ताज़ा खबर
 

नीरज कुमार सिंह: कभी अटल बिहारी वाजपेयी के प्रोजेक्ट में डाला रोड़ा, मर्डर, बैंक डकैती के आरोपी को BJP ने दिया टिकट

BJP से जुड़ने से पहले बबलू JDU में थे। ये JDU के टिकट पर 3 बार विधायक रह चुके हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा से इनकी सदस्यता खत्म करवा दी थी।

crime, crime newsनीरज कुमार पर कई केस दर्ज हैं।

बिहार चुनाव में इस बार लगभग सभी राजनीतिक दलों ने दागियों को टिकट दिया है। इस रेस में भारतीय जनता पार्टी (BJP) भी पीछे नहीं है। मर्डर, बैंक डकैती सहित कई संगीन मामलों के आरोपी रहे बाहुबली नीरज कुमार सिंह उर्फ बबलू छातापुर से BJP के कैंडिडेट हैं। इन पर प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के ‘ड्रीम रोड प्रोजेक्ट ईस्ट-वेस्ट कॉरिडोर’ को लेकर बिहार में जारी काम में अड़ंगा डालने का आरोप भी लग चुका है।

राज्य के हाईवे प्रोजेक्ट को डील करने वाली कंपनी Gammon-India Ltd. ने इस मामले में जनवरी 2008 में इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी। बबलू कभी बिहार के एक दूसरे बाहुबली और राजपूतों के नेता आनंद मोहन के करीबी के रूप में जाने जाते थे।

BJP से जुड़ने से पहले बबलू JDU में थे। ये JDU के टिकट पर 3 बार विधायक रह चुके हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा से इनकी सदस्यता खत्म करवा दी थी, लेकिन कोर्ट ने उस आदेश को रद्द कर दिया था। जिसके बाद बबलू ने नीतीश से बगावत कर BJP का दामन थाम ‌लिया। अब विधानसभा चुनाव में ये BJP के टिकट पर छातापुर से उम्‍मीदवार हैं। RJD ने यहां से इनके मुकाबले मो. जफूर आलम को अपना उम्मीदवार बनाया है।

नीरज कुमार सिंह उर्फ बबलू दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपतू के रिश्तेदार भी हैं। अपने विधानसभा क्षेत्र में उनकी छवि किसी दबंग की है। साल 2017 में छातापुर के भाजपा विधायक नीरज कुमार बबलू ने कहा था कि उनसे कजाकिस्तान से फोन कर पांच करोड़ रुपए रंगदारी मांगी गई है और नहीं देने पर गोली से छलनी कर देने की धमकी दी गई है।

2005 से ही सुपौल के छातापुर विधानसभा सीट से विधायक रहे नीरज कुमार सिंह बबलू के नाम पर पुलिस थानों में कई केस दर्ज हैं। सुपौल में हुए दोहरे हत्याकांड में नाम सामने आने के बाद नीरज कुमार चर्चा में आ गए थे। पुलिस ने रेत के ढेर के नीचे से दो लाशें बरामद की थी। मारे गए युवकों के परिजनों ने नीरज कुमार पर हत्या करवाने का आरोप लगाया था।

नीरज सुपौल के बड़े दबंग के तौर पर जाने जाते हैं और उनके खिलाफ कई संगीन मामले पुलिस थानों में दर्ज हैं। उनपर चोरी से संबंधित 3 (आईपीसी धारा -379), आपराधिक धमकी से संबंधित 1 (आईपीसी धारा -506), हत्या की धमकी से संबंधित 2 (आईपीसी धारा -386) अपहरण से संबंधित 1 केस के अलाव अन्य कई केस दर्ज हैं।

2005 में उनके खिलाफ 15, 2010 में 6 और साल 2015 में 8 आपराधिक मामले दर्ज किए गए थे। हालांकि इनमें से किसी भी मामले में उनपर आरोप साबित नहीं हुआ है और उन्हें किसी भी मामले में सजा नहीं मिली है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अब बाराबंकी में हाथरस जैसी वारदात, दलित लड़की की रेप के बाद हत्या! पुलिस ने कराया अंतिम संस्कार
2 महिला ने गर्भवती की हत्या कर कोख से निकाल लिया भ्रूण, पुलिस से बोली- मेरा बच्चा है; गई जेल
3 बिहार चुनाव: तेजस्वी यादव पर 420 का भी केस, सरकारी उधारी भी; कोई गाड़ी नहीं
यह पढ़ा क्या?
X