ताज़ा खबर
 

Gujarat: सवर्ण जाति के ससुराल वालों ने दलित दामाद को पीटकर मार डाला, देखते रहे अधिकारी!

पुलिस के मुताबिक हरीश सोलंकी अपनी पत्नी उर्मिलाबेन को लेने के लिए अपने ससुराल वालों को मनाने के लिए मंडल ताल्लुका के वरमोर गांव गया था। तभी वहां ससुराल पक्ष के आठ लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी।

Author अहमदाबाद | July 10, 2019 8:51 AM
प्रतीकात्मक फोटो (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

गुजरात के अहमदाबाद के एक गांव में 25 वर्षीय दलित व्यक्ति की उसकी पत्नी के रिश्तेदारों ने कथित रूप से हत्या कर देने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि उसकी पत्नी एक उच्च जाति से ताल्लुक रखती है। पुलिस के मुताबिक हरीश सोलंकी अपनी पत्नी उर्मिलाबेन को लेने के लिए अपने ससुराल वालों को मनाने के लिए मंडल ताल्लुका के वरमोर गांव गया था। तभी वहां ससुराल पक्ष के आठ लोगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। मृतक हरीश की पत्नी दो माह की गर्भवती है जो कि ऊंची जाति के दरबार समुदाय से आती है। इस मामले में उर्मिला के पिता दशरथसिंह को मुख्य आरोपी बनाया गया है।

पुलिस उपाधीक्षक (एससी/एसटी प्रकोष्ठ) पीडी मानवर ने बताया कि सोलंकी ने उर्मिला के माता-पिता की मर्जी के खिलाफ कुछ महीने पहले उससे शादी की थी और उसे कच्छ जिले के गांधीगाम ले गया था जहां वह अपने माता-पिता के साथ रहता है। मानवर ने बताया कि उर्मिला के रिश्तेदार उसे वापस ले लाए और कहा कि उसे कुछ हफ्तों बाद सोलंकी के पास वापस भेज देंगे, लेकिन जब उन्होंने करीब दो महीने तक उसे वापस नहीं भेजा तो सोलंकी ने अपने ससुराल वालों को मनाने के लिए उनके घर जाने का फैसला किया।उन्होंने बताया कि सोमवार को सोलंकी ने महिला हेल्पलाइन ‘अभयम 181’ की मदद ली और हेल्पलाइन की गाड़ी में सवार होकर वरमोर गया। पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि सोलंकी गाड़ी के अंदर ही रहा और हेल्पलाइन सेवा के अधिकारी उसके ससुराल वालों के घर गए तथा उर्मिला को वापस भेजने के लिए उन्हें समझाया। जब उर्मिला के रिश्तेदारों को पता चला कि सोलंकी अधिकारियों के साथ है तो वे घर से बाहर गए और धारदार हथियार से उसपर हमला कर दिया। पुलिस अधिकारी ने बताया कि हमले में सोलंकी के सिर और अन्य अंगों पर चोटें आईं और उसकी मौत हो गई।

National Hindi News, 10 July 2019 LIVE Updates: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

Bihar News Today 10 July 2019: बिहार की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

पुलिस उपाधीक्षक ने बताया कि ‘अभयम’ की गाड़ी भी हमले में क्षतिग्रस्त हुई है जबकि सोलंकी के साथ गए अधिकारी बच गए हैं। मानवर ने बताया कि सोलंकी के ससुराल वालों समेत आठ लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 (हत्या), 341 (गलत तरीके से रोकना), 353 (लोक सेवक को ड्यूटी करने से रोकने के लिए आपराधिक बल का इस्तेमाल), 147 (दंगा) और अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि आरोपी घटना के बाद से फरार हैं जिन्हें पकड़ने की कोशिश की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App