ताज़ा खबर
 

मुंह में कपड़ा ठूंस प्राइवेट पार्ट को पहुंचाया नुकसान, जंगल में निर्वस्त्र मिली महिला ने सुनाई भयानक दास्तान

इस दौरान इन सब ने मिलकर उसके शरीर के कई हिस्सों में उसे इंजेक्शन दिया और उसे कई जगहों पर सिगरेट से भी दागा। महिला ने आगे बताया कि इन लोगों ने उसके हाथ-पैर बांध दिए और उसके गुप्तांगों पर हमला किया।

नग्न हालत में महिला को छोड़ सभी वहां से फरार हो गए। प्रतीकात्मक तस्वीर।

इस युवती ने अपने ऊपर हुए जुल्म-ओ-सितम की जो कहानी पुलिस को सुनाई है वो काफी भयानक है। जयपुर के कानोता इलाके के सुनसान जंगल में पुलिस को यह युवती नग्न अवस्था में मिली थी। सबसे पहले पुलिस ने इस युवती को कपड़े देकर उसे संभाला और फिर इस युवती ने पुलिस के सामने बयां किया कि उसकी यह हालत कैसे हुई?। यह केस कानोता थाना क्षेत्र के आगरा रोड का है। 26 साल की इस युवती को सबसे पहले सड़क पर कुछ लोगों ने देखा था जिसके बाद उन्होंने पुलिस को इसकी जानकारी दी थी।

उस वक्त इस महिला के हाथ-पैर बंधे थे और वो किसी तरह रेंगते हुए सड़क पर आई थी। इस महिला ने इस बारे में पुलिस को विस्तार से बताया कि उसे पांच लोगों ने प्रताड़ित किया। दरअसल यह मामला पैसों के लेनदेन से जुड़ा है। जो बातें युवती ने पुलिस को बताई उसके मुताबिक फरवरी 2019 में उसकी मुलाकात दीपेश नाम के एक युवक से हुई थी। दीपेश ने उस वक्त खुद को मानवाधिकार आयोग का पदाधिकारी बताया था और कहा था कि कुछ समय पहले उसने ज्योति नगर में जो मुकदमा दर्ज कराया है वो इस मुकदमे में महिला की मदद करेगा। इसके एवज में दीपेश ने इस महिला से 50 हजार रुपए भी लिए थे। लेकिन बीते सोमवार (20 मई, 2019) को इस महिला को पता चला कि दीपेश मानवाधिकार आयोग का सदस्य नहीं है।

खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही महिला 21 मई, 2019 की रात करीब 9 बजे दीपेश से मिलने और अपना पैसा मांगने उसके घर पहुंची। महिला का कहना है कि उस वक्त दीपेश घर पर नहीं था और उसकी मुलाकात उसके परिजनों से हुई। लेकिन बातचीत के दौरान किसी ने पीछे से उसकी सिर पर किसी भारी वस्तु से हमला किया और वो बेहेश हो गई। इसके बाद होश आने पर उसने खुद को एक कमरे में पाया। महिला ने बताया कि इस कमरे में दीपेश, कपिल और दो अन्य लोग मौजूद थे। यह सब किसी चिकित्सक अनुराग से फोन कर उसे मारने की योजना बना रहे थे।

इस दौरान इन सब ने मिलकर उसके शरीर के कई हिस्सों में उसे इंजेक्शन दिया और उसे कई जगहों पर सिगरेट से भी दागा। महिला ने आगे बताया कि इन लोगों ने उसके हाथ-पैर बांध दिए और उसके गुप्तांगों पर हमला किया। इतना ही नहीं मुंह में कपड़ा ठूस, उसके चेहरे को प्लास्टिक के थैली से बांध दिया और उसके सारे कपड़े उतारकर उसे जंगल में फेंक कर फरार हो गए। महिला के मुताबिक वो किसी तरह रेंग कर वीराने जंगल से बाहर आई। महिला की आपबीती सुनने के बाद पुलिस ने इस मामले में कपिल, दीपेश, डॉक्टर अनुराग समेत दो अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।

इधर इस महिला के बारे में यह भी पता चला है कि पहले भी बगरू थाने और ज्योति नगर थाने में वो अपने खिलाफ दुष्कर्म का केस दर्ज करवा चुकी है। बहरहाल इस मामले में पुलिस सभी एंगल से जांच कर रही है। (और…CRIME NEWS)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X