ताज़ा खबर
 

Amethi में खून-खराबा: स्मृति ईरानी के करीबी BJP कार्यकर्ता की हत्या, बेटे ने कांग्रेस की ओर उठाई उंगली

उत्तर प्रदेश के अमेठी में स्मृति ईरानी के करीबी व बीजेपी कार्यकर्ता सुरेंद्र सिंह की हत्या कर दी गई है। बताया जा रहा है कि बदमाशों ने यह वारदात कार्यकर्ता के घर में घुसकर अंजाम दी। उससे कुछ देर पहले ही वह स्मृति ईरानी की जीत का जश्न मनाकर लौटे थे।

Author अमेठी | May 26, 2019 1:53 PM
अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी के करीबी थे सुरेंद्र सिंह। फोटो सोर्स: एएनआई

उत्तर प्रदेश के अमेठी में स्मृति ईरानी के करीबी व बीजेपी कार्यकर्ता सुरेंद्र सिंह की हत्या कर दी गई है। बताया जा रहा है कि बदमाशों ने यह वारदात कार्यकर्ता के घर में घुसकर अंजाम दी। उस वक्त वह अपने घर में सो रहे थे। बता दें कि स्मृति ईरानी अमेठी से सांसद बनी हैं और उन्होंने 3 दिन पहले ही लोकसभा चुनाव में इस सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को मात दी थी। अपर पुलिस अधीक्षक दया राम ने रविवार को बताया कि बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह को शनिवार रात करीब 11.30 बजे अज्ञात बदमाशों ने गोली मार दी। उन्हें गंभीर हालत में इलाज के लिए लखनऊ भेजा गया, जहां उनकी मौत हो गई। इस मामले में 7 लोगों को हिरासत में लिया गया है। घटना की जांच जारी है। वहीं, मृतक के बेटे ने इस मामले में कांग्रेस पर उंगली उठाई है। उधर, स्मृति ईरानी भी अमेठी पहुंच गई हैं।

ईरानी की जीत का जश्न मनाकर लौटे थे घर: सूत्रों के मुताबिक, सुरेंद्र सिंह को स्मृति ईरानी का काफी करीबी बताया जा रहा है। वारदात से कुछ ही देर पहले वह स्मृति ईरानी की जीत का जश्न मनाकर लौटे थे। घर पहुंचने के बाद वह सो गए। ऐसे में कुछ बदमाश उनके घर में घुसे और उन्हें गोली मार दी।

National Hindi News, 26 May 2019 LIVE Updates: दिनभर की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान भी थे सुरेंद्र : गौरतलब है कि चुनाव प्रचार के दौरान स्मृति ईरानी ने बरौलिया गांव में जूते बांटे थे। सुरेंद्र सिंह इस गांव के पूर्व प्रधान भी रह चुके हैं। परिजनों ने बताया कि गोली चलने की आवाज सुनकर वे सुरेंद्र के कमरे में पहुंचे। इसके बाद उन्हें ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, लेकिन रास्ते में ही उनकी मौत हो गई।

घटना के बाद बरौलिया में हड़कंप: पूर्व प्रधान व बीजेपी कार्यकर्ता सुरेंद्र सिंह की हत्या के बाद बरौलिया इलाके में हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान स्मृति ईरानी अपने साथ ब्लॉक और गांव स्तर के नेताओं को भी मंच पर लाती थीं। सुरेंद्र सिंह ऐसे ही नेताओं में से एक थे।

पुलिस को रंजिश का शक: पुलिस का शक है कि यह वारदात पुरानी रंजिश के चलते अंजाम दी गई। हालांकि, इस मामले को चुनावी रंजिश से भी जोड़कर देखा जा रहा है। पूर्व प्रधान की हत्या के बाद गांव में तनाव का माहौल है। इसके चलते इलाके में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है। पुलिस ने गांव वालों से बातचीत के आधार पर बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X