ताज़ा खबर
 

यह है 250 से ज्यादा लोगों का कातिल ‘डॉक्टर डेथ’, 1 लाख पाउंड के लिए जेल में रची थी खुदकुशी की साजिश

साल 2000 में उम्र कैद की सजा सुनाई गई। लेकिन हारोल्ड ने 13 जनवरी 2004 यानी अपने 58वें जन्मदिन पर जेल में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी।

सीरियल किलर डॉक्टर हारोल्ड शिपमैन।

आज आपको ऐसे सीरियल किलर के बारे में बता रहे हैं जिसके सामने बड़े से बड़ा जुर्म भी छोटा लगेगा। हम बात कर रहे हैं सीरियल किलर हारोल्ड शिपमैन की। हारोल्ड शिपमैन ने 250 से ज्यादा मरीजों का कत्ल किया था। शिपमैन के क्राइम का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसे ‘द एंजेल ऑफ डेथ’ और ‘डॉक्टर डेथ’ के नाम से जाना जाता था।

इंग्लैंड के नॉटिघंम में 14 जनवरी 1946 को जन्में हारोल्ड शिपमैन पेशे से एक डॉक्टर था। डॉक्टर्स को जीवन दान देने वाला भी कहा जाता है लेकिन उसी पेशे को हारोल्ड ने दागदार कर दिया। अपने पेशे का गलत फायदा उठाते हुए उसने 250 से ज्यादा मरीजों को मौत के घाट उतार दिया। हारोल्ड शिपमैन ने साल 1970 से डॉक्टरी की प्रैक्टीस शुरू की थी और 1998 तक उसने 250 लोगों की जान ले ली थी। हारोल्ड का पहला शिकार साल 1970 में एक 72 साल की महिला को बनाया था।

हारोल्ड ज्यादातर महिलाओं को ही अपना शिकार बनाता था और बाद में सभी के अंतिम संस्कार में भी शामिल होता था। हारोल्ड कत्ल करने के लिए मरीजों को ड्रग देता था। अफीम का ओवरडोज देकर मरीजों को मौत के घाट उतार देता था। अफीम से मरीजों की मौत की वजह का पता नहीं चलता था। कहा जाता है कि हारोल्ड की मां लंग कैंसर की वजह से मर गई। हारोल्ड को मां की मौत का गहरा सदमा लगा था जिसके बाद वो हत्यारा बन गया।

24 जून 1998 को एक 81 साल की महिला की मौत के बाद डॉक्टर हारोल्ड के जुर्म का पर्दाफाश हुआ था। लेकिन पुलिस के पास हारोल्ड के खिलाफ केवल 15 हत्याओं का ही सबूत था। इसलिए उसे साल 2000 में उम्र कैद की सजा सुनाई गई। लेकिन हारोल्ड ने 13 जनवरी 2004 यानी अपने 58वें जन्मदिन पर जेल में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी।


‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबित हारोल्ड ने खुदकुशी इसलिए की ताकि उसकी पत्नी प्राइमोर्स को उसकी पेंशन की रकम मिल सके। बता दें कि हारोल्ड की मौत के बाद उसकी पत्नी को 100,000 पाउंड मिल सकते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक हारोल्ड ने अपनी खुदकुशी का प्लान दो हफ्ते पहले तब बनाया था जब उसकी पत्नी उससे मिलने जेल आई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App