‘मैं बहुत खतरनाक आदमी हूं’, …जब कांग्रेस विधायक भरी भीड़ में महिला अफसर को हड़काने लगे

इस वीडियो में यह भी नजर आ रहा था कि महिला डीएफओ के गोद में एक बच्चा है। इस वीडियो के सामने आने के बाद काफी हंगामा मचा था।

crime, crime newsमहिला अधिकारी की गोद में एक बच्चा भी था। फोटो सोर्स- वीडियो स्क्रीनशॉट

‘मैं बहुत खतरनाक आदमी हूं…’ कुछ इन्हीं लफ्जों के साथ एक महिला सरकारी अधिकारी को हड़काते हुए छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के एक विधायक का वीडियो काफी वायरल हुआ था। इस वीडियो में नजर आ रहा था कि विधायक महिला अधिकारी से यह भी कहते हैं कि ‘मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता आप का रिश्तेदार मंत्री हो या सीएम।’ दरअसल यह वीडियो साल 2019 का है। उस वक्त कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया था कि यह मामला छत्तीसगढ़ के कोंडागांव का है।

उस वक्त केशकाल से कांग्रेस के विधायक संतराम नेताम से मिलकर वन विभाग में काम करने वाले कुछ मजदूरों ने शिकायत की थी कि कई बार सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने के बावजूद भी उनकी मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया है और कोई अधिकारी भी उनसे मिलने के लिए तैयार नहीं हैं। केशकाल क्षेत्र के विधायक संतराम नेताम उस वक्त बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष भी थे।

यह शिकायत मिलने के बाद संतराम नेताम वन विभाग के दफ्तर पहुंचे थे। इस दौरान वहां वन विभाग की प्रभारी डीएफओ शमा फारूखी मौजूद थीं। विधायक ने सबके सामने ही शमा फारूखी को हड़कना शुरू कर दिया। जो वीडियो उस वक्त सामने आया था उसमें विधायक कहते हैं कि ‘आप इनसे नहीं मिलेंगे तो किसने मिलेंगे…इसपर जैसे ही महिला अधिकारी कुछ कहती हैं..विधायक उन्हें बीच में टोकते हुए कहते हैं कि नहीं,,,मेरी बात सुनो…मैं बहुत ही खतरनाक आदमी हूं…ये बताओ कि मैं इनकी सेवा कर रहा हूं…आप इनकी सेवा कर रही हैं…तो फिर इनसे नहीं मिलेंगे तो किसने मिलेंगे।

मजदूर वाले मामले से मैं बहुत तंग आ चुका हूं…इनको 5 बजे तक रोक कर रखेंगे तो कैसे काम चलेगा। आप का रिश्तेदार मंत्री हो या सीएम मुझे फर्क नहीं पड़ता। आप काम करने आई हो काम करो मैं आपका साथ दूंगा. नहीं तो फिर मैं चाहूंगा तो आप यहां नहीं रह पाओगी।’

इस वीडियो में यह भी नजर आ रहा था कि महिला डीएफओ के गोद में एक बच्चा है। इस वीडियो के सामने आने के बाद काफी हंगामा मचा था। बाद में इस मामले पर विधायक ने सफाई देते हुए कहा था कि ‘दीपावली के समय ग्रामीण अपनी मजदूरी के लिए कई बार भुगतान अधिकारी के चक्कर काट चुके थे, लेकिन अधिकारी मिलने को तैयार नहीं थीं। संतराम ने बताया कि अफसर जनता का काम नहीं कर रहे हैं। इसके कारण प्रशासनिक व्यवस्था बिगड़ गई है. ग्रामीणों की शिकायत पर वे वहां पहुंचे थे।’

Next Stories
1 ‘सूली पर लटका दूंगी’, जब केंद्रीय मंत्री ने सरकारी अफसरों को सरेआम हड़काया
2 थाने में महिला नेत्री ने पुलिसकर्मी को पीटा था, पूर्व IPS ने VIDEO शेयर कर उठाई थी कार्रवाई की मांग
3 प्लेन से शिकार को बुला किया अपहरण, चंबल के चर्चित डाकू मोहर सिंह पर दर्ज थे 300 से ज्यादा केस…
ये पढ़ा क्या?
X