ताज़ा खबर
 

Firing in CRPF Camp: झारखंड में सीआरपीएफ जवान ने अंधाधुंध फायरिंग कर 2 अफसरों को मार डाला, 24 घंटे में दूसरी घटना

Jharkhand poll, Jharkhand election, CRPF: झारखंड के बोकारो जिलें में तैनात सीआरपीएफ की 226वीं बटालियन के एक सीपाही ने नशें में अपने दो सीनियर अधिकारियों को गोली मारकर हत्या कर दी।

Author रांची | Published on: December 10, 2019 1:59 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स- PTI

Jharkhand poll, Jharkhand election, CRPF: झारखंड में चल रहे विधानसभा चुनाव के दौरान तैनात केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के एक कॉन्स्टेबल ने अपने दो सीनियर अधिकारियों को गोली मारकर हत्या कर दी। यह घटना बोकारो की है। इस तरह की घटना राज्य में 24 घंटे के भीतर दूसरी बार हुई है। यह राज्य नक्सल प्रभावित राज्य माना जाता है। यहां पर चुनाव कराने के लिए बड़ी संख्या में सेना की तैनाती की जाती है।

दो अधिकारियों को गोला मारकर हत्या: दरअसल झारखंड के बोकारो जिलें में तैनात सीआरपीएफ की 226वीं बटालियन के एक सीपाही ने नशें में अपने दो सीनियर अधिकारियों को सोमवार (9 दिसबंर)  की रात  9:30 बजे गोली मारकर हत्या कर दी। जिन्हें सीपाही ने गोली मारी उनमें एक सहायक कमांडेंट और एक सहायक उप निरीक्षक शामिल है। इस दौरान सीपाही खुद भी घायल हो गया।

Hindi News Today, 10 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

फायरिंग में दो जवान घायल:  गौरतलब है कि इस गोलीबारी में सीआरपीएफ के दो अधिकारियों, असिस्टेंट कमांडेंट साहुल अहसन और एएसआइ पूर्णानंद भुइयां की मौत मौके पर ही हो गई, जबकि गोली लगने से घायल दो कॉन्स्टेबल उपेंद्र यादव और हरिश्चंद्र गोखले को रात 12 बजे हेलिकॉप्टर से इलाज के लिए रांची भेजा गया है। इनके अलावा दो घायल जवानों खुखलरी और दीपेंद्र कुमार का इलाज बोकारो में ही चल रहा है।

जांच के लिए दिए गए आदेश: सीआरपीएफ अधिकारियों ने कहा कि ताजा घटना के कारणों का अभी पता नहीं चला है हालांकि वरिष्ठ अधिकारी घटनास्थल पर तत्काल पहुंच गए। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गये है।

सीएएफ के सिपाही ने भी कमांडर को मारी गोली: बता दें कि सोमवार को रांची में भी इसी तरह की घटना सामने आई थी जब छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल (सीएएफ) के एक कॉन्स्टेबल ने अपनी कंपनी के कमांडर की गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या करने के बाद कॉन्स्टेबल ने खुद गोली मार ली थी।

पहले भी हो चुकी है ऐसी घटना:  गौरतलब है कि सेना में इस तरह की घटना अक्सर देखने को मिल रही है। कुछ दिनों पहले ही भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के एक कॉन्स्टेबल ने छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में अपने पांच सहयोगियों की हत्या कर दी थी। लगातार फारिंग करने की वजह से उस घटना में कॉन्स्टेबल भी घायल हो गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गुटखे के 11 रुपए मांगे तो दबंगों ने पहले दुकान में किया बंद, फिर पेट्रोल छिड़ककर जिंदा जला डाला
2 टेस्ट में कम नंबर आने पर टीचर ने छात्रा के मुंह पर कालिख पोत दी सजा, परिजनों ने किया थाने पर प्रदर्शन
3 KERALA: प्रेमी से करना चाहती थी शादी BDS स्टूडेंट, घर वालों ने पहुंचा दिया पागलखाने
ये पढ़ा क्या?
X