उनसे सरेंडर करने के लिए कहा गया। लेकिन इन लोगों ने पुलिस पर हमला कर दिया। जिसके बाद पुलिस को भी फायरिंग करनी पड़ी। इस हमले में एक निहंग सिख को गोली लगी है जो जख्मी है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ‘ड्यूटी पर तैनात पुलिस पार्टी पर हमला किया गया। जिसमें ASI का हाथ कट गया और 6 अन्य पुलिस के जवान जख्मी हो गए। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मैंने प्रशासन को निर्देश दिया है कि जो भी कानून-व्यवस्था को तोड़ता है उसके साथ सख्ती से निपटा जाए।’

न्यूज एजेंसी ‘ANI’ के मुताबिक हमले के आरोप में अब तक 9 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एसएसपी मंदीप सिंह ने बताया कि बंदूक और पेट्रोल बम इनके पास से बरामद किया गया है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि गुरुद्वारे से 35 लाख रुपए कैश मिले हैं। इसके अलावा एक महिला को भी गिरफ्तार किया गया है।

इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए वरिष्ठ वकील एसएस फुलका ने कहा कि ‘मैंने पंजाब के डीजीपी से से आग्रह किया है कि इस मामले में 2 दिनों के अंदर चार्जशीट फाइल की जाए और 10 दिनों के अंदर ट्रायल खत्म कर दिया जाए। दोषियों को उम्रकैद की सजा होनी चाहिए ताकि पूरे देश को एक मैसेज दिया जा सके।

बता दें कि पटियाला में कर्फ्यू के दौरान जब निहंग सिखों से आज सुबह पास दिखाने के लिए पुलिस ने पूछा तब उन्होंने उनपर घातक हमला कर दिया और वहां से फरार हो गए थे।

कौन होते हैं निहंग सिख?

परंपरागत हथियार रखने वाले सिखों को ही निहंग सिख माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि यह सिख पूर्ण रूप से दसम गुरुओं के आदेशों के लिए हर समय तत्पर रहते हैं। माना जाता है कि दसम गुरुओं के काल में ये सिख गुरु साहिबानों के प्रबल प्रहरी होते थे। यह भी कहा जाता है कि सिख धर्म पर हमला हो जाए तो ये निहंग सिख उस समय अपनी जिंदगी की परवाह किए बिना “सिख” और “गुरु ग्रंथ साहिब” की आखिरी सांस तक रक्षा करते हैं।

Next Stories
1 पति से झगड़े के बाद बच्चों को ले गंगा किनारे पहुंची महिला, एक-एक कर सबको बीच धारा में फेंका
2 Video: लॉकडाउन में ड्रोन से कर रहे थे पान-मसाले की होम डिलीवरी, 2 धराए
3 दिल्ली: लॉकडाउन तोड़ अहले सुबह गुरुद्वारे में जुटी थी भीड़, पुलिस ने 8 लोगों को पकड़ा; केस दर्ज
ये पढ़ा क्या?
X