ताज़ा खबर
 

कब्रिस्‍तान में दफन था करोड़ों रुपए का खजाना, आयकर विभाग ने यूं खोज निकाला

ड्राइवर की निशानदेही पर आयकर विभाग की टीम अचानक एक कब्रिस्तान में पहुंच गई। कब्रिस्तान में इस ड्राइवर ने अधिकारियों को एक कब्र की तरफ इशारा किया। इतना इशारा मिलते ही फावड़ा, कुदाल और बेलचे से इस कब्र की खुदाई शुरू हो गई।

कब्र की खुदाई होने के बाद अधिकारियों के होश उड़ गए। प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो सोर्स – ट्ववीट, Indian Express

कब्रिस्तान में एक कब्र के पास कुछ अधिकारी खड़े थे। कुछ देर तक वो इस कब्र को निहारते हैं और फिर अचानक फावड़ा, कुदाल और बेलचा लेकर कुछ लोग इस कब्र को खोदने में लग जाते हैं। आखिर इस कब्र को खोदने के पीछे क्या माजरा था? क्या यह लोग कब्र के नीचे दफन किसी लाश को बाहर निकलना चाहते थे या फिर इस कब्र के अंदर था एक बहुत बड़ा रहस्य? रहस्य और सस्पेंस से भरी इस कहानी को सुनकर आप चौक जाएंगे। कहानी 28 जनवरी, 2019 को उस वक्त शुरू होती है जब आयकर विभाग को खबर मिलती है कि तमिलनाडु के मशहूर सवर्णा स्टोर, लोटस ग्रुप और ज़ी स्कवायर के मालिकों ने हाल ही में चेन्नई में 180 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी कैश देकर खरीदी है। आयकर विभाग को सूचना मिली की यह पूरी तरह से टैक्स चोरी का मामला है। इस दिन आयकर विभाग ने कई टीमें बनाकर चेन्नई, तमिलनाडु समेत कई जगहों पर छापेमारी की लेकिन उनके हाथ ना तो पैसे आए और ना हीं कोई कागज।

लेकिन आयकर विभाग की टीम ने हार नहीं मानी। वो लगातार इस केस में सूचनाएं जुटाती रही। रेड नाकामयाब होने के बाद विभाग की टीम ने चेन्नई की सड़कों पर लगे सैकड़ों सीसीटीवी कैमरे के फुटेज को देखा। टीम के अधिकारियों ने देखा कि एक उजले रंग की एसयूवी गाड़ी 28 जनवरी को दिन भर चेन्नई की सड़कों पर इधर-उधर घूमती रही। अधिकारियों को यह बात बड़ी अजीब लगी और उन्होंने तुरंत इस एसयूवी गाड़ी का पता लगाया और इसके ड्राइवर को धर दबोचा।

इसके बाद 7 फरवरी, 2019 को ड्राइवर की निशानदेही पर आयकर विभाग की टीम अचानक एक कब्रिस्तान में पहुंच गई। कब्रिस्तान में इस ड्राइवर ने अधिकारियों को एक कब्र की तरफ इशारा किया। इतना इशारा मिलते ही फावड़ा, कुदाल और बेलचे से इस कब्र की खुदाई शुरू हो गई। आयकर विभाग के अधिकारी, कर्मचारी और कुछ पुलिसवाले उस वक्त वहां मौजूद थे। कब्र की थोड़ी ही खुदाई करने के बाद सभी अधिकारियों के होश उड़ गए। दरअसल इस कब्र के नीचे कोई लाश दफ्न नहीं था बल्कि यहां गड़ा था खजाना। जानकारी के मुताबिक इस कब्र में 433 करोड़ रुपए छिपाए गए थे। इनमें नगद के अलावा सोने और हीरे भी थे।

इस ड्राइवर ने अधिकारियों को बताया कि वो पूरे दिन इस पैसे को लेकर गाड़ी में इधर-उधर भटकता रहा। अंत में जब उसे कहीं भी इन पैसों को छिपाने की जगह नहीं मिली तो उसने इस खजाने को कब्रिस्तान में दफ्न कर दिया। कहा जा रहा है कि यह पैसा सवर्णा स्टोर, लोटस ग्रुप और ज़ी स्कवायर के मालिकों का था। लेकिन छापेमारी के बाद इन सभी ने अपने पैसे इस ड्राइवर को ठिकाने लगाने के लिए दिए थे। (और…CRIME NEWS)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App