ताज़ा खबर
 

दिल्ली पुलिस का अफसर बनकर एनजीओ चलाने वाले किन्नर के साथ किया कुकर्म

किन्नर ने पुलिस से आरोप लगाया कि तीन लोगों ने उसके घर में घुसकर उससे लूटपाट की और फरार हो गए। एक शख्स ने उससे कुकर्म किया जबकि दो लोग दिल्ली पुलिस के अधिकारी होने का दावा कर रहे थे। पुलिस ने मामले के तीनों ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

दिल्ली में एनजीओ चलाने वाली किन्नर के साथ कुकर्म का मामला सामने आया है। किन्नर ने पुलिस से आरोप लगाया कि तीन लोगों ने उसके घर में घुसकर उससे लूटपाट की और फरार हो गए। एक शख्स ने उससे कुकर्म किया जबकि दो लोग दिल्ली पुलिस के अधिकारी होने का दावा कर रहे थे। पुलिस ने मामले के तीनों ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़िता किन्नर ने पुलिस को बताया कि मामला सोमवार (3 सितंबर) की दोपहर का है। किन्नर ने बताया कि वह एनजीओ भी चलाती है और इलाके में प्रसिद्ध भी है। शिकायत में उसने लिखा कि उससे दोपहर में करीब 3 बजे के आसपास एक शख्स मेरे घर पहुंचा। उसने कहा कि वह उससे एनजीओ से संबंधित मामले पर बातचीत करना चाहता है। किन्नर ने उसे अंदर आने के लिए कहा। शिष्टाचार के तहत किन्नर ने उससे चाय के लिए पूछा। आने वाले ने चाय के लिए हामी भर दी।

किन्नर ने अपनी शिकायत में लिखा है कि जैसे ही मैं चाय बनाने के लिए किचन में गई, उसके घर में दो लोग और आकर बैठ गए। जब मैंने पूछा कि ये दोनों लोग कौन हैं? आरोपी ने उनका परिचय दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के तौर पर करवाया। मैंने कुछ गलत महसूस किया और उन लोगों को फिलहाल जाने और बाद में आने के लिए कहा। इस पर वह शख्स उठा और उसने मुझे दीवार की तरफ धक्का दे दिया। किन्नर का आरोप है कि आरोपी शख्स ने इसके बाद उसके साथ कुकर्म भी किया। पीड़िता किन्नर का आरोप है कि उन्होंने उसे धमकाया कि अगर उसने 50 हजार रुपये नहीं दिए तो वह उसे झूठे मामले में फंसा देंगे। जब उसने चिल्लाने की कोशिश की तो आदमी उसकी स्कूटी और पैसों से भरा बैग लेकर भाग गया।

पुलिस ने बताया कि किन्नर ने तत्काल पुलिस स्टेशन पहुंचकर मामले की शिकायत दर्ज करवाई। पुलिस ने भादवि की धारा 452, 392, 397 और 377 के तहत मामला दर्ज करके आरोपियों की तलाश शुरू कर दी। इसी बीच एक पेट्रोलिंग टीम को यमुना खादर इलाके के पास खड़ी एक आई-10 कार दिखी। कार में बैठे लोगों का व्यवहार संदिग्ध देखकर सिपाही उन्हें लेकर थाने आ गए। जहां शिकायतकर्ता किन्नर पहले से मौजूद थी। किन्नर ने उन्हें देखते ही पहचान लिया। पुलिस ने किन्नर से चुराए गए सभी सामानों को आरोपियों के पास से बरामद कर लिया। आरोपियों की पहचान निखिल वर्मा (23), राहुल राज(28) और हिमांशु (26) के तौर पर हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App