दिल्ली में 9 साल की बच्ची से ‘रेप और हत्या’ मामले में पुलिस ने कोर्ट को बताया, दम घुटने से हुई मौत

दिल्ली दलित नाबालिग लड़की के साथ रेप और मर्डर के मामले में पुलिस ने खुलासा किया है कि बच्ची की मौत दम घुटने से हुई है। कोर्ट में पुलिस ने बताया कि करंट से बच्ची की मौत के कोई सबूत नहीं मिले हैं।

delhi dalit minor girl rape, delhi rape, delhi police
प्रतीकात्मक तस्वीर

दिल्ली में 9 साल की दलित बच्ची के साथ रेप और हत्या मामले में पुलिस ने कोर्ट में कहा है कि मासूम की मौत दम घुटने से हुई थी। दिल्ली पुलिस ने आरोपी के खिलाफ दायर अपने साक्ष्य में कहा है कि उसकी मौत, यौन उत्पीड़न के दौरान दम घुटने से हुई है।

पुलिस ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि आरोपी पुजारी अश्लील वीडियो देखने का आदी था। बलात्कार के समय आरोपी कुलदीप ने मृतका का हाथ पकड़ लिया और आरोपी राधेश्याम ने उसके साथ दुष्कर्म किया। राधेश्याम ने मृतक के मुंह पर हाथ रखा, जिससे वह सांस नहीं ले पा रही थी और दम घुटने से उसकी मौत हो गई। इसके बाद आरोपी राधेश्याम व कुलदीप सिंह ने बच्ची के शव को राधेश्याम के कमरे से बाहर ले गए। इसके बाद वाटर कूलर को भी वहीं लाया और उसके शव को बेंच पर रख दिया।

जिसके बाद आरोपियों ने ये कह दिया कि मासूम की मौत कूलर से पानी लेते समय बिजली का करंट लगने से हो गई। पुलिस ने कहा, “सभी चारों आरोपी श्मशान घाट पर एकत्र हुए और बलात्कार और हत्या के सबूतों को खत्म करने के लिए, बच्ची के शव का अंतिम संस्कार करने का फैसला कर लिया”।

पुलिस के अनुसार आरोपी श्याम ने बच्ची की मौत का समय शाम 5:30 बजे बताया था, जबकि सीसीटीवी के अनुसार पीड़िता शाम 5:42 बजे तक जीवित थी। पुलिस ने यह भी कहा कि आरोपी अहमद और नारायण मुख्य रूप से सबूतों को नष्ट करने और दाह संस्कार में शामिल थे।

पुलिस ने कोर्ट को यह भी बताया कि करंट से बच्ची की मौत का कोई सबूत नहीं मिला है। जांच में ना तो कुलर में करंट का कोई सबूत मिला, ना ही करंट लगने की दशा में उसपर कोई चिपका हुआ सैंपल मिला। आरोपी श्याम के मोबाइल की सर्च हिस्ट्री से यह भी पता चला है कि वह अश्लील वीडियो देखने का आदी था।

बता दें कि दिल्ली के कैंट एरिया में एक नाबालिग दलित बच्ची की रेप के बाद हत्या कर दी गई थी। आरोपियों ने पीड़ित परिवार को बताया कि उनकी बेटी की मौत करंट लगने से हुई है और पुलिस को बिना बताए अंतिम संस्कार कर दे। मां के सामने ही आरोपियों ने शव को जला दिया था। हालांकि शव पूरी तरह से जल पाता, उससे पहले ही स्थानीय लोग जमा हो गए और शव के कुछ हिस्सों को जलने से बचा लिया।

जिसके बाद स्थानीय और परिवार रेप का मामला दर्ज कराने के लिए धरने पर बैठ गए थे। इस मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी जाकर परिवार से मुलाकात की थी। पुलिस ने बाद में आरोपियो के खिलाफ पॉक्सो एक्ट की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया था।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट