ताज़ा खबर
 

Coronavirus, Covid-19 Lockdown: बांग्लादेश में धार्मिक नेता के जनाजे में जुटे 1 लाख लोग, पुलिस ने कहा- नहीं रोक सकते

Coronavirus, (Covid-19) Lockdown: उनके जनाजे में जिले के कई नामी इस्लामिक नेता पहुंचे थे। इसके अलावा मदरसा के कई छात्र और आम नागरिक भी इसमें शामिल थे।

crime, lockdownजनाजे में कई स्थानीय नेता और मदरसे के छात्र भी शामिल हुए। फोटो सोर्स – सोशल मीडिया

Coronavirus, (Covid-19) Lockdown: दुनिया कोरोना वायरस से जंग लड़ रही है और सभी सरकारें लोगों से सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करने की अपील कर रही है। कई देशों में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन भी किया गया है। इस लॉकडाउन के बीच एक धार्मिक नेता के जनाजे में लाखों लोग जुट गए। शनिवार (18-04-2020) की सुबह 10 बजे बांग्लादेश में धार्मिक नेता मौलाना जुबैर अहम अंसारी का जनाजा निकाला गया। जुबैर अंसारी Khelafat Majlish के बड़े चर्चित शख्स थे। Brahmanbaria में जब उनका जनाजा निकाला गया तो लॉकडाउन को भूला कर उनके अनुयायी इस जनाजे में भारी संख्या में शामिल हुए। दावा किया जा रहा है कि इस जनाजे में 1 लाख लोग शामिल हुए थे। इस दौरान सोशल डिस्टेन्सिंग की जमकर धज्जियां भी उड़ाई गईं।

जब जामिया रहमानिया बरतला मदरसा में प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया तो मदरसा खचाखचा भरा नजर आया। धार्मिक नेता के जनाजे के दौरान कई जगहों पर पुलिस भी तैनात दिखी। लेकिन पुलिस ने किसी को भी रोकने की जहमत नहीं उठाई और किनारे खड़ी रही।

तस्वीरें सामने आने के बाद सारायल पुलिस के एक अधिकारी मोहम्मद शहादत हुसैन ने कहा कि ‘कई सारे लोग यहां तक की ढाका से भी कई लोग इस जनाजे में शामिल होने के लिए आए थे। हमने कभी नहीं सोचा था कि इतने लोग इस जनाजे में आएंगे। इतनी भीड़ जमा हो गई हम कुछ नहीं कर सकते।’

बांग्लादेश में सरकार ने पहले ही लॉकडाउन का ऐलान कर रखा है। बावजूद इसके जनाजे में इतनी भीड़ कैसे जमा हो गई? इसके बारे में यहां की पुलिस कुछ भी कह सकने में नाकाम है। धार्मिक नेता अंसारी की मौत 59 साल की उम्र में हुई है।

उनका निधन Brahmanbaria के उनके आवास पर हुई। अंसारी एक इस्लामिक स्कॉलर थें जिन्होंने साल 1996 में अपने क्षेत्र से चुनाव भी लड़ा था पर वो हार गए थे।

उनके जनाजे में जिले के कई नामी इस्लामिक नेता पहुंचे थे। इसके अलावा मदरसा के कई छात्र और आम नागरिक भी इसमें शामिल थे। यह भी बताया जा रहा है कि जनाजे के आयोजनकर्ताओं ने स्थानीय प्रशासन से इसके लिए अनुमति भी नहीं ली थी।

बता दें कि बांग्लादेश में अब तक 2,144 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीं अब तक इस संक्रमण से 84 लोगों की जान भी जा चुकी है। यहां सरकार लोगों से लगातार सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करने के लिए कह रही है।

सोशल मीडिया पर इस जनाजे में शामिल हुए लोगों की तस्वीरें देखने के बाद कई लोग इसकी निंदा कर रहे हैं। मशहूर लेखिका तसलीमा नसरीन ने भी इसकी निंदा करते हुए लिखा कि जनाजे में इतनी भीड़ जुट गई और सरकार ने रोकने की कोशिश भी नहीं की।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लॉकडाउन में शिक्षा मंत्री के पीए ने की मछली पार्टी, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, अधिकारियों समेत 25 के खिलाफ FIR
2 मध्यप्रदेश: शराब की बोतलें पकड़कर मुस्कुरा रहे थे, तस्वीर वायरल होते ही 3 राजस्व अधिकारी हुए सस्पेंड
3 गुरुग्राम: पत्नी की हत्या कर शव को बेड में छिपा दिया, लॉकडाउन के बीच फरार हुआ पति
टीम इंडिया का AUS दौरा
X