ताज़ा खबर
 

कुरआन पढ़ने गई, थप्पड़ मार किया बेहोश, फिर हत्या कर सूटकेस में डाल फेंक दिया बच्ची का शव

कड़ी पूछताछ में दंपत्ति ने माना की 22 अक्टूबर को लड़की उनके घर पढ़ने आई थी। इस वक्त राजू मचान से समान उतार रहा था, जो लड़की के सिर में लग गया। चोट लगने से वह रोने लगी तो राजू ने उसे जोरदार थप्पड़ मार दिया और लड़की बेहोश हो गई। इसके बाद दोनों ने लड़की को अपने दूसरे घर में पांच दिनों तक बंधक बनाकर रखा।

चित्र का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है

दिल्ली पुलिस ने हत्या की उस गुत्थी को सुलझा लिया जब पिछले दिनों सूटकेस में एक नाबालिग लड़की का शव मिलने से राजधानी के तिमारपुर इलाके में सनसनी मच गई। खबर के मुताबिक 11 साल की लड़की (जांच में उम्र 14 साल पता चली।) की हत्या उसे ट्यूशन पढ़ाने वाली टीचर और उसके पति ने की है। पुलिस ने आरोपियों की पहचान रजब उर्फ राजू (35) और उसकी पत्नी रुखसार (32) के रूप में की है। रुखसार आठ माह की गर्भवती भी है, जो बच्चों को कुरआन पढ़ना सिखाती है। पुलिस के मुताबिक 22 अक्टूबर को ट्यूशन पढ़ने आई लड़की को रुखसार के पति ने इतना जोरदार थप्पड़ मार दिया कि वो बेहोश हो गई। दोनों ने लड़की को पांच दिन तक घर में बंधक बनाकर रखा। बाद में गला दबाकर उसकी हत्या कर दी और शव सूटकेस में डाल ठिकाने लगा दिया। इस मामले में केस वेलकम थाने में दर्ज किया गया था। जांच में यह भी पता चला है कि हत्या का मुख्य आरोपी राजू साल 2005 में अपनी सौतेली मां की हत्या कर चुका है।

मामले में डीसीपी (नॉर्थ-ईस्ट) अतुल कुमार ने बताया कि 27 अक्टूबर को लड़की का शव तिमारपुर इलाके में पड़े सूटकेस में मिला था। लड़की 22 अक्टूबर को कुरआन सीखने के लिए घर से निकली थी। बहुत देर तक वह घर वापस नहीं लौटी तो परिजनों ने वेलकम थाने में शिकायत दर्ज कराई। पड़ताल में पुलिस कुरआन पढ़ाने वाली महिला पर शक हुआ। बाद में पूरी सच्चाई भी सामने आ गई। वेलकम में रहने वाली लड़की सुबह करीब साढ़े दस बजे इस्लामिक शिक्षा हासिल करने के लिए घर से निकली। मगर दोपहर एक बजे तक भी वह घर वापस नहीं लौटी। परिजन टीचर के घर पहुंचे तो बताया गया कि वो तो वापस जा चुकी, लेकिन जांच में आरोपी के घर से नींद की गोलियां और रूमाल मिलने से शक की सुई गहराने लगी। बीते बुधवार को एफएसएल टीम ने आरोपी दंपत्ति के घर जाकर अन्य सबूतों को इकट्ठा करना शुरू किया।

कड़ी पूछताछ में दंपत्ति ने माना की 22 अक्टूबर को लड़की उनके घर पढ़ने आई थी। इस वक्त राजू मचान से समान उतार रहा था, जो लड़की के सिर में लग गया। चोट लगने से वह रोने लगी तो राजू ने उसे जोरदार थप्पड़ मार दिया और लड़की बेहोश हो गई। इसके बाद दोनों ने लड़की को अपने दूसरे घर में पांच दिनों तक बंधक बनाकर रखा। इस दौरान जब वो होश में आती तो दूध में नींद की गोलियां खिला देते। आखिर में लड़की से छुटकारा पाने के लिए उसकी हत्या कर दी गई।

Next Stories
1 बॉक्सर ने पहले विरोधी की गर्लफ्रेंड से संबंध बनाएं, फिर चाकू मारकर कर दी हत्या
2 पैरों से घुंघरू उतार हाथों में थमा दी बंदूक, बिस्मिल के शहर की लड़की ऐसे बन गई सबसे खूंखार डकैत
3 नाली में डुबोकर मारता था, निकलने पर हथौड़े से कुचल देता था, ये सीरियल किलर
आज का राशिफल
X