scorecardresearch

स्टार हॉकी खिलाड़ी बीरेंद्र लाकड़ा पर दोस्त की हत्या का आरोप, रह चुके हैं ओलंपिक पदक विजेता

Bhubaneswar: स्टार हॉकी खिलाड़ी बीरेंद्र लाकड़ा के दोस्त आनंद कथित तौर पर 28 फरवरी को करीब 10 बजे पटिया के इंफोसिटी इलाके में आयुष रेडियम में स्थित बीरेंद्र के फ्लैट नंबर 401 में मृत पाए गए थे।

स्टार हॉकी खिलाड़ी बीरेंद्र लाकड़ा पर दोस्त की हत्या का आरोप, रह चुके हैं ओलंपिक पदक विजेता
हॉकी खिलाड़ी बीरेंद्र लाकड़ा। (Photo Credit – Instagram/@birendra_26)

टोक्यो ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता और स्टार हॉकी खिलाड़ी बीरेंद्र लाकड़ा बड़ी मुश्किल में घिर गए हैं। वीरेंद्र पर अपने बचपन के दोस्त की हत्या में शामिल होने का आरोप है। यह आरोप उन्हीं के मृत दोस्त आनंद टोप्पो के पिता ने लगाए है। आनंद टोप्पो इस साल फरवरी में ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में रहस्यमय परिस्थितियों में अपने फ्लैट के अंदर मृत पाए गए थे।

पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, मृतक के पिता बंधन टोप्पो ने राज्य पुलिस पर भी लाकड़ा को बचाने का आरोप लगाया क्योंकि बीरेंद्र लाकड़ा डीएसपी के रूप में कार्यरत रहे। उस समय बताया गया था कि आनंद टोप्पो की मौत आत्महत्या से हुई थी। आनंद शादीशुदा थे और मृत्यु से करीब 16 दिन पहले ही शादी के बंधन में बंधे थे।

मृतक आनंद के पिता बंधन ने आरोप लगाया कि वह पिछले चार महीनों से भटक रहे हैं। बंधन ने कहा कि जब उन्हें राज्य की पुलिस से कोई मदद नहीं मिली तब उन्हें सार्वजनिक तौर पर बात रखने के लिए मजबूर होना पड़ा। बंधन टोप्पो ने कहा कि उनका परिवार और बीरेंद्र लाकड़ा पड़ोसी थे और आनंद उनके बचपन का दोस्त था।

बंधन टोप्पो ने पीटीआई को बताया कि बीते 28 फरवरी को उन्हें बीरेंद्र का फोन आया कि आनंद बेहोश है और वह उसे अस्पताल ले जा रहा है। फिर बाद में बीरेंद्र ने उन्हें बताया कि आनंद की मौत हो गई। इसके बाद जब वह अगले दिन भुवनेश्वर पहुंचे तो उन्हें पुलिस अधिकारी ने बताया कि आनंद ने आत्महत्या कर ली है। हालांकि, आनंद की तरफ से कोई सुसाइड नोट नहीं था।

बंधन ने कहा कि उन्हें काफी गुजारिश के बाद आनंद का शव दिखाया गया, जिसके गर्दन पर हाथ के निशान थे। हालांकि, पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी यह एक आत्महत्या थी। बता दें कि, आनंद कथित तौर पर 28 फरवरी को करीब 10 बजे पटिया के इंफोसिटी इलाके में आयुष रेडियम में स्थित बीरेंद्र के फ्लैट नंबर 401 में मृत पाए गए थे। घटना के वक्त बीरेंद्र लाकड़ा और मंजीत टेटे नाम की एक लड़की फ्लैट में मौजूद थी।

हालांकि, आनंद के पिता ने दावा किया कि मेरे बेटे की हत्या के दौरान फ्लैट में चार लोग थे। एक तीसरा व्यक्ति भी था जिसे अब बचाया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘मैं अपने बेटे के लिए न्याय चाहता हूं। मुझे ओडिशा पुलिस पर भरोसा नहीं है, क्योंकि बीरेंद्र एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रहे हैं और पुलिस अधिकारी भी है। ऐसे में वह जांच को प्रभावित कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम इस मामले में सीबीआई जांच चाहते हैं।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 29-06-2022 at 01:34:48 pm
अपडेट