ताज़ा खबर
 

कम उम्र का शिकार लाने पर देता था 200 डॉलर, 27 से ज्‍यादा लड़कों का कुकर्म के बाद किया कत्‍ल

सीरियल किलर डीन आर्नोल्ड ने साल 1970 से लेकर 1973 तक इसी तरह करीब 27 से ज्यादा लोगों का कत्ल किया था। वह लोगों का शिकार करने के लिए अपने दो दोस्त ब्रूक्स और एलमर की मदद लेता था।
यह सीरियल किलर ‘द कैंडीमैन’ के नाम से कुख्यात है।(फोटो सोर्स- यूट्यूब)

कुख्यात सीरियल किलर्स की श्रृंखला में आज हम बात कर रहे हैं डीन अर्नोल्ड कोरल की। डीन एक ऐसा सीरियल किलर था जिसने करीब 27 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतारा था। यह सीरियल किलर अक्सर कम उम्र के लड़कों को अपना शिकार बनाता था। वह लड़कों के साथ कुकर्म कर गोली मारकर या गला घोंटकर उनकी हत्या कर देता था। सीरियल किलर डीन के इस खूनी खेल में उसके दो दोस्त साथ देते थे, जिन्हें डीन हर शिकार के लिए 200 डॉलर देता था।

डीन अर्नोल्ड कोरल का जन्म 24 दिसंबर साल 1939 में अमेरिका के इंडियाना में हुआ था। साल 1964 में डीन आर्नोल्ड ने आर्मी ज्वॉइन की थी। आर्मी ज्वॉइन करने के कुछ साल बाद ही डीन के व्यवहार में काफी बदलाव आने लगे थे। वह काफी संवेदनशील और अजीब हरकतें करने लगा था।

फौज की नौकरी छोड़ने के बाद साल 1969 में डीन कम उम्र के लड़कों के साथ समय बिताने लगा था, जिनमें डेविड ब्रूक्स और एलमर व्याने हेलनी भी शामिल थे। एक दिन जब ब्रूक्स और एलमर, डीन से मिलने उसके घर पहुंचे तो उन्होंने डीन को दो लड़कों के साथ आपत्तिजनक हालत में पाया। तब डीन ने दोनों को उसकी हरकत छिपाने के लिए एक समझौता किया और उन्हें एक कार गिफ्ट कर दी। धीरे-धीरे डीन का पेशन खतरनाक जुनून में बदल गया। सीरियल किलर डीन आर्नोल्ड ने साल 1970 से लेकर 1973 तक इसी तरह करीब 27 से ज्यादा लोगों का कत्ल किया था।

डीन लड़कों का कुकर्म कर उनका कत्ल करने लगा था। वह लोगों का शिकार करने के लिए ब्रूक्स और एलमर की मदद लेने लगा। ब्रूक्स और एलमर कम उम्र के लड़कों को अपने जाल में फंसाते थे और सीरियल किलर डीन आर्नोल्ड को सौंप देते थे। इसकी एवज में डीन हर एक शिकार के लिए ब्रूक्स और एलमर को 200 डॉलर देता था। वहीं किन्हीं वजहों से साल 1973 में इस सीरियर किलर का साथ देने वाले दोस्त एलमर व्याने हेलनी ने ही गोली मारक उसकी हत्या कर दी थी। आज भी यह सीरियल किलर ‘द कैंडीमैन’ के नाम से कुख्यात है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.