ताज़ा खबर
 

Gujarat: दल‍ित होने के चलते मंद‍िर में घुसने से रोका, पुलिसवाले ने सुनाई आपबीती; पुजारी और रसोइए पर FIR दर्ज

Gujarat Dalit in Temple: पुलिसवाले ने अपनी शिकायत में कहा कि जब वह रात में खाना खाने गया तो मंदिर के रसोइए ने उसे दलित होने की वजह से मंदिर के बाहर खड़े होने को कहा।

Author द्वारका | Updated: November 6, 2019 4:04 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

गुजरात के एक मंदिर के पुजारी और उसके दो रसोइयों के खिलाफ पुलिस कॉन्‍स्‍टेबल ने एफआईआर दर्ज कराई है। उसका कहना है कि दलित होने की वजह से उसके साथ भेदभाव किया गया। पुलिसवाले का आरोप है कि उसे मंदिर की रसोई में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई और मंदिर से भी बाहर निकाल दिया। यह मामला देवभूमि द्वारका जिले का बताया जा रहा है। दोनों पुलिसकर्मियों ने ये बातें मामले की जांच कर रहे अधिकारियों को बताईं।

क्या है मामला: शनिवार को देवभूमि द्वारका जिले के भानवड पुलिस स्टेशन के 29 वर्षीय लोक रक्षक पुलिस कांस्टेबल जयेश खारा ने मोती गोप गांव के बाबूभाई पटेल, संजयभाई और हंसगिरी बापू के खिलाफ शिकायत दर्ज कराते हुए आरोप लगाया कि उन्होंने उनके खिलाफ भेदभाव किया। जब वह अपना खाना खाने के लिए मंदिर गए थे। शिकायत के आधार पर, जामजोधपुर पुलिस ने आईपीसी धारा 114 , 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान) और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत तीन लोगों पर एफआईआर को दर्ज की गई है।

पुजारी और रसोइया पर आरोप: हंसगिरि बापू, गोपीनाथ महादेव मंदिर के मुख्य पुजारी हैं, जो मोती गोप गांव के पास पहाड़ी पर स्थित है। बाबूभाई पटेल मंदिर के रसोई घर में रसोइया हैं और संजयभाई उनके सहायक हैं। शिकायतकर्ता खारा ने कहा कि घटना के दिन, वह जामनगर और देवभूमि द्वारका जिले की पुलिस के ऑटो-रिले केंद्र में तैनात थे, जो गोप पहाड़ी के ऊपर था। शुक्रवार रात को जब खारा मंदिर की रसोई से अपने सहयोगी गागिया के लिए टिफिन लेने गाया तो रसोइया पटेल ने उसकी जाति पूछी। जब उसे पता चला कि खारा दलित है तो पटेल और संजय ने उसे रसोई से बाहर निकालते हुए कहा कि वह मंदिर के बाहर जाकर खाने का इंतजार करे। इस दौरान पुजारी ने भी रसोइयों की बातों का समर्थन किया था।

शिकायत दर्ज, जांच शुरू: मामले में जामनगर जिले के पुलिस उप अधीक्षक (एससी / एसटी सेल) जिग्नेश चावड़ा ने कहा कि हमने मंगलवार को शिकायतकर्ता पुलिस कांस्टेबल के बयान को दर्ज किया। जिसमें  उन्होंने कहा कि उस दिन किसी मुद्दे पर पटेल और संजयभाई के साथ उनकी बहस हुई थी। इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उन्होंने आगे कहा कि उस बहस के दौरान, दोनों ने शिकायतकर्ता से उसकी जाति के बारे में पूछा था तब उन्हें पता चला कि वह एक दलित है। चावड़ा ने कहा कि वे चश्मदीद गवाहों के बयान दर्ज कर रहे हैं। आरोपियों के खिलाफ सबूत मिलने के बाद जाते हम उन्हें गिरफ्तार करने के की दिशा में आगे बढ़ेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 VIDEO: लड़कियों से बदसलूकी करने पर डांटा तो टीचर को लाठी-डंडों से पीटने लगे छात्र, स्कूल में भी की तोड़फोड़
2 Noida: 3 घंटे तक चक्कर लगवाते रहे जिला अस्पताल के डॉक्टर, 5 साल की मासूम ने पिता की गोद में तोड़ा दम
3 Telangana: 10 साल पहले बिकी जमीन अपने नाम कराना चाहता था आरोपी, मना किया तो महिला तहसीलदार को जिंदा फूंका