ताज़ा खबर
 

नोएडा: ‘गे’ सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, समलैंगिक संबंध बनाने के लिए ऐप के जरिए बुलाते थे ग्राहक

गिरोह के सरगना आरोपी विशाल की 'ग्रिंडर' ऐप पर पांच महीने पहले पीड़ित से मुलाकात हुई थी। उस दौरान दोनों ने सहमति से संबंध बनाए थे।

Author Updated: September 16, 2019 9:24 AM
पुलिस के मुताबिक यह बदमाश इलेक्ट्रिक शॉक भी देते थे। प्रतीकात्मक तस्वीर।

नोएडा में पुलिस ने ‘गे सेक्स’ रैकेट का पर्दाफाश किया है। इस रैकेट में शामिल लोग ग्राहकों को समलैंगिक संबंध बनाने के लिए ऐप से बुलाते थे। हैरानी की बात है कि यह लोग समलैंगिक लोगों को झांसा देकर कई बार लूटपाट भी करते थे। पुलिस ने गिरोह के सरगना समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपी ‘ग्रिंडर’ नाम की समलैंगिक मोबाइल ऐप पर पंजीकृत समलैंगिकों को अपने जाल में फंसाता थे और संबंध बनाने के बदले रुपए लेते थे।

आरोप है कि मनचाही रकम नहीं मिलने पर गिरोह के सदस्य सेंसर युक्त टार्च से इलेक्ट्रिक झटका देकर लूटपाट भी करते थे। आरोपियों ने चार सिंतबर को थाना फेज-2 इलाके स्थित एक नामी कंपनी के स्टोर प्रबंधक को समलैंगिक संबंध बनाने का झांसा देकर बुलाया और रुपए नहीं देने पर लूटपाट की। थाना फेज दो पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से एक कार और इलेक्ट्रिक टार्च बरामद हुई है। मामले में शामिल एक आरोपी फरार है।

एसपी सिटी विनीत जायसवाल ने बताया कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट में रहने वाले पीड़ित ने पांच सितंबर को थाना फेज दो में लूटपाट का मामला दर्ज कराया था। वह फेज दो औद्योगिक क्षेत्र स्थित एक कंपनी में प्रबंधक पद पर तैनात हैं। पीड़ित के मुताबिक 4 सितंबर की शाम करीब सात बजे लिफ्ट देकर बदमाशों ने 12,500 रुपए और मोबाइल फोन लूट लिया। विरोध करने पर उनसे मारपीट की गई और टॉर्च से इलेक्ट्रिक झटके भी दिए गए।

फेज दो पुलिस ने रविवार (15-09-2019) सुबह मुख्य आरोपी विशाल और उसके साथी शहजाद तथा राहुल को गिरफ्तार किया। विशाल बुलंदशहर के गुलावठी का है, जबकि राहुल व शहजाद मेरठ के रहने वाले हैं। गिरोह का चौथा आरोपी अंकुर फरार है। पुलिसिया पूछताछ में आरोपियों ने समलैगिंक संबंध बनाने का झांसा देकर लूटपाट करना कबूल किया है।

गिरोह के सरगना आरोपी विशाल की ‘ग्रिंडर’ ऐप पर पांच महीने पहले पीड़ित से मुलाकात हुई थी। उस दौरान दोनों ने सहमति से संबंध बनाए थे। इसके बदले पीड़ित ने विशाल को रुपए के साथ दावत भी दी थी। विशाल के साथी शहजाद, राहुल और अंकुर ने भी पीड़ित से समलैंगिक संबंध बनाने की इच्छा जताई।

इसके बाद चारों ने योजना के तहत पीड़ित से ऐप पर संपर्क किया। चार सितंबर की शाम सभी मिले। आरोपियों ने पीड़ित को अपनी कार में बैठा लिया और रुपए मांगने लगे। रुपए नहीं देने पर सेंसर युक्त टॉर्च से इलेक्ट्रिक शॉक दिए और डेबिट कार्ड की पिन पूछकर रुपए निकालने के बाद फरार हो गए। बहरहाल अब आरोपियों को पकड़ने के बाद पुलिस कानूनी कार्रवाई में जुटी है। (और…CRIME NEWS)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अनाथ बच्चों के साथ घूमने गए थे आश्रम संचालक, भीड़ ने बच्चा चोर समझ कर दी धुनाई
2 मुजफ्फरपुर Shelter Home की पीड़िता को चलती कार में खींचा, फिर 4 लोगों ने मिलकर किया गैंगरेप
3 6 माह पहले महिला के साथ हुआ था बलात्कार, रोड एक्सीडेंट के बाद हुआ खुलासा, FIR दर्ज