ताज़ा खबर
 

दिल्ली: ढहाई जाएगी तब्लीगी जमात मरकज की बिल्डिंग? हाउस और प्रॉपर्टी टैक्स नहीं भरा तो हो रही तैयारी

Delhi Nizamuddin Markaz: इस जमीन पर सिर्फ 2 मंजिला बिल्डिंग बनाए जाने की इजाजत थी लेकिन यहां पर 7 मंजिला बिल्डिंग बनाई गई है। ऐसे में यह कहा जा रहा है कि नगर निगम यहां किए गए अवैध निर्माण को तोड़ सकती है।

मरकज में आए कई लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

Delhi Nizamuddin Markaz: तो क्या अब दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात मरकज की बिल्डिंग को ढाह दिया जाएगा? सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की स्टैंडिंग कमेटी अब इसे ढहाने की कार्रवाई की तैयारी में है। ‘इंडिया टीवी’ की रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की स्टैंडिंग कमेटी के डिप्टी चेयरमैन राजपाल सिंह ने बताया कि अब इसे ढहाने की कार्रवाई के लिए फाइल तैयार की जा रही है।

उन्होंने बताया कि मरकज़ की बिल्डिंग को 2 प्लॉट जोड़कर बनाया गया है। मरकज़ की बिल्डिंग के 2 फ्लोर का नक्शा ही पास है बाकी का हिस्सा अवैध है। राजपाल सिंह ने यह भी बताया कि इस बिल्डिंग में बिजली-पानी का कनेक्शन अलाहुक नाम के व्यक्ति के नाम से है। बिल्डिंग इंस्टीट्यूशनल कैटेगरी में है। अभी तक इसका हाउस टैक्स भी नहीं दिया गया है। इसलिए बी कैटेगरी के हिसाब से हाउस टैक्स व प्रॉपर्टी टैक्स की गणना का काम शुरू कर दिया गया है।

कुछ अन्य मीडिया रिपोर्ट्स में भी कहा जा रहा है कि मरकज मुख्यालय के कुछ हिस्सों का निर्माण गैर कानूनी तरीके से किया गया है। यहां तक की इस बिल्डिंग का प्रॉपर्टी टैक्स और हाउस टैक्स भी नहीं भरा गया है। ऐसा बताया जा रहा है कि SDMC के पास भी मरकज निजामुद्दीन बिल्डिंग बनाए जाने से संबंधित मालिकाना हक के कागजात नहीं हैं।

इस जमीन पर सिर्फ 2 मंजिला बिल्डिंग बनाए जाने की इजाजत थी लेकिन यहां पर 7 मंजिला बिल्डिंग बनाई गई है। ऐसे में यह कहा जा रहा है कि नगर निगम यहां किए गए अवैध निर्माण को तोड़ सकती है।

आपको बता दें कि कहा जाता है कि साल 1992 में यहां पर 2 मंजिला बिल्डिंग बनाने की बात कही गई थी और इसी के मुताबिक नक्शा भी पास हुआ था। लेकिन आज यहां दो मंजिला बेसमेंट है और 7 मंजिला बिल्डिंग।

कई बार इस जमीन के मालिकाना हक से संबंधित कागजात प्रशासन के द्वारा मांगा भी गया है लेकिन अब तक इसके कागजात सामने नहीं आए हैं। आपको बता दें कि पिछले महीने जमात के कार्यक्रम में 3000 से अधिक लोग आए थे। जमात में शामिल कई लोग अब कोरोना पॉजीटिव पाए गए हैं।

जमात के प्रमुख मौलाना मुहम्मद साद पर आरोप है कि उन्होंने क्वारन्टीन नियमों का उल्लंघन किया और लोगों को सरकारी नियम नहीं मानने का आदेश भी दिया।

मरकज के चीफ मौलाना साद पर केस भी दर्ज किया गया है। मौलाना साद फिलहाल गायब हैं और क्राइम ब्रांच की टीम ने उन्हें नोटिस भेज कर उनसे कई सवाल पूछे हैं।

हालांकि मौलाना साद की तरफ से कहा गया है कि वो क्वारन्टीन में हैं और लॉकडाउन खत्म होने के बाद जांच टीम के सभी सवालों का जवाब देंगे।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Corona virus, Covid-19, India Lockdown: मणिपुर की महिला पर थूक कर भाग गया बाइक सवार, FIR दर्ज
2 गुजरात: महिला डॉक्टर को गाली देकर सोसायटी से भगाने लगा पड़ोसी, VIDEO वायरल
3 India Lockdown: मौलाना साद ने नहीं दिये 26 सवालों के जवाब, दूसरा नोटिस भेजने की तैयारी में क्राइम ब्रांच