ताज़ा खबर
 

एमपी: अस्पताल के बेड पर इंसान की लाश पर चीटियां लगने के मामले में हुई कार्रवाई, 5 डॉक्टर सस्पेंड

जिला अस्पताल में 50 साल के बालचंद्र लोधी को इलाज के लिए लाया गया था। 2 दिन पहले ही बालचंद्र को मेडिकल वार्ड में भर्ती कराया गया था।

इस घटना की तस्वीरें सामने आने के बाद सीएम ने भी ट्वीट किया है। प्रतीकात्मक तस्वीर।

मध्य प्रदेश में अस्पताल के बेड पर घंटों से पड़ी लाश की आंख को चीटियों द्वारा खाए जाने के मामले में अब कार्रवाई हुई है। अब प्रशासन ने कड़ी कार्रवाई की है। पांच डॉक्टरों को इस मामले में सस्पेंड कर दिया गया है। इसमें एक सर्जन भी शामिल हैं।

आपको बता दें कि इससे पहले अस्पताल के बेड पर एक इंसान की लाश घंटों तक यूं ही पड़ी रही। हालत यह हो गई कि चीटियां डेड बॉडी की आंखों में घुस कर उसे खाने लगीं। हैरानी की बात है कि जिस अस्पताल को कभी जिले का नंबर -1 अस्पताल मिलने का गौरव हासिल हुआ था उसी अस्पताल में मरीज के साथ ऐसी लापरवाही होती है और किसी कर्मचारी को इसकी भनक तक नहीं लगती।

उस वक्त अस्पताल में मौजूद दूसरे मरीजों की नजर जब इस लाश की दुर्गति पर पड़ी तो उनके रोंगटे खड़े हो गए। यह मामला मीडिया में उजागर होने के बाद बवाल मचा हुआ है। मामला इतना गंभीर है कि खुद मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के कार्यालय ने भी ट्वीट कर इसपर संज्ञान लिया था।

सीएम ने ट्वीट कर क्या कहा था…? यह हम आपको आगे बताएंगे लेकिन उससे पहले यह जान लीजिए कि यह पूरा मामला क्या है। दरअसल शिवपुरी के जिला अस्पताल में 50 साल के बालचंद्र लोधी को इलाज के लिए लाया गया था। 2 दिन पहले ही बालचंद्र को मेडिकल वार्ड में भर्ती कराया गया था।

क्षय रोग से पीड़ित बालचंद्र लोधी की मौत सुबह 6 बजे हो गई। लेकिन बालचंद्र लोधी की मौत के बाद अस्पताल के किसी भी स्टाफ ने घंटों तक उनकी सुध नहीं ली। उनका शव अस्पताल के बिस्तर पर 5 घंटे तक पड़ा रहा और इस दौरान शव की आंखों में चीटियां लग गईं।

अंत में वहां मौजूद दूसरे मरीजों ने बालचंद्र की पत्नी को सूचना दी। पति की मौत की खबर से हैरान-परेशान महिला जब अस्पताल पहुंची तो पति की लाश के साथ हुई लापरवाही देख उसकी आंखें बहने लगीं। बालचंद्र की पत्नी रामश्री ने खुद अपने पल्लू से मृत पति की आंखों से चीटियां हटाई।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया है कि कुछ मरीजों के सहयोग से रामश्री खुद ही अपने पति के शव को लेकर वहां गई। अस्पताल प्रशासन इस दौरान पूरी तरह मूकदर्शक बना रहा।

इस पूरे मामले पर मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा था कि ‘ऐसी घटनाएं मानवता व इंसानियत को शर्मसार करती हैं…बर्दाश्त क़तई नहीं की जा सकती है। घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं…जांच में दोषी व लापरवाही बरतने वालों पर कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए गए हैं।’

सीएम के आदेश के बाद अब इस मामले में कार्रवाई की गई है। आपको याद दिला दें कि यह वही अस्पताल है जिसमें एक मरीज की मौत के बाद वाहन या स्ट्रेचर उपलब्ध नहीं कराया गया था। जिसके बाद मरीज के परिजन शव को कंधे पर रखकर ले जा रहे थे। इसी जिला अस्पताल में कुछ महीने पहले एक मरीज की गला रेतकर हत्या भी कर दी गई थी। (और…CRIME NEWS)

Next Stories
1 ‘लात-घूंसे और लकड़ी के डंडे से पीटा, इलेक्ट्रिक शॉक दिए, पेचकस से गोदते रहे’ 11 साल के बेटे ने सुनाई पिता पर हुए पुलिसिया अत्याचार की दास्तां
2 ‘गर्लफ्रेंड’ के चक्कर में जेल पहुंचा कार लूट का आरोपी, दबोचने के लिए पुलिस ने ऐसे किया Honey Trap
3 Delhi: सस्ती कार सर्विस का ऑफर देकर मांगा 190 रुपए का चेक, ठगी कर खाते से निकाल लिए 1.75 लाख
ये पढ़ा क्या?
X