scorecardresearch

वाराणसी: कॉलेज के क्लासरूम में मिले नरकंकाल का रहस्य गहराया, फॉरेंसिक टीम की जांच के बाद भी कई सवाल अनसुलझे

बता दें कि जेपी मेहता इंटर कालेज को कोरोना काल में बेघरों के लिए सेल्टर होम बनाया गया था। यहां पर शहर में भीख मांगने वालों और ऐसे लोगों को रखा गया था जिनका कोई ठिकाना नहीं है।

crime, crime news
सांकेतिक तस्वीर।

वाराणसी के एक प्राइवेट इंटर कॉलेज के क्लासरूम के अंदर से नरकंकाल मिलने के बाद से सनसनी फैल गई है। दरअसल वाराणसी के कैंट थाना क्षेत्र में स्थित है जेपी मेहता इंटर कॉलेज। इसी कॉलेज एक क्लासरूम में बेंच के नीचे से नरकंकाल बरामद हुई है। मरने वाला कौन है? ये कंकाल वहां कैसे पहुंचा? अभी इसके बारे में कोई भी जानकारी सामने नहीं आई है।

बताया जा रहा है कि कॉलेज के कुछ छात्र खेलते-खेलते अचानक पुराने भवन के एक क्लासरूम में पहुंच गए। क्लासरूम में रखे बेंच के अंदर एक नरकंकाल पर जब इन छात्रों की नजर पड़ी तब इनके होश उड़ गए। भयभीत छात्रों ने तुरंत इसकी जानकारी कॉलेज के शिक्षकों को दी और फिर स्थानीय पुलिस को भी इसकी जानकारी दी गई। जानकारी मिलते ही पुलिस दल-बल के साथ मौके पर पहुंच गई और छानबीन में छुट गई।

पुलिस ने फॉरेंसिक टीम की मदद से गहरी छानबीन की है। नरकंकाल को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। हालांकि इस नरकंकाल को लेकर अभी पुलिस के पास भी कोई ठोस जवाब नहीं है। इधर जानकारी मिली है कि पिछले साल इस कॉलेज को क्वारन्टीन सेंटर भी बनाया गया था। कॉलेज के प्रिंसिपल एक के सिंह ने खुद मीडिया से कहा है कि लॉकडाउन के दौरान स्कूल को बेघर और गरीबों के लिए आश्रयस्थल बनाया गया था। हो सकता उसी दौरान ये शव यहां आया हो। हालांकि सच क्या है यह पुलिस की जांच के बाद ही साफ होगा।

बता दें कि जेपी मेहता इंटर कालेज को कोरोना काल में बेघरों के लिए सेल्टर होम बनाया गया था। यहां पर शहर में भीख मांगने वालों और ऐसे लोगों को रखा गया था जिनका कोई ठिकाना नहीं है। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन और सार्वजनिक स्थानों पर सड़क किनारे पड़े रहने वाले लोगों को यहां लाकर रखा गया था। इनमें ज्यादातर ऐसे लोग भी थे जो पहले से बीमार थे।

[ie_dailtioymon id=x7z9tdg]

कॉलेज के क्लासरूम में नरकंकाल मिलने की खबर इलाके में आग की तरह फैल गई। खबर फैलने के बाद यहां लोग नरकंकाल को लेकर अपनी-अपनी तरह से कयास लगा रहे हैं। यह नरकंकाल महिला का है या फिर पुरूष का? अभी इसकी भी जांच चल रही है।

 

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X