बिहार चुनाव 2020: पिता जेल में, मां जमानत पर और बेटे पर दर्ज हैं 14 केस; RJD के प्रत्याशी अजय यादव की क्राइम कुंडली

अजय यादव ने अपने चुनावी हलफनामे में बताया है कि उनपर भारतीय दंड संहिता की धारा 307 यानी हत्या की कोशिश के 8 मुकदमे दर्ज हैं। धारा 379 यानी चोरी की सजा के तहत उनपर 5 चार्ज लगे हैं।

BIHAR, BIHAR CHUNAV
अजय यादव के माता-पिता पर भी केस दर्ज है।

बिहार विधानसभा चुनाव में लगभग सभी पार्टियों ने दागियों को टिकट दिया है। कई ऐसे प्रत्याशी हैं जिनपर दर्जन भर से ज्यादा मामले दर्ज हैं। इस कड़ी में आज हम बात करेंगे गया के अतरी विधानसभा सीट से राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के प्रत्याशी अजय यादव उर्फ रंजीत यादव की। अजय यादव पर कुल 14 आपराधिक केस दर्ज हैं। कहा जाता है कि इलाके में इनकी छवि दबंग नेता की है।

अजय यादव के बारे में यह भी बताया जाता है कि राजनीति उन्हें विरासत में मिली है। अजय यादव के पिता राजेंद्र यादव तीन बार इस सीट से विधायक चुने गए और फिलहाल हत्या के एक केस में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे हैं। इतना ही नहीं उनकी पत्नी कुंती देवी पर हत्या की साजिश का केस चल रहा है।

राजेंद्र और कुंती देवी के बेटे अजय यादव नीमचक बथानी के पूर्व प्रमुख भी रह चुके हैं। अब जरा यह भी जान लीजिए की 12वीं पास राजद प्रत्याशी पर जो 14 केस दर्ज हैं वो कितने संगीन हैं।

अजय यादव ने अपने चुनावी हलफनामे में बताया है कि उनपर भारतीय दंड संहिता की धारा 307 यानी हत्या की कोशिश के 8 मुकदमे दर्ज हैं। धारा 379 यानी चोरी की सजा के तहत  उनपर  5 चार्ज लगे हैं। जबरन जमीन हड़पने के 3 चार्ज उनपर लगे हैं। इसके अलावा उनपर 1 केस आपराधिक साजिश रचने और 1 मर्डर का केस भी दर्ज है। इन सभी गंभीर आरोपों के अलावा भी अजय यादव पर कुछ अन्य केस दर्ज हैं। अजय यादव फिलहाल जमानत पर चल रहे हैं। हालांकि यह बात और है कि इनमें से किसी भी मुकदमे में उनपर आरोप साबित नहीं हुए हैं।

कहा जाता है कि साल 1990 में लालू प्रसाद यादव की सरकार आने के बाद से इस इलाके में नीमचक बथानी के रहनेवाले राजेन्द्र यादव और उनके परिवार का दबदबा है। राजेन्द्र यादव खुद तीन बार 1995, 2000 और फरवरी 2005 में अतरी से विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं। जबकि उनकी पत्नी कुंती देवी नवंबर 2005 और 2015 में दो बार चुनाव जीतकर दस साल तक विधायक रहीं।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट