ताज़ा खबर
 

केरोसिन लैंप की रौशनी में की थी पढ़ाई, बिना कोचिंग IAS बने अंशुमन का सफर….

अंशुमन राज बिहार के बक्सर के रहने वाले हैं। अंशुमन की स्कूली पढ़ाई बक्सर के एक छोटे गांव से ही शुरू हुई।

IAS अंशुमन राज। फोटो सोर्स- सोशल मीडिया

अगर हम मन में अगर कुछ कर गुजरने की ठान लें औऱ अपने लक्ष्य के प्रति ईमानदारी से आगे बढ़ें तो सफलता को कदम चूमने से कोई नहीं रोक सकता। इस बात को सच साबित कर दिखाया है बिहार के IAS अंशुमान राज ने। मुश्किल परिस्थितियों से निकल कर एक प्रतिष्ठित ओहदे तक पहुंचने वाले अंशुमन राज की सफलता की कहानी काफी प्रेरणादायक है।

एक साधारण परिवार और बैकग्राउंड से आने वाले अंशुमन के पास कभी बहुत सुविधाएं नहीं रहीं पर अपनी कड़ी मेहनत और माता-पिता के आशीर्वाद से उन्होंने हर चुनौती का सामना किया। अंशुमन राज बिहार के बक्सर के रहने वाले हैं। अंशुमन की स्कूली पढ़ाई बक्सर के एक छोटे गांव से ही शुरू हुई। गांव में बिजली की स्थिति ठीक नहीं थी ऐसे में उन्होंने केरोसिन लैंप की रौशनी में पढ़ाई की थी। दसवीं तक की पढ़ाई गांव में करने के बाद अंशुमन बारहवीं के लिए जेएनवी रांची चले गये।

साल 2019 की यूपीएससी सीएसई परीक्षा में 107वीं रैंक के साथ टॉप करने वाले अंशुमन का यह दूसरा प्रयास था। इसके पहले भी उन्होंने एक अटेम्पट दिया था जिसमें उनका सेलेक्शन हो गया था लेकिन रैंक कम आने के कारण उन्हें इंडियन रेवेन्यू सर्विस एलॉट हुई थी। अंशुमन ने इस सर्विस को ज्वॉइन तो कर लिया था पर वह संतुष्ट नहीं थे और उनके दिमाग में हमेशा आईएएस ही घूमता रहता था। नतीजतन उन्होंने फिर से तैयारी की और साल 2019 की परीक्षा में 107वीं रैंक के साथ सेलेक्ट हुए जिसके तहत उन्हें उनका मनमाफिक आईएएस पद मिला।

एक साक्षात्कार में अपने अनुभव के बारे में बातचीत करते हुए अंशुमन ने कहा था कि कि अक्सर ये माना जाता है कि UPSC की तैयारी के लिए बड़े शहर में जा कर कोचिंग लेने से ही परीक्षा क्लियर हो सकती है। लेकिन ऐसा कुछ नहीं है। वह कहते हैं कि यदि आपके पास इंटरनेट सेवा है तो आप देश के किसी भी कोने में बैठ कर परीक्षा की तैयारी कर सकते है। वह बताते हैं कि उन्होंने अपने आखिरी तीन प्रयासों में तैयारी अपने गांव में रह कर ही की थी। इसी के साथ उन्होंने किसी भी कोचिंग क्लास को ज्वाइन नहीं किया था।

Next Stories
1 यूपी, बिहार की ट्रेनों में मचाती थीं लूटपाट, 11 महिला चोरों के गैंग को एक साथ पुलिस ने पकड़ा था…
2 विदेशी हथियार का जखीरा पकड़ा था, CBI में भी रहे; जानिए कौन हैं पश्चिम बंगाल के नए DGP नीरज पांडे
3 लिफाफा लेकर CMO पहुंचे थे घूस देने, IAS छवि भारद्वाज ने दर्ज करा दी थी FIR; दबंग अफसर की कहानी
ये  पढ़ा क्या?
X