ताज़ा खबर
 
title-bar

प्याले में भरकर पी जाती थी इंसानों का खून, 50 साल जेल में रहेगी खुद को ईश्‍वर बताने वाली वेश्या

बलिदान के नाम पर कई जिंदा लोगों की हत्या कर उनका दिल निकाल लिया गया। यह लोग यह सबकुछ धार्मिक प्रपंच के नाम पर करते थे और यह प्रपंच करने के लिए इन लोगों ने यहा गुफाएं भी बना रखी थीं।

यह महिला लहू की प्यासी थी। प्रतीकात्मक तस्वीर।

इंसानों के खून पीने वाले नर-पिशाचों की कहानियां आपने अपनी दादी-नानी से कई बार सुनी होगी। इनसे मिलती-जुलती कहानियां कई फिल्मों में भी दिखाई जा चुकी हैं। इन भयानक कहानियों को सुनकर यकीनन हमारे शरीर में एक सिहरन भी पैदा हो जाती है। हालांकि इन कहानियों का सच्चाई से अब तक कोई वास्ता नहीं रहा है। लेकिन आज हम आपको खून की प्यासी एक ऐसी महिला की रियल स्टोरी से रुबरु कराएंगे जो सचमुच इंसानों का खून पीने का शौक रखती थी। उसने अब तक कई लोगों को मारकर उनका खून पीया है। यह कहानी है मैक्सिको की रहने वाली मैगडालेना सोलिस की। मैगडालेना एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखती थी लिहाजा उसने पैसे कमाने की खातिर वेश्यावृत्ति का रास्ता चुना। यह भी कहा जाता है कि इस घिनौने धंधे में उसे ढकेलने वाले कोई और नहीं बल्कि उसका भाई इलेजर था।

लेकिन मैगडालेना की पहचान सिर्फ एक वेश्या के तौर पर नहीं थी बल्कि उसकी पहचान इंसानों का खून पीने वाली एक खूंखार औरत के तौर पर भी थी। सन् 1960 में सॉलिस और उसके ग्रुप के लोग मैक्सिको में दुष्कर्म, हत्या और टॉर्चर के पर्याय बन चुके थे। सन् 1963 में मैगडालेना एक ऐसे ग्रुप की लीडर बन गई थी जो पूजा-पाठ और धर्म के नाम पर इंसानों की बलि चढ़ाया करते थे। मैक्सिको के एक गांव में मैगडालेना और उसके साथियों ने लोगों में खौफ भर दिया था और इस गांव में जो लोग भी उनकी बातों को नहीं मानते थे उसकी जमकर पिटाई की जाती थी और उसकी हत्या भी कर दी जाती थी। मैगडालेना अपने शिकार की हत्या के बाद उसका खून बहाती थी ताकि वो इस गर्म खून को पी सके। मैगडालेना पर 8 लोगों की हत्या करने एवं उनका खून पीने का इल्जाम है हालांकि पुलिस का मानना है कि उसने 15 हत्याएं की हैं।

सन् 1960 में लोगों पर जुल्म ढाहने के लिए कुख्यात हरनानडेज ब्रदर्स ने मैक्सिको के एक छोटे से गांव येराब बुएना पर पूरी तरह अपना नियंत्रण स्थापित कर लिया था। हरनानडेज ब्रदर्स खुद को ईश्वर का दूत बताते थे और लोगों से जबरदस्ती पूजा-पाठ कराते तथा उन्हें अपना गुलाम बनाकर रखते थे। यह दोनों इसकी आड़ में यहां दुष्कर्म जैसी घिनौनी वारदात को अंजाम भी दिया करते थे। लेकिन जब एक दिन गांव वालों को इनकी कथनी-करनी से भरोसा उठ गया तो गांव वालों ने इनका विरोध कर दिया। हरनानडेज ब्रदर्स ने अपना अस्तित्व बचाए रखने के लिए एक ऐसे शख्स की तलाश शुरू कर दी जिसकी बदौलत वो गांव वालों को मूर्ख बना सकें और उनपर राज कर सकें।

पार्टनर की तलाश में हरनानडेज ब्रदर्स मैक्सिकन सिटी के मॉनटेरी पहुंचे, जहां उनकी मुलाकात यहां की मशहूर वेश्या मैगडालेना सोलिस से हुई। मैगडालेना और उसके भाई ने हरनानडेज ब्रदर्स को मदद देने का भरोसा दिलाया और दोनों उनके साथ येराब बुएना आ गए। हरनानडेज ब्रदर्स ने मैगडालेना को गांव वालों के सामने भगवान के रुप में पेश किया। कुछ मैजिक ट्रिक्स के जरिए हरनानडेज ब्रदर्स ने गांव वालों को भरोसा दिलाया कि मैगडालेना ईश्वर का रुप है और वो अब गांव वालों की सारी मनोकमानएं पूरी करेगी इसलिए उन्हें उसकी सेवा करनी चाहिए।

अंधविश्वास से बंधे इस गांव के लोग मैगडालेना को फरिश्ता समझने लगे और मैगडालेना भी यहां आकर खुद को भगवान समझने लगी। कहा जाता है कि मैगडालेना ने यहां लोगों पर कई जुल्म ढाए। वो गांव के लोगों का यौन शोषण करती, उन्हें पीटती और जो लोग उसकी बात नहीं मानते थे वो उनकी हत्या कर देती थी। वो गांव के लोगों की हत्या करने या उन्हें जिंदा जला देने का फरमान भी सुनाती थी। जल्दी ही मैगडालेना इंसानों के खून की प्यासी बन गई। वो मानने लगी कि इंसानों का खून पीने से उसे हमेशा ऊर्जा की प्राप्ति होगी।

हरनानडेज ब्रदर्स और मैगडालेना का भाई खुद को मैगडालेना का अनुयायी बताते थे। मैगडालेना की हुक्म पर इन लोगों ने कई लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी और जब अत्यधिक पिटाई की वजह से किसी शख्स का लहू बहता तो मैगडालेना उसे प्याले में भरकर पी जाती थी। कहा जाता है कि 2 महीनों में इन सभी ने मिलकर वहां कई हत्याएं की। जल्दी ही इन लोगों ने भक्ति के नाम पर गांव वालो के बलिदान का खेल भी शुरू कर दिया। बलिदान के नाम पर कई जिंदा लोगों की हत्या कर उनका दिल निकाल लिया गया। यह लोग यह सबकुछ धार्मिक प्रपंच के नाम पर करते थे और यह प्रपंच करने के लिए इन लोगों ने यहा गुफाएं भी बना रखी थीं।

साल 1963 में मई के महीने में 14 साल का एक लड़का सैबेस्टियन गुएरो इस इलाके में बनी कुछ गुफाओं में उत्सकुता वश घुसा। तब ही उसने सुना की एक गुफा के अंदर से चीखने की आवाज आ रही है। उसने देखा कि यहां मैगडालेना और उसके साथी इंसान के खून से एक खास तरह की पूजा कर रहे हैं। खौफनाक नजारा देख डरा सैबिस्टियन करीब 15 माइल दौड़ कर स्थानीय पुलिस स्टेशन पहुंचा। हालांकि जब घबराते हुए सैबेस्टियन ने पुलिस वालों को गुफा के अंदर के डरावने मंजर के बारे में बताया तो पुलिस वालों की उसकी बातों पर यकीन नहीं हुआ। थाने में एक पुलिस वाले ने सैबेस्टियन को सुरक्षित घर पहुंचाने की बात कही। लेकिन रास्ते में 14 साल के इस लड़के ने किसी तरह उस पुलिस वाले को उस गुफा तक चलने के लिए राजी किया जहां उसने खून पीते हुए इंसानों को देखा था। लेकिन इन गुफाओं में जाने के बाद सैबेस्टियन और उस पुलिस अफसर फिर कभी जिंदा नजर नहीं आए।

इसके बाद अचानक एक पुलिस वाले और बच्चे के गुम होने की खबर ने पुलिस के होश उड़ा दिए। पुलिस जल्दी ही उनकी तलाश में येरबा बुएना गांव पहुंची। यहां हरनानडेज ब्रदर्स के साथ पुलिस की मुठभेड़ हो गई और पुलिस ने इस मुठभेड़ में उन्हें मार गिराया। पुलिस ने यहां से सैबिस्टियन और उस पुलिस अधिकारी मार्टिनेज के शव भी बरामद कर लिए। पुलिस ने इन गुफाओं से छह अन्य लाशें भी बरामद की। पुलिस ने यहां से मैगडालेना और उसके भाई को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद मैगडालेना तथा उसके भाई इलेजर पर मुकदमा चलाया गया। अदालत ने इन दोनों को 50 साल जेल की सजा सुनाई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App