कंगना रनौत के साथ किया था काम, ड्रग्स डील में अभिनेत्री की हत्या से मची थी सनसनी

कृतिका चौधरी ड्रग माफिया के चंगुल में कैसे फंसी, उस कहानी तक पहुंचने से पहले कृतिका की ज़िंदगी की कहानी को जानना जरुरी है।

crime, crime newsड्रग डीलर्स पर हत्या का आरोप लगा था।

बॉलीवुड की चकाचौंध के पीछे छिपी कई स्याह कहानियां अक्सर सामने आती रहती हैं। इनमें सबसे भयानक होती है अभिनेताओं या अभिनेत्रियों की मौत की रहस्यमय कहानियां। आज हम एक ऐसी ही कहानी का जिक्र कर रहे हैं जिसके बारे में जानकर आप हैरान रह जाएंगे। साल 2013 में अभिनेत्री कंगना रनौत की एक फिल्म आई थी रज्जो। इस फिल्म में कंगना के अलावा एक अन्य अभिनेत्री कृतिका चौधरी भी नजर आई थीं। लेकिन साल 2017 में अचानक कृतिका चौधरी की हत्या हो जाती है और इस हत्याकांड ने पूरे मनोरंजन जगत को उस वक्त हिला कर रख दिया था।

उस साल जून के महीने में अंधेरी इलाके में स्थित उनके अपार्टमेंट में उनकी लाश बरामद हुई थी। हत्या के करीब एक महीने बाद मुंबई पुलिस ने कहा था कि 28 साल की अभिनेत्री की हत्या 6,000 रुपए के लिए की गई थी। अभिनेत्री को यह पैसे ड्रग डीलर्स को देने थे और नहीं दे पाने की स्थिति में उनकी हत्या की गई थी। इस मामले में पुलिस ने उस वक्त 2 लोगों को गिरफ्तार भी किया था।

पकड़े गए युवकों में नालासोपारा का रहने वाला 33 साल का शकील नसीम खान और गोविंदी का रहने वाला 40 साल का बादशाह बासुदास मकमलाल शामिल थे। यह दोनों अभिनेत्री की बिल्डिंग में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में नजर आए थे और वहां के गार्ड ने भी इस बात की पुष्टि की थी कि अभिनेत्री की मौत से पहले यह दोनों वहां आए थे। बता दें कि अभिनेत्री की हत्या के 3 दिन बात बेहद खराब हालत में उनकी लाश मिली थी।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया था कि कृतिका चौधरी ने एक साल पहले खान से ड्रग खरीदे थे और उसे पैसे नहीं दिये थे। हत्या की रात खान औऱ बादशाह अभिनेत्री से पैसे मांगने गये थे लेकिन इस दौरान उनकी अभिनेत्री से बहस हो गई थी और फिर उनकी हत्या कर दी गई थी। नुकीले हथियार से अभिनेत्री की हत्या के बाद उन्हें खून से लथपथ छोड़ कर दोनों हत्यारे वहां से चले गए थे और जाते-जाते उन्होंने वहां का एसी ऑन कर दिया था ताकि लाश की महक ना फैले।

पुलिस ने उस वक्त बताया था कि एक आरोपी ने हत्या के बाद खून से सनी अपनी कमीज भी वहीं छोड़ दी थी जिससे हत्यारे तक पहुंचने में काफी मदद मिली थी। यह भी खुलासा हुआ था कि अभिनेत्री करीब डेढ़ साल से खान को जानती थी और उससे MDMA और Meow Meow ड्रग्स खरीदती थीं।

कृतिका चौधरी ड्रग माफिया के चंगुल में कैसे फंसी, उस कहानी तक पहुंचने से पहले कृतिका की ज़िंदगी की कहानी को जानना जरुरी है। कृतिका चौधरी मूल रूप से हरिद्वार की रहने वाली थीं। उन्होंने 12वीं तक पढ़ाई की थी। बहुत कम उम्र में उनकी शादी कर दी गई। पति के साथ उनकी जमी नहीं तो वो दिल्ली चली आईं। दिल्ली में बीए की डिग्री ली। विजय द्विवेदी तब अशोक विहार में पेस्ट कंट्रोल एजेंसी चलाता था, जहां कृतिका को रिसेप्शनिस्ट की नौकरी मिली। बाद में दोनों लिव इन रिलेशन में रहने लगे। इसी बीच, कृतिका ने एक्टिंग क्लास जॉइन करने की इच्छा ज़ाहिर की और वो एक्टिंग सीखने लगीं। बाद में दोनों ने शादी भी रचा ली।

हालांकि कृतिका ने साल 2012 में विजय को तलाक दे दिया। कृतिका का फिर मुंबई के एक एडवोकेट से अफेयर चला, मगर एडवोकेट ने किसी और लड़की से शादी कर ली। कृतिका डिप्रेशन में आ गई। तब दिल्ली के युवक से कृतिका चौधरी की दोस्ती हो गई, जो कृतिका को पार्टियों में ले जाने लगा, जहां शराब और ड्रग्स का खुलकर इस्तेमाल किया जाता था। इसी के बाद उसने कई ड्रग पेडलर्स से दोस्ती बढ़ाई और जैसा कि पुलिस का कहना था, उनसे हर महीने करीब एक लाख रुपये की ड्रग्स लेने लगी। रुपयों के लेन-देन में दो ड्रग पेडलर्स ने उसकी हत्या कर दी थी।

Next Stories
1 ‘रिक्शा चलाओगे’, रिक्शेवाले के बेटे को सब देते थे ताना; IAS बन दिया था जवाब…
2 डॉन नंबर वन के नाम से था मशहूर, 50 से ज्यादा मामलों के आरोपी का हुआ था यह अंजाम
3 पंक्चर बनाने की दुकान से करियर शुरू कर बन गया डीजल माफिया, मोहम्मद अली शेख की कहानी…
यह पढ़ा क्या?
X