ताज़ा खबर
 

नाबालिग के रेप पर पंचायत ने बंद किया हुक्कापानी, सुनाया तुगलकी फरमान- ‘बेटी को शुद्ध करना है तो गांववालों को भोज दो’

जनवरी महीने में जब 16 वर्षीय लड़की अपने घर आ रही थी तो पहले से घात लगाए एक युवक ने उसे दबोच लिया और रेप किया। घटना के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।

Author भोपाल | June 14, 2019 7:52 PM
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

मध्य प्रदेश के राजगढ़ में नाबालिग के साथ रेप होने पर पंचायत द्वारा पीड़ित परिवार का हुक्का-पानी बंद करने का तुगलकी फरमान जारी करने का मामला सामने आया है। पीड़िता के पिता ने आरोप लगाया कि उसकी बेटी के साथ नीची जाति के व्यक्ति ने रेप किया था। इसके बाद पंचायत ने बेटी की शुद्धि के लिए गांववालों को भोज कराने का आदेश दिया। भोज देने में सक्षम न होने की वजह से वह ऐसा नहीं कर सके। इसके बाद पंचायत ने पीड़िता के परिवार का हुक्का-पानी बंद कर दिया है। न तो उस परिवार को कोई समारोह में बुलाता है और न हीं उसके घर कोई जाता है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में जिला प्रशासन का कहना है कि शुरूआती जांच में पीड़िता के पिता का आरोप गलत दिख रहा है। इसमें किसी ग्रामीण की संलिप्तता सामने नहीं आयी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जनवरी महीने में जब 16 वर्षीय लड़की अपने घर आ रही थी तो पहले से घात लगाए एक युवक ने उसे दबोच लिया और रेप किया। घटना के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। उसके बाद भी पीड़िता के घरवालों की परेशानी कम नहीं हुई। पीड़िता के पिता ने बताया, “उस घटना के बाद मुझे भंडारा कराने को कहा गया, लेकिन मेरे पास पैसे नहीं हैं। वे हमें किसी समारोह में नहीं बुलाते हैं। हमसे बात नहीं करते हैं। यदि मुझे सहायता नहीं मिली तो मैं नहीं बचूंगा।” लड़की के पिता ने गुरुवार को स्थानीय महिला और बाल विकास अधिकारियों के समक्ष शिकायत दर्ज करवायी है।

एक अधिकारी ने बताया, “उन्होंने महिला और बाल विकास अधिकारी को एक आवेदन दिया है लेकिन डब्लूसीडी, रेवेन्यू और पुलिस की टीम ने गांव में पहुंच जांच की तो पाया कि उन्होंने आपस में एक धार्मिक समारोह आयोजित करने और प्रसाद बांटने का फैसला किया है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X