ताज़ा खबर
 

दाऊद नहीं यह शख्स था अंडरवर्ल्ड का गॉडफादर, कॉमर्स में डिग्री हासिल करने वाला कैसे बना माफिया? पढ़ें

दुबई में रहने के दौरान मुथप्पा ने दवा का कारोबार शुरू किया। कहा जाता है कि दुबई और अफ्रीका में उसका कारोबार काफी चलता था। इसके बावजूद मुथप्पा दुबई में बैठकर बेंगलुरू और कर्नाटक की रियल स्टेट इंडस्ट्री पर राज करता था।

crime, crime newsइस डॉन पर कई संगीन आरोप लगे थे।

आम तौर पर दाऊद इब्राहिम को अंडरवर्ल्ड का सबसे बड़ा डॉन कहा जाता है। लेकिन आज हम बात कर रहे हैं उस माफिया कि जिसे कई लोग अंडरवर्ल्ड का गॉडफादर भी कहते हैं। कर्नाटक के अंडरवर्ल्ड डॉन नेत्ताला मुथप्पा राय के बारे में कहा जाता है कि वो पेशेवर अपराधी नहीं था लेकिन बावजूद इसके वो जरायम की दुनिया में उतरा था। कॉमर्स विषय में डिग्री हासिल करने वाला मुथप्पा कैसे बन गया सबसे बड़ा डॉन? यह हम आपको आगे बताएंगे। पहले हम आपको बताते हैं कि नेत्ताला मुथप्पा राय कौन था।

कर्नाटक के पुत्तूर में एन. नारायणा राय और सुशीला राय के घर में पैदा हुए मुथप्पा ने स्कूल में पढ़ाई पूरी करने के बाद कॉमर्स में ग्रैजुएशन किया। इसके बाद उसने विजया बैंक में बतौर क्लर्क काम करना शुरू किया। जबकि, उसके पिता का रेस्टोरेंट और बार का बिजनेस था।

साल 1980 के दशक में कर्नाटक में अंडरवर्ल्ड डॉन एमपी जयराज की तूती बोलती थी। एमपी जयराज का नाम उस वक्त के बड़े अपराधियों में शुमार था। कहा जाता है कि एमपी जयराज की नजर मुथप्पा के पिता के बार और रेस्टोरेंट पर थी। मुथप्पा को इस बात की खबर थी और वो इस वजह से एमपी जयराज से नफरत करने लगा था।

जब मुथप्पा राय के पिता को धमकियां मिलने लगीं तब मुथप्पा बेचैन हो उठा। अचानक साल 1990 में एमपी जयराज की हत्या हो गई। इस हत्याकांड में नाम उछला मुथप्पा राय का। इस हत्याकांड के बाद मुथप्पा राय को माफिया बॉस की पहचान मिली।

एमपी जयराज की हत्या के मामले में मुथप्पा पकड़ा गया था और अक्सर उसकी अदालत में पेशी भी होती थी। साल 1994 में कोर्ट परिसर में मुथप्पा राय पर हमला हुआ और उसे 5 गोलियां मारी गईं। हालांकि 2 साल तक बिस्तर पर रहने के बाद मुथप्पा पूरी तरह स्वस्थ हो गया।

बताया जाता है कि इसके बाद मुथप्पा राय ने उस वक्त के अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के साथी शरद शेट्टी से संपर्क किया। शरद शेट्टी के जरिए दुबई में मुथप्पा ने दाऊद इब्राहिम से भी संपर्क किया। साल 1996 में मुथप्पा राय दुबई चला गया।

ऑयल कुमार उर्फ बूट हाउस कुमार, साल 2001 में रियल स्टेट कारोबारी सुब्बाराजू की हत्या समेत अन्य कई बड़े संगीन जुर्म में मुथप्पा का नाम उछला। हालांकि यह बात और है कि कोर्ट में उसपर केस चलने के बावजूद सबूतों की कमी होने की वजह से मुथप्पा पर कोई भी आरोप साबित नहीं हो सका इसलिए वो बाद में छूट गया था।

दुबई में रहने के दौरान मुथप्पा ने दवा का कारोबार शुरू किया। कहा जाता है कि दुबई और अफ्रीका में उसका कारोबार काफी चलता था। इसके बावजूद मुथप्पा दुबई में बैठकर बेंगलुरू और कर्नाटक की रियल स्टेट इंडस्ट्री पर राज करता था।

साल 2002 में बेंगलुरू पुलिस की गुहार पर दुबई पुलिस ने मुथप्पा राय को भारत भेजा था। जेल से छूटने के बाद मुथप्पा ने साल 2008 में गैर सरकारी संस्था भी बनाई थी। बताया जाता है कि मुथप्पा ने तेलुगु फिल्म कांचिल्दा बाले में एक छोटी सी भूमिका भी निभाई थी। साल 2020 में 68 साल की उम्र में मुथप्पा राय की कैंसर से मौत हो गई थी।

Next Stories
1 Google की नौकरी छोड़ बने थे IAS, अनुदीप दुरीशेट्टी का सफर है प्रेरणादायक
2 ट्रेन में पढ़ाई कर IAS की परीक्षा पास कर ली, शशांक मिश्रा की कहानी है बेहद दिलचस्प
3 VIDEO: गाड़ी पर चढ़ सपा के झंडे को फाड़ दिया, छेड़खानी के आरोप पर आगरा में खूब हुआ था बवाल
ये पढ़ा क्या?
X