ताज़ा खबर
 

India Lockdown: सामान खरीदने के लिए दुकान के बाहर खड़े आदिवासी की मौत, परिवार का दावा- पुलिस ने पीटा; पुलिस ने बताया हार्ट अटैक

इधर आदिवासी युवक की मौत के बाद अब राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी सामने आने लगी हैं। कांग्रेस के विधायक पंछीलाल मेदा ने पुलिस के दावे पर सवाल उठाते हुए कहा कि 'युवक के शरीर पर लाठी से पीटे जाने के निशान हैं।

युवक किराने का सामान खरीदने घर से बाहर गया था। प्रतीकात्मक तस्वीर।

मध्य प्रदेश के भोपाल में 65 साल के एक आदिवासी युवक की मौत के बाद पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगे हैं। मृतक का नाम तिगू बुध्या बताया जा रहा है। घटना के बारे में मिली जानकारी के मुताबिक तिगू पेशे से एक दुकानदार थे और धार शहर में रहते थे। शुक्रवार (3 अप्रैल, 2020) की सुबह वो पास के एक गांव गुर्जी में अपने दुकान के लिए कुछ किराने का सामान खरीदने गए हुए थे। उनके साथ उनका पोता संजय मेदा भी था।

इसी दिन तिगू बुध्या की मौत हुई थी। तिगू बुध्या के पोते का कहना है कि ‘वो दुकान के बाहर खड़े थे। इसी दौरान चार गाड़ियों पर सावर होकर पुलिस वहां पहुंची और अचानक उनलोगों ने सबकी पिटाई शुरू कर दी। लाठी-ंडडों से पिटाई होने की वजह से वहां अफरातफरी मच गई और लोग इधर-उधर भागने लगे। मेरे पैर में भी चोट लगी।’ अब मृतक के घरवालों का आरोप है कि पुलिस की पिटाई की वजह से ही तिगू बुध्या की मौत हुई है।

हालांकि इस पूरे मामले पर पुलिस ने भी अपनी सफाई पेश की है और पिटाई से मौत की बात को सिरे से खारिज कर दिया है। ‘NDTV’ की रिपोर्ट के मुताबिक यहां के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी आदित्या प्रताप सिंह ने कहा है कि ‘हम लोगों से सोशल डिस्टेस्टिंग का पालन करवाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। हमें सूचना मिली थी कि एक युवक सड़क पर गिरा हुआ है। हम उसे उठाकर अस्पताल ले गए, जहां उसकी मौत हो गई।’

इधर आदिवासी युवक की मौत के बाद अब राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी सामने आने लगी हैं। कांग्रेस के विधायक पंछीलाल मेदा ने पुलिस के दावे पर सवाल उठाते हुए कहा कि ‘युवक के शरीर पर लाठी से पीटे जाने के निशान हैं। मैं राज्य के कलेक्टर से अपील करता हूं कि सरकारी अस्पताल के चिकित्सकों की टीम से युवक की डेड बॉडी की जांच कराई जाए और इस मामले में जो भी दोषी पाए जाते हैं उन्हें कड़ी सजा दी जाए।’

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खतरनाक कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान किया है। 14 अप्रैल तक यह लॉकडाउन जारी है। लॉकडाउन के दौरान किसी भी शख्स को बेवजह सड़क पर निकलने की सख्त मनाही है। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में भी इस बीमारी ने जमकर कहर बरपाया है। यहां कोरोना मरीजों की संख्या 100 के आकंड़े के पार कर चुकी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 India Lockdwon: बिहार में 3 दिन से भूखी बहनों ने केंद्र सरकार के हेल्पलाइन नंबर पर मांगी मदद, पका हुआ खाना हुआ नसीब
2 जम्‍मू कश्‍मीर: सेना ने ढेर क‍िए नौ आतंकी, जनता की अपील- अनजान को न दें पनाह, करोना मरीज भी हो सकता है
3 नोएडा: 8 साल की बहन को रेप के बाद मार डाला, धरा गया 19 साल का भाई