ताज़ा खबर
 

अमिताभ के फैन ने बनाया था ‘बच्चन गैंग’, थ्रिलर फिल्में देख करता था वारदात; ऐसे पकड़ाए थे बदमाश

इसके बाद क्राइम ब्रांच को इसकी जानकारी दी गई थी। सूचना मिलने पर क्राइम ब्रांच की टीम के एसीपी सुरेंद्र कुमार, सब इंस्पेक्टर धीरज और वीरेंद्र त्यागी के नेतृत्व में इन्हें पकड़ने के लिए निकली थी।

यह सरगना अमिताभ बच्चन का बड़ा फैन था।

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के प्रशंसकों की संख्या लाखों-करोड़ों में है। कई लोग बिग बी को अपना आइकन मानते हैं और उन्हें फॉलो भी करते हैं। आज हम अमिताभ बच्चन के ऐसे फैन का जिक्र यहां कर रहे हैं जो फिल्मों में उनके द्वारा निभाए गए स्टाइल को फॉलो करता था। इतना ही नहीं अमिताभ के इस प्रशंसक ने ‘बच्चन गैंग’ भी बना लिया था जो गंभीर अपराधों को अंजाम दिया करता था। दिल्ली और आसपास के इलाकों में इस गैंग के सदस्यों ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया था।

साल 2019 में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने ‘बच्चन गैंग’ के सरगना रोहित और उसके एक साथी को जब गिरफ्तार किया था तब कई बातों का खुलासा हुआ था। पता चला था कि जरायम की दुनिया में रोहित को ‘बच्चन’ के नाम से भी जाना जाता था। रोहित बेरोजगार युवकों को जुटा कर उन्हें क्राइम करने के लिए उकसाया करता था। यह भी खुलासा हुआ था कि रोहित लड़कों को गांजे का लालच देकर अपने गैंग में शामिल करवाता था।

पुलिस के कब्जे में आए रोहित ने कबूल किया था कि वो सुपरस्टार अमिताभ बच्चन का बड़ा फैन है। रोहित किसी अपराध से पहले गैंग के सदस्यों को गांजा पिलाता था और थ्रिलर फिल्में दिखाता था।

इस गैंग के सरगना को पकड़ने की कहानी भी बेहद दिलचस्प है। साल 2019 के जून के महीने में दिल्ली पुलिस को सूचना मिली थी कि रोहित अपने दोस्त के साथ सुल्तानपुरी इलाके के बस स्टैंड के पास इस गैंग का मुखिया रोहित अपने एक साथी के साथ किसी वारदात को अंजाम देने के लिए आ रहा है।

इसके बाद क्राइम ब्रांच को इसकी जानकारी दी गई थी। सूचना मिलने पर क्राइम ब्रांच की टीम के एसीपी सुरेंद्र कुमार, सब इंस्पेक्टर धीरज और वीरेंद्र त्यागी के नेतृत्व में इन्हें पकड़ने के लिए निकली थी। बदमाश को वहां से फौरन पकड़ लिया गया था। इनके पास से पुलिस ने चोरी की 10 मोटरसाइकिल और छीने हुए 3 मोबाइल फोन बरामद किए थे।

उस वक्त पुलिस ने बताया था कि ये गैंग बेहद शातिर तरीके से किसी भी वारदात को अंजाम देता था। ये बाइक की चोरी कर उस बाइक से पहले दो तीन दिन राह चलते पुरुषों और महिलाओं के साथ झपटमारी और लूट-पाट करता और फिर चोरी की बाइक को आगे बेच देता था।

पुलिस के मुताबिक, वारदातों को अंजाम देने के दौरान ये इस गैंग के बदमाश कोड भाषा का इस्तेमाल किया करते थे। खुलासा हुआ था कि अब तक ये गैंग 100 से भी ज्यादा गाड़ियों की चोरी और राह चलते झपटमारी जैसे वारदात को अंजाम दे चुका था।

Next Stories
1 ‘डर्टी पिक्चर’ में विद्या बालन के साथ आई थीं नजर, संदिग्ध हालत में घर में मिली थी अभिनेत्री की लाश
2 आधी रात बदमाशों से अकेले भिड़ गई थी बेटी, बहादुरी देख बम पटक कर भागे थे गुंडे…
3 गरीब पिता बेचते थे तीर-धनुष, बेटी बनी थी पहली आदिवासी महिला IAS अफसर…
ये पढ़ा क्या?
X