scorecardresearch
Premium

Delhi: हजारों रुपए में बेचे-खरीदे जा रहे कॉल रिकॉर्ड, ऐसे पुलिस के हत्थे चढ़ा प्राइवेट डिटेक्टिव एजेंसी का एजेंट

Delhi: दिल्ली में कॉल डिटेल रिकॉर्ड की खरीद-फरोख्त करने वाले गैंग का खुलासा हुआ है। पुलिस के अनुसार, गैंग से जुड़ा एक एजेंट पैसे लेकर कॉल डिटेल रिकॉर्ड (CDR) और अन्य जानकारी प्रोवाइड करा रहा था।

Delhi: हजारों रुपए में बेचे-खरीदे जा रहे कॉल रिकॉर्ड, ऐसे पुलिस के हत्थे चढ़ा प्राइवेट डिटेक्टिव एजेंसी का एजेंट
तस्वीर का इस्तेमाल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (Photo Credit – Pixabay)

Delhi Police: दिल्ली में लोगों की जासूसी करने वाले गैंग का खुलासा हुआ है। यह गैंग प्राइवेट डिटेक्टिव एजेंसी के नाम पर कॉल डिटेल रिकॉर्ड (CDR) और अन्य जानकारी प्रोवाइड करा रहा था। पुलिस ने इस गैंग के एक जासूस को गिरफ्तार किया है। इस जासूस पर अवैध रूप से कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) हासिल करने और उन्हें लोगों को बेचने का आरोप है। हालांकि, पुलिस अभी इस पूरे मामले में अन्य आरोपियों की संलिप्तता की भी जांच कर रही है।

Continue reading this story with Jansatta premium subscription
Already a subscriber? Sign in

CDR की खरीद-फरोख्त के आरोप में एजेंट गिरफ्तार

इस मामले में दिल्ली पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि मंगलवार को कहा कि एक प्राइवेट डिटेक्टिव एजेंसी के 22 वर्षीय फील्ड एजेंट को अवैध रूप से कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) हासिल करने और उन्हें लोगों को बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार हुए आरोपी की पहचान पवन कुमार के रूप में हुई है।

नकली ग्राहक बन पुलिस ने दबोचा

पुलिस ने इस जासूस को पकड़ने के लिए एक योजना बनाई, जिसमें एक पुलिसकर्मी को ग्राहक बनाकर पवन के पास भेजा गया था। पुलिसकर्मी ने आरोपी पवन से सीडीआर खरीदने को लेकर बात की। पुलिसकर्मी जब आरोपी पवन की कॉल डिटेल रिकॉर्ड की खरीद-फरोख्त की बात से आश्वस्त हो गया तो उसे दबोच लिया गया।

Delhi Police को मुखबिर से मिली थी सूचना

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कहा कि आरोपी कथित तौर पर एक प्राइवेट डिटेक्टिव एजेंसी की मिलीभगत से काम कर रहा था। बताया जा रहा है कि पुलिस आरोपी के सिंडिकेट और इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर के रोल की भी जांच कर रही है। पुलिस ने कहा कि उन्हें एक मुखबिर से सूचना मिली थी कि एक अज्ञात शख्स सीडीआर खरीद रहे हैं और उन्हें बेच रहे हैं।

DCP ने बताया- 25 हजार में तय हुआ था सौदा

डीसीपी (आउटर) बृजेंद्र कुमार यादव ने कहा, “नकली ग्राहक के रूप में पुलिस ने इस संबंध में कार्रवाई की है। पुलिसकर्मी ने आरोपी से मुलाकात की और फिर मोबाइल फोन से जुड़े कॉल रिकॉर्ड देने के लिए 25 हजार रुपए में सौदा तय हुआ। डीसीपी ने बताया कि, आरोपी को आपत्तिजनक दस्तावेजों के साथ पकड़ा गया है और समयपुर बादली थाने में IPC की धारा 409, 420, 464, 120 और टेलीग्राफ एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट