अमेरिका के वो माफिया बॉस, जिसने अपराध जगत में किया वर्षों तक राज, हर एक के नाम दर्ज हैं खौफनाक वारदात!

अमेरिकी क्राइम वर्ल्ड (America crime world) के गैंगेस्टरों का एक अपना इतिहास रहा है। गैंग के साथ-साथ इनके बॉसों की कहानी भी दिलचस्प रही है। हर एक के नाम एक से बढ़कर एक खूंखार वारदात दर्ज है।

american gangster, US crime world, american mafia
प्रतीकात्मक फोटो (@pixabay)

इतिहास में अमेरिकी माफिया के नाम बहुत से खौफनाक वारदात दर्ज हैं। न्यूयॉर्क के पांच माफिया परिवारों की कहानी तो आप पढ़ ही चुके हैं, आज हम आपके सामने लाए हैं, अमेरिका के उन खतरनाक माफिया गैंग के बॉसों की कहानी, जिन्होंने एक समय में वहां के अपराध जगत पर राज किया था।

अमेरिका में माफिया का उदय या संगठित गिरोह के जरिए अपराध तब शुरू हुआ, जब इटली के कुछ गैंगेस्टरों ने न्यूयॉर्क पहुंच कर गैंग बनाई और फिर वहां से शुरू हुआ माफिगा गैंग, गैंगवार और अपराध की वो कहानी जिसकी आग में वर्षों तक अमेरिका झुलसता रहा। इन गिरोहों का कोई लीडर, बॉसेज ऑफ ऑल बॉस कहलाया तो किसी को पब्लिक इनेमी नंबर-1 कहा गया। इनके खूनी वारदात से शहर हमेशा थर्रारता ही रहा।

एल्फोंसे गेब्रिएल अल कपोन (Al Capone) इसे मुख्य तौर पर अल कपोन के नाम से जाना जाता है। न्यूयॉर्क के ब्रुकलिन में जन्में कपोन 1925 से 1931 के बीच, शिकागो का सबसे बड़ा डॉन यानी कि माफिया था। कपोन अपनी जवानी के दिनों में जेम्स स्ट्रीट बॉयज गिरोह में शामिल हो गया था, जहां उसकी मुलाकात जॉनी टोरियो से हुई थी। यही जॉनी बाद में अपराध जगत में उसका गुरु बना था।

जॉनी के साथ मिलकर कपोन शिकागो में अब शराब का धंधा करने लगा था। इस गैंग का मुख्य काम शराब का धंधा ही थी। तब इस काम में काफी पैसा था और प्रतिद्वंदी भी बहुत थे। आए दिन यहां गैंगवार में लोगों की मौत होती रहती थी। इन्हीं सब के बीच वो कांड हुआ जिससे कपोन को पब्लिक इनेमी नंबर-1 का खिताब मिल गया। कपोन अपने एक प्रतिद्वंदी को मारने के लिए बड़ा खेल, खेल गया। इसके गिरोह के आदमी नकली पुलिस बनकर दुश्मन गिरोह में घुस गए, और लाइन से खड़ा करके सबको मशीन गन से भून दिया। इन हत्याओं को सेंट वेलेंटाइन दिवस नरसंहार कहा गया। इसके साथ ही इस पर कई और हिंसाओं का भी आरोप लगा। बाद में टैक्स चोरी के आरोप में सजा हुई, छुट कर आया तो अपराध की दुनिया में रूचि कम हो चुकी थी। गिरते स्वास्थ्य के बीच 1947 में हार्ट अटैक से इसकी मृत्यु हो गई।

बग्सी सीगल (Bugsy Siegel) – बस्सी सिगल अपनी स्मार्टनेस और माफिया हिटमैन के तौर पर जाना जाता है। इसे एक खूंखार डकैत के तौर पर भी याद किया जाता है। जिसके पास रहम नाम की कोई चीज नहीं थी। ये एक ऐसा माफिया था , जिसने आधुनिक बिजनेस में हाथ अजमाया था।

सीगल का जन्म 1906 में न्यूयॉर्क शहर में हुआ था। अपराध की शुरूआत तो इसने भी यहीं से की, लेकिन 1936 में सीगल, कैलिफोर्निया शिफ्ट हो गया। यहं उसने खुद का गैंग बनाया। सीगल ने अपनी प्रेमिका की मदद से लास वेगास, नेवाडा में कैसीनो बनाना शुरू कर दिया। जहां सभी गिरोह, अभी भी शराब के धंधे में लगा था, सीगल कैसीनो के जरिए शराब और जुए से जबरदस्त कमाई कर रहा था। सीगल बहुत कम ही उम्र में काफी ऊपर पहुंच गया। बस फिर क्या था, साथी गिरोह के लोगों की वो आंखों में खटकने लगा। कई को सीगल धोखा भी दे चुका था। एक दिन इस हिटमैन को ही मारने की सुपारी दूसरे गिरोह वाले ने दे दी। 42 साल की उम्र में सीगल को तब गोली मार दी गई, जब वो अपनी प्रेमिका के घर पर था।

लकी लुसियानो (Lucky Luciano)– इटली में पैदा हुआ ये शख्स जब अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर पहुंचा तो पांच माफिया परिवारों में एक लुसियानो गैंग की स्थापना की, जो बाद में जेनोवेस परिवार के नाम से जाना गया। लसियानो को आधुनिक क्राइम का जनक माना जाता है। अपने तेज दिमाग ने इसने पूरी तरह से संगठित अपराध की शुरूआत की थी। उस समय इससे शक्तिशाली कोई गैंगेस्टर नहीं था। किसी भी वारदात को इसकी जानकारी के बिना अंजाम नहीं दिया जाता था। इसका मुख्य धंधा वेश्यावृत्ति था।

सैम जियानकाना (Sam Giancana)– सैम जियानकाना को गैंगस्टरों की दुनिया का लिजेंड कहा जाता है। 1908 में शिकागो में जन्मे सैम 20 साल की उम्र तक आते-आते कम से कम तीन मर्डर कर चुका था और 70 बार गिरफ्तार हो चुका था। इसका नाम गैंगेस्टरों की दुनिया में तब शामिल हो गया था। ये पहला गैंगेस्टर था, जिसकी राजनीति में काफी रूचि थी और इसने इस संबंध में कई सौदे किए थे। इसकी पहुंच तब राष्ट्रपति चुनाव तक में होती थी।

कुछ सूत्रों के अनुसार, 1960 के राष्ट्रपति चुनाव में जॉन एफ कैनेडी की जीत में जियानकाना शामिल था। कहा जाता है कि सीआईए ने इसे क्यूबा के नेता फिदेल कास्त्रो की हत्या की साजिश में शामिल किया था। इस माफिया डॉन की हत्या 1975 में कर दी गई।

पॉल कैस्टेलानो (Paul Castellano)– इसे न्यूयॉर्क शहर के एक बड़े माफिया गैंग मैंगानो- गैम्बिनो परिवार का गॉडफादर कहा जाता है। यह गैंगस्टर भी दिमाग का काफी तेज था और अपराध जगत के साथ-साथ अन्य बिजनस भी इसने शुरू किया था। ऐसा करने वाला न्यूयॉर्क माफिया परिवार का ये पहला शख्स था। तब इसने फूड और कंस्ट्रक्शन के बिजनेस में हाथ अजमाना शुरू कर दिया था। गैम्बिनो परिवार का मुखिया बनने के बाद यह एक आईलैंड पर शिफ्ट हो गया था, यहां वो आलीशान जिंदगी जीने और अधिक पैसे वसूली करने के लिए जाना गया। कैस्टेलानो को 1985 में अचानक गैंग के ही एक गैंगेस्टर जॉन गौटी ने उसकी हत्या कर दी गई। बाद में यही जॉन गौटी गैम्बिनो परिवार का मुखिया बना था।

फ्रैंक लुकास (Frank Lucas)– लुकास जब अपराध की दुनिया में उतरा तो उसने ड्रग्स तस्करी में खूब नाम कमाया। कहा जाता है कि लुकास एक दिन में अपने ब्लू मैजिक हेरोइन से रोज एक मिलियन डॉलर कमाता था। लुकास ही था, जिसने न्यूयॉर्क में मिडिल मैन की कहानी खत्म कर, सीधे साउथईस्ट एशिया के डीलरों से ड्रग्स लेने लगा था।

नॉर्थ कैरोलिना में 1970 में जन्म लुकास ने बंपी जॉनसेन को अपराध जगत का गुरु बनाया था। 1960 और 70 के दशक में लुकास, हार्लेम में एक शक्तिशाली ड्रग माफिया बन गया था। ये ड्रग्स लाने के लिए ऐसे-ऐसे रास्ते अपनाता था कि पुलिस देखती रह जाती थी। ये पकड़ा भी गया, 70 साल की सजा भी हुई, लेकिन पांच साल बाद ही जेल से निकल आया। 2019 में लुकास ने 88 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

ये कुछ गैंगेस्टर ऐसे थे, जिनका नाम अमेरिकी अपराध जगत के इतिहास में इनके कारनामों के कारण दर्ज है। मशहूर फिल्म गॉडफादर से लेकर अमेरिकन गैंगेस्टर तक की कहानी और किरदार ऐसे ही गैंगेस्टरों पर आधारित रहे हैं। ये गैंगेस्टर भले ही इस दुनिया में ना रहे हों, लेकिन इनकी खौफनाक वारदातें अमेरिकी लोगों के जेहन में आज भी दर्ज है।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।