ताज़ा खबर
 

ई कॉमर्स कंपनी को लौटाया नकली आईफोन, बॉडी बिल्डर गिरफ्तार

इस घटना में राठौड़ ने जून के पहले हफ्ते में पोर्टल को दो आईफोन और जेबीएल स्पीकर का ऑर्डर दिया था। उसने ने डिलीवरी के लिए 7 जून की तारीख दी, लेकिन फिर अगले ही दिन ऑर्डर भेज दिया गया।

ई कॉमर्स कंपनी को लौटाया नकली आईफोन, बॉडी बिल्डर गिरफ्तार

मुंबई में धोखाधड़ी के मामले में एक युवा बॉडी बिल्डर को गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि आरोपी बॉडी बिल्डर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतियोगिताओं में सम्मान हासिल कर चुका है। दरअसल इस बॉडी बिल्डर ने हाल ही में एक ई कॉमर्स कंपनी को धोखा दिया था। आरोपी की गिरफ्तारी इसलिए हुई कि उसने अपने प्रॉडक्ट को सस्ती कीमत पर बेचा और उसे वापस ले लिया। वहीं इस घटना में आरे पुलिस का कहना है कि लकी राठौड़ (22) ने डिलीवरी बॉय किशोर कोल्हे के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया। जिसे बाद में गिरफ्तार भी क्या गया। हालांकि दोनों आरोपी अभी जमानत पर बाहर हैं।

इस घटना में राठौड़ ने जून के पहले हफ्ते में पोर्टल को दो आईफोन और जेबीएल स्पीकर का ऑर्डर दिया था। उसने ने डिलीवरी के लिए 7 जून की तारीख दी, लेकिन फिर अगले ही दिन ऑर्डर भेज दिया गया। जिसके बाद राठौड़ ने उस आइटम को लाने से इन्कार कर वापस भेज दिया। फिर 10 जून को कंपनी का टीम लीडर रिजेक्टेड आइटम्स को देख रहा था तो राठौड़ द्वारा वापस किए गए आइटम को देखा, जिसका पैक बंद था। यह देखकर वह हैरान में पड़ गया। उसने कंपनी के संबंधित विभाग को इस संबंध बारे में मेल किया। टीम ने पाया कि पैकेट में आईफोन की जगह एक सस्ता हैंडसेट था। इसके बाद एक दूसरे डिलीवरी बॉय, अक्षय गायकवाड़ ने टीम लीडर को फोन किया और एक ग्राहक के बारे में संदेह व्यक्त किया। साथ ही वह बताया कि ग्राहक उसे सामान की डिलीवरी के लिए अलग-अलग पते भेजकर गुमराह कर रहा था।

टीम लीडर ने उसे यह कहकर वापस भेज दिया कि ये बात किसी को नहीं बतानी है। कुछ समय बाद गायकवाड़ ने उसे ग्राहक के कार में घूमता पाया। जिसके बाद टीम लीडर ने उसे उसके (ग्राहक) साथ तुरंत आरे थाने बुलाया। जिसके बाद पुलिस ने ग्राहक को हिरासत में ले ली। उसकी पहचान राठौड़ के रूप में हुई। पूछताछ के दौरान राठौड़ ने पुलिस को बताया कि उसने अलग-अलग पते पर तानिया, लक्श, लकी जैसे विभिन्न नामों के तहत इलेक्ट्रॉनिक्स का ऑर्डर दिया। फिर वह अपने ऑर्डर को स्विच कर पैक को फिर से भेजता।

इस काम के लिए कोल्हे को 10 फीसदी कमीशन भी मिलता था। बता दें कि दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी के आरोप में मामला दर्ज किया गया था। वहीं इस धोखाधड़ी के मामले में राठौड़ के वकील विपिन दुबे ने कहा कि उनका मुवक्किल निर्दोष था। उसे कंपनी के डिलीवरीबॉय द्वारा किए गए अपराध के लिए उसे फंसाया गया था। इस संबंध में पुलिस का कहना है कि राठौड़ एक जिम प्रशिक्षक के रूप में काम करता था, जब उसे गिरफ्तार किया गया था। उन्हें एक मजिस्ट्रेट अदालत ने 30,000 रुपये की जमानत पर रिहा कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Ghaziabad: कहासुनी हुई तो भड़क गया युवक, बाइक से निकाला पेट्रोल और मां पर छिड़ककर लगा दी आग
2 गाने की शूटिंग के लिए बुलाकर डायरेक्टर ने युवती से किया दुष्कर्म
3 दिल्ली: स्कूल में बच्चों को छोड़ SUV से घर लौट रही थी महिला, बदमाशों ने दिनदहाड़े मारी गोली
ये पढ़ा क्या?
X