कैदी का आरोप, जेलर ने पीठ पर खुदवा दिया ‘आतंकवादी’, जांच के आदेश

कैदी करमजीत सिंह की उम्र महज 28 साल है और उसने मनसा जिले की एक अदालत में ये आरोप लगाए। उसने कहा कि जेल में कैदियों की हालत बहुत खराब है।

Punjab prisoner
जेल अधीक्षक ने इन आरोपों से इनकार किया है और इस पूरे मामले को मनगढ़ंत बताया है। (प्रतीकात्मक फोटो)

पंजाब के बरनाला जिले से एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। यहां एक विचाराधीन कैदी ने जेल अधीक्षक पर उसकी पीठ पर आतंकवादी शब्द खुदवाने का आरोप लगाया है।

हालांकि जेल अधीक्षक ने इन आरोपों से इनकार किया है और इस पूरे मामले को मनगढ़ंत बताया है। जेल अधीक्षक बलबीर सिंह का कहना है कि कैदी करमजीत सिंह पर एनडीपीएस एक्ट से लेकर हत्या तक के 11 मामले चल रहे हैं। ऐसे में वह ये आरोप इसलिए लगा रहा है क्योंकि उसे हमारी अलर्टनेस से समस्या है।

उन्होंने बताया कि हम उसकी बैरक की तलाशी लेते रहते हैं, कुछ समय पहले हमें उसकी बैरक से मोबाइल भी मिला था। करमजीत सिंह एक बार पुलिस हिरासत से भाग भी चुका है।

हालांकि इस मामले में पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने जांच के आदेश दिए हैं और एडीजीपी (जेल) पीके सिन्हा को मामले की जांच करने और कैदी का मेडिकल कराने का आदेश दिया गया है।

कैदी करमजीत सिंह की उम्र महज 28 साल है और उसने मनसा जिले की एक अदालत में ये आरोप लगाए। उसने कहा कि जेल में कैदियों की हालत बहुत खराब है, जब मैंने ये मुद्दा उठाने की कोशिश की तो जेल अधीक्षक मुझे पीटते थे।

कैदी ने ये दावा भी किया है कि जेल में कैदियों की स्थिति दयनीय है और यहां एड्स और हेपेटाइटिस से पीड़ित लोगों को अलग वार्ड में नहीं रखा जाता है।

बरनाला की जेल में बंद करमजीत सिंह गांव बलमगढ़, तहसील समाना, जिला पटियाला का निवासी है और उसके खिलाफ थाना सदर मानसा में वर्ष 2020 में एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। इसी मामले में बुधवार को उसकी मानसा की सीजेएम अतुल कंबोज की अदालत में पेशी थी, जहां उसने जेल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए।

इस मामले के सामने आने के बाद अकाली दल के प्रवक्ता मनजिंदर सिरसा ने इसे मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन बताया है और कांग्रेस सरकार पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि ये सिखों को आतंकवादी के रूप में चित्रित करने के लिए कांग्रेस सरकार की दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई है। उन्होंने जेल अधीक्षक को निलंबित करने की मांग की।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट