फर्जी सिग्नेचर कर योगी सरकार में मंत्री को ही बना लिया अपनी कंपनी का शेयर होल्डर, कंपनी का मालिक भारतीय मूल का ब्रिटिश नागरिक

उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम (MSME) मंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के नाती सिद्धार्थनाथ सिंह का फर्जी हस्ताक्षर कर उन्हें परमहंस नाम की एक कंपनी में शेयरधारक बनाने का मामला सामने आया है।

Siddhartha Nath Singh
सिद्धार्थ नाथ सिंह (फाइल फोटो) सोर्स: ट्विटर- @SidharthNSingh

उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम (MSME) मंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के नाती सिद्धार्थनाथ सिंह का फर्जी हस्ताक्षर कर उन्हें परमहंस नाम की एक कंपनी में शेयरधारक बनाने का मामला सामने आया है। इस मामले में मंत्री ने नोएडा सेक्टर 39 थाने में FIR दर्ज कराई है। अपर पुलिस उपायुक्त (जोन 1) रणविजय सिंह ने बताया कि सेक्टर 39 थाना क्षेत्र के सेक्टर 39 इलाके में रहने वाले सिद्धार्थनाथ सिंह ने थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी है।

इसमें कहा गया कि कुछ दिन पहले एक वरिष्ठ पत्रकार की तरफ से उन्हें एक ई-मेल मिला। उसमें उन्हें जानकारी मिली कि परमहंस टेक्नोलॉजीज कंपनी जिसका रजिस्टर्ड पता जोर बाग, दिल्ली है, इस कंपनी में वह शेयरधारक हैं। प्राथमिकी के अनुसार भारतीय मूल के ब्रिटिश नागरिक हरिमोहन सर्राफ इस कंपनी के संचालक हैं।

मंत्री ने एक चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए) के माध्यम से पता किया तो खुलासा हुआ कि उनका फर्जी हस्ताक्षर कर उन्हें कंपनी में शेयरधारक बनाया गया है। कंपनी के पंजीकरण और शेयरधारिता के संबंध में दस्तावेज और बैंक लेनदेन से इस फर्जीवाड़े का पता चला। पुलिस ने मंत्री की प्राथमिकी के आधार पर कंपनी और उसके संचालक के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471 के तहत मामला दर्ज किया है और मामले की जांच कर रही है।

उत्तर प्रदेश में अगले साल की शुरुआत में प्रस्तावित विधानसभा चुनावों से पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अपनी छवि अपराध मुक्त प्रदेश के तौर पर कर रही है लेकिन राज्य सरकार के खुद के मंत्री जब शातिरों के शिकार बन जाए तो विरोधियों को हमला करने का एक मौका मिल गया।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट