ताज़ा खबर
 

बिहार: लड़कियों का आरोप- हॉस्टल में बाहर से आते हैं पुरुष, मसाज करवाती हैं वॉर्डन

जानकारी के मुताबिक जब से हॉस्टल की वार्डेन पर इन लड़कियों ने इतने गंभीर आरोप लगाए हैं तब से यहां से करीब 80 छात्राओं के माता-पिता अपनी बेटियों को लेकर चले गए हैं।

Author Published on: July 8, 2019 1:09 PM
रात के वक्त हॉस्टल से 2 छात्राएं भाग गई थीं। प्रतीकात्मक तस्वीर।

‘हॉस्टल से रात को पुरुष बाहर आते हैं…वार्डेन हमसे मसाज करने के लिए कहती हैं।’ बिहार के भोजपुर जिले के गर्ल्स हॉस्टल की छात्राओं ने जब से हॉस्टल के अंदर चल रही घिनौनी सच्चाई को उजागर किया है यहां हंगामा बरपा हुआ है। शाहपुर प्रखंड के बिलौटी स्थित कस्तुरबा गांधी बालिका विद्यालय के गर्ल्स हॉस्टल में अब सन्नाटा पसरा हुआ है और यहां रहने वाली करीब-करीब सारी लड़कियां अपने घर चली गई हैं। कुछ ही दिनों पहले हॉस्टल की महिला वार्डेन गीता पर लगे गंभीर आरोपों की जांच के लिए यहां के जिलाधिकारी ने 5 सदस्यीय टीम भी बनाई थी। इस टीम ने बीते शनिवार (06 जुलाई, 2019) को अपनी जो रिपोर्ट पेश की है उसमें पाया है कि दो पुरुष और दो महिलाएं गैरकानूनी तरीके से यहां रह रही थीं। इनके बारे में वीजिटर्स रजिस्टर में भी कोई जानकारी दर्ज नहीं है।

इससे पहले जन अधिकार लोकतांत्रिक पार्टी के सुप्रीमो सह पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव भी इस हॉस्टल का जायजा लेने यहां पहुंचे थे। उन्होंने सहायक शिक्षिका और विद्यालय में मौजूद कुछ छात्राओं से बातचीत भी की थी। पप्पू यादव ने कहा था कि यह विद्यालय राम भरोसे चल रहा है। उन्होंने यहां लड़कियों की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा था कि यहां सुरक्षा व्यवस्था मापदंडों के अनुरूप नहीं है। उन्होंने हॉस्टल के वार्डेन पर लगे आरोपों की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की थी ताकि सच्चाई सामने आ सके।

दरअसल बीते बुधवार (3 जुलाई, 2019) की रात को इस विद्यालय के हॉस्टल से दो छात्राएं भाग गई थीं। लेकिन सरैया गांव के रहने वाले स्थानीय लोगों ने उन्हें पकड़ लिया था और पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस के सामने इन लड़कियों ने हॉस्टल की वार्डेन गीता रानी पर आरोप लगाया था कि वार्डेन जबरदस्ती उनसे निजी काम कराती थी। यहां तक कि उनसे मसाज करने के लिए भी कहा जाता था। लड़कियों ने अपने बयान में कहा था कि स्थानीय मुखिया रोज रात 12 बजे से लेकर सुबह 1 बजे तक वहां आते थे।

इस खुलासे के बाद इस पूरे कांड की जांच के लिए 5 सदस्यों की एक कमेटी बनाई गई थी। बिहार महिला आयोग की अध्यक्ष दिलमणि मिश्रा ने भी भोजपुर जिले के डीएम और एसपी से इस पूरी घटना के बारे में विस्तृत जानकारी मांगी थी। जानकारी के मुताबिक जब से हॉस्टल की वार्डेन पर इन लड़कियों ने इतने गंभीर आरोप लगाए हैं तब से यहां से करीब 80 छात्राओं के माता-पिता अपनी बेटियों को लेकर चले गए हैं। इन हॉस्टलों में सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं होती इसलिए उनके माता-पिता काफी चिंतित हैं।

कस्तुरबा गांधी बालिक विद्यालय, आरा की सभी छात्रों ने वार्डेन पर आरोप लगने के 2 दिनों के बाद हॉस्टल छोड़ दिया। बता दें कि इस विद्यालय के हॉस्टल में 100 छात्राएं पंजीकृत हैं जिनमें से 94 छात्राएं यहां रहती हैं और छह पंजीकरण की सारी प्रक्रियाएं पूरी करने के बाद से अपने घर पर हैं। इस मामले में पुलिस ने गीता, छबीला सिंह, गार्ड मोहम्मद सद्दाम पर केस दर्ज किया है। इसके अलावा दो अन्य महिलाओं पर भी केस दर्ज किया गया है। इन दोनों महिलाओं के बारे में कहा जा रहा है कि यह दोनों वार्डेन गीता की रिश्तेदार हैं। इस पूरी घटना ने राज्य में लोगों को मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की याद दिला दी है। (और…CRIME NEWS)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Delhi: ई-कॉमर्स पोर्टल पर फ्री गिफ्ट का ऑफर देकर ठगे 80 लाख रुपए, 500 लोगों को बनाया शिकार
2 पनीर की जगह भेज दिया चिकन, Zomato को चुकानी पड़ी बड़ी कीमत
3 पहले देखी हॉलीवुड फिल्म ‘बेबी ड्राइवर’, फिर दिल्ली में बैंक लूटने की कोशिश, सिक्योरिटी गार्ड ने हीरो बन दो को दबोचा