ताज़ा खबर
 

लाल कपड़े पहनी महिलाओं को बनाता था निशाना, हत्या कर क्षत-विक्षत कर देता था यह सनकी हत्यारा

गोआ चेंगयोंग लाल कपड़े पहने महिलाओं और लड़कियों को अपना शिकार बनाता था। वह महिलाओं को निशाना बनाने से पहले उनका पीछा करते हुए उनके घर तक जाता था और अकेला पाकर रेप करता था।

54 वर्षीय सीरियल किलर गोआ चेंगयोंग। (फोटो सोर्स-यूट्यूब)

गुरुवार (3 जनवरी 2019) को चाइना की सुप्रीम कोर्ट ने सीरियल किलर गोआ चेंगयोंग की मौत की सजा पर मुहर लगा दी है। उसे मार्च 2018 को उत्तर-पश्चिमी शहर बैयिन, गांसु प्रांत की अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी, जिसकी घोषणा ट्विटर-वीबो पर भी की गई थी। चीन के ‘जैक द रिपर’ नाम से कुख्यात चेंगयोंग पर 11 महिलाओं के साथ रेप और हत्या का आरोप साबित होने के बाद मौत की सजा सुनाई गई।

दरअसल, 54 वर्षीय गोआ चेंगयोंग ने गुरुवार को चीन की सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान 11 महिलाओं के साथ बलात्कार और हत्या के बाद उनके शरीर को क्षत-विक्षत करने की बात कबूल की है। चेंगयोंग ने साल 1988 और 2002 के बीच गांसु और मंगोलिया क्षेत्र में 11 महिलाओं और लड़कियों के साथ लूट, बलात्कार और हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। उसे मार्च 2018 में बायिन सिटी इंटरमीडिएट पीपुल्स कोर्ट ने दोषी पाया और डकैती और इरादतन हत्या दोनों के लिए मौत की सजा दी। उसपर बलात्कार और लाशों के अपमान का भी आरोप था।

गोआ चेंगयोंग के बारे में बताया जाता है कि, वह लाल कपड़े पहने महिलाओं और लड़कियों को अपना शिकार बनाता था। वह महिलाओं को निशाना बनाने से पहले उनका पीछा करते हुए उनके घर तक जाता था और अकेला पाकर हमला करता था। सीरियल किलर चेंगयोंग महिलाओं के साथ रेप कर उनकी निर्मम तरीके से हत्या कर देता था। उसकी दरिंदगी यहीं शांत नहीं होती थी। कत्ल करने के बाद वह उन महिलाओं के मृत शरीर को क्षत-विक्षत कर देता था। चेंग अकसर 20 वर्ष की लड़कियों को ही अपना निशाना बनाता था। चेंगयोंग को साल 2016 में 8 वर्ष की बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, जिसका कत्ल उसने करीब 28 साल पहले किया था। हालांकि उसने पुलिस के सामने अपना जुर्म कबूल कर लिया था।

साल 2004 में पुलिस ने चीन के गांसु प्रांत में लगातार हो रही महिलाओं की हत्याओं के बाद हत्यारे का सुराग देने वाले को 2 लाख युआन देने का एलान किया था और सीरियल किलर को पकड़े के लिए बड़ा अभियान चलाया था। हालांकि पुलिस ने चेंगयोंग को उसके एक रिश्तेदार के डीएनए की मदद से पकड़ा था। दरअसल, पुलिस ने उसके एक रिश्तेदार को किसी दूसरे जुर्म में गिरफ्तार किया था और जब उसका डीएनए टेस्ट कराया गया तो वह गांसु में लगातार हो रही हत्याओं के घटनास्थल से मिले डीएनए से मैच कर गया। जिसके बाद पुलिस ने चेंगयोंग को गिरफ्तार किया था।

इसके बाद गोआ चेंगयोंग चीन का ‘जैक द रिपर’ नाम से कुख्यात हो गया। उसकी तुलना लंदन के कुख्यात सीरियल किलर ब्रिटिश ‘जैक द रिपर’ से होने लगी थी। असली जैक द रिपर का नाम डॉक्टर एच एच होम्स है, जिसने करीब 200 से ज्यादा महिलाओं और वेश्याओं को अपना शिकार बनाया था। होम्स रात के समय वेश्याओं का कत्ल करता था, उसके बाद उनके मृत शरीर के साथ शारीरिक संबंध बनाता था और चाकू से शरीर के अंदरूनी अंग निकाल लेता था। इसी आधार पर गाओ चेंगयोंग को चीन के जैक द रिपर का नाम दिया गया।

Next Stories
1 हो जाइए अलर्ट! देर रात मोबाइल पर आईं 6 मिस्ड कॉल्स और खाते से उड़ गए 1.86 करोड़ रुपये
2 जेल में सिख कैदियों से दूर रखे जाएंगे, सलाखों के पीछे सज्जन कुमार का यूं बीता पहला दिन
3 जब प्रेग्नेंट एक्ट्रेस को बेरहमी से मार घर के बाहर खून से लिख दिया ‘सुअर’
ये पढ़ा क्या?
X