परमबीर सिंह की नहीं कोई खोज खबर, जांच एजेंसियों को शक- देश छोड़कर रूस भागे

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह से जुड़े मामलों की पड़ताल कर रही जांच एंजेसियों के पास कोई जानकारी नहीं है कि आखिर वह कहां हैं?

Param Bir Singh
मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (फाइल/इंडियन एक्सप्रेस)

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह से जुड़े मामलों की पड़ताल कर रही जांच एंजेसियों के पास कोई जानकारी नहीं है कि आखिर वह कहां हैं? महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल ने गुरुवार को कहा कि राज्य सरकार या जांच एजेंसियों को मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह के ठिकाने की जानकारी नहीं है। परमबीर सिंह के रूस में होने की अफवाहों पर मीडिया से चर्चा करते हुए पाटिल ने कहा कि सिंह को जांच एजेंसियों से जुड़े अधिकारियों की तरफ से कई बार नोटिस जारी किए जा चुके हैं लेकिन वह पेश नहीं हुए हैं, अब उनके खिलाफ एक लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया है।

महाराष्ट्र के गृह मंत्री ने कहा कि मैंने उनके बारे में ऐसा कुछ सुना है कि वह देश से बाहर हैं लेकिन उम्मीद करता हूं कि सरकारी अधिकारी होने के नाते वह बिना सरकारी मंजूरी के विदेश नहीं गए होंगे। फिलहाल उनके ठिकानों की तलाश की जा रही है। उन्होंने कहा कि हमने लुकआउट सर्कुलर (एलओसी) जारी किया है लेकिन वह देश छोड़कर भाग गए हैं तो यह अच्छी बात नहीं है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वह आखिरी बार अप्रैल महीने में देखे गए थे और सरकार ने उनसे अगस्त महीने में आखिरी बार बात की थी। सुनवाई के दौरान उनके वकील पेश हो रहे थे। परमबीर सिंह का नाम एंटीलिया मामले में सामने आने के बाद उन्हें होमगार्ड डिपार्टमेंट में भेज दिया गया था। 22 मार्च को उन्होंने अपना पदभार संभाला था लेकिन 5 मई से वह स्वास्थ्य कारणों का हवाला देकर छुट्टी पर चले गए थे और इसके बाद वह अपनी छुट्टी लगातार बढ़ाते चले गए।

नोटिस भेजने के बावजूद जब वह हाजिर नहीं हुए तो अधिकारियों ने सिंह के मुंबई, चंडीगढ़ और रोहतक स्थित आवासों का दौरा किया, वह वहां नहीं मिले, ऐसे में जब उनका फोन लगाया गया तो वह भी स्विच ऑफ मिला है। गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल ने कहा कि एक सरकारी अधिकारी होने के चलते, परमबीर बिना जानकारी के देश छोड़कर नहीं जा सकते हैं, अगर ऐसा करते हैं तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि परमबीर सिंह के खिलाफ 5 मामले दर्ज हैं, जिसमें से एक की जांच मुंबई पुलिस, एक की ठाणे पुलिस और बाकी के तीन मामलों की जांच स्टेट सीआईडी कर रही है। परमबीर सिंह महाराष्ट्र में उस वक्त सुर्खियों में दिखाई देने लगे थे, जब उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक लेटर लिखकर गृहमंत्री अनिल देशमुख पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। जिसके बाद हुए सियासी बवाल के बाद उन्हें पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट