ताज़ा खबर
 

आंध्र प्रदेश: पत्नी का दावा, ‘Covid-19 से संक्रमित पति अस्पताल से गायब’, प्रबंधन ने कहा- मौत के बाद कर दिया अंतिम संस्कार

कुछ दिनों तक अस्पताल ने महिला को उनके पति के बारे में कोई भी जानकारी नहीं दी और महिला को इस बात की आशंका हो गई कि उनके पति लापता हो गए हैं।

पुलिस का कहना है कि मामले में सभी प्रक्रियाओं का पालन किया गया था। सांकेतिक तस्वीर। फोटो सोर्स – Indian Express

हैदराबाद से एक बेहद ही चौंकाने वाली खबर सामने आई है। यहां एक महिला ने आरोप लगाया है कि Covid-19 से संक्रमित उनके पति अस्पताल से गायब हो गए हैं। लेकिन महिला के आरोपों के बाद अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि महिला के पति की मौत हो गई है औऱ उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया है। अस्पताल प्रबंधन की इस सफाई के बाद महिला ने अस्पताल प्रशासन से कहा है कि वो उनके पति के अंतिम संस्कार का सबूत लाकर दिखाए।

जानकारी के मुताबिक Gandhi Hospital and Medical College (GHMC), में 42 साल के मधुसून उनकी पत्नी अलामपल्ली माधवी और दो बेटे एडमिट थे। यह सभी कोरोना संक्रमित थे और इन सभी का यहां इलाज चल रहा था। 16 मई को अलामपल्ली और उनके दोनों बेटे इस अस्पताल से डिस्चार्ज हो गए।

महिला ने जब अपने पति मधुसूदन के बारे में पूछा तो उन्हें बताया गया कि वो अभी वेन्टिलेटर पर हैं। कुछ दिनों तक अस्पताल ने महिला को उनके पति के बारे में कोई भी जानकारी नहीं दी और महिला को इस बात की आशंका हो गई कि उनके पति लापता हो गए हैं।

इस मामले में महिला ने मदद के लिए राज्य के मंत्री केटी रामा राव के पास गुहार लगाते हुए ट्वीट किया। माधवी ने लिखा कि ‘मैं अपनी दोनों बेटियों और पति के साथ वनस्थलीपुरम में रहती हूं। हमारे परिवार के सदस्य कोरोना से संक्रमित हो गए थे और हमारा इलाज हैदराबाद के गांधी अस्पताल में चल रहा था। अस्पताल से हम सभी वापस आ गए लेकिन मेरे पति नहीं आए। आपसे आग्रह है कि मेरे लापता पति का पता लगाने में मदद करें।’

जानकारी के मुताबिक मधुसूदन पहले किंग कोटी अस्पताल में भर्ती थे। 30 अप्रैल को उन्हें GHMC में एडमिट किया गया था। यहां 1 मई को महिला को अस्पताल प्रबंधन ने महिला को बताया कि उनके पति वेंटिलेटर पर हैं।’ अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि मधुसून की मौत 1 मई को हुई थी और उनका अंतिम संस्कार हो चुका है।

लेकिन अब माध्वी का कहना है कि अस्पताल प्रशासन ने उनके पति की मौत या उनके अंतिम संस्कार के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं दी थी और ना ही अंतिम संस्कार से पहले परिवार के किसी सदस्य से अस्पताल प्रबंधन ने अनुमति ली थी। माध्वी ने अब अस्पताल प्रबंधन से अंतिम संस्कार के सबूत मांगे हैं।

हालांकि इस पूरे मामले पर अब तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री इताला राजेंद्र ने कहा है कि ‘यह सही है कि माध्वी को उनके पति के मौत के बारे में जानकारी नहीं दी गई थी। लेकिन ऐसा उनके परिवार के अन्य सदस्यों के कहने पर किया गया था क्योंकि उन्हें डर था कि पति के मौत की जानकारी मिलने के बाद वो सदमे में चली जाएंगी।’

आपको बता दें कि इस मामले में अस्पताल प्रशासन की तरफ से कहा गया है कि मधुसूदन की मौत के बाद सभी नियमों का पालन किया गया था और पुलिस को भी जानकारी दी गई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पत्रकार खशोगी को कई टुकड़ों में काटा! 2 साल बाद बेटे ने कहा-हत्यारे को माफ किया पर मंगेतर का ऐलान- सजा दिला कर रहूंगी
2 तेलंगाना का खौफनाक कुंआ! 9 प्रवासियों की लाश मिलने से हड़कंप, सुसाइड की आशंका
3 Covid-19, Lockdown 4.0: चेक पोस्ट पर तैनात जवान पर महिला से रेप का आरोप, लोगों ने आरोपी को पीट कर पुलिस के हवाले किया