ताज़ा खबर
 

…जब गौतम अडानी के अपहरण से मच गई खलबली, दाऊद के टक्कर के इस गैंगस्टर पर लगा था आरोप

यह जानकारी भी सामने आई थी कि गौतम अडानी और शांतिपटेल को अपहरण के बाद किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया गया था।

crime, crime newsगौतम अडानी। फोटो सोर्स- PTI

गौतम अडानी की पहचान आज एक सफल बिजनेसमैन के तौर पर है। साल 2020 में फोर्ब्स ने दुनिया भर के अमीरों की जो लिस्ट जारी की थी उसमें भी गौतम अडानी को जगह दी गई थी। लेकिन आज हम गौतम अडानी की जिंदगी से जुड़ी एक अलग पहलू से आपको रुबरु कराने वाले हैं। इस मशहूर कारोबारी को कभी किडनैप भी कर लिया गया था। बताया जाता है कि अडानी ने अपने करियर की शुरुआत डायमंड ट्रेडर के तौर पर की थी। 1990 के मध्य तक अडानी की गिनती एक सफल व्यापारी के तौर पर होने लगी थी और वो धीरे-धीरे मीडिया के आकर्षण का केद्र भी बनने लगे थे।

मशहूर कारोबाी गौतम अडानी के अपहरण की घटना जनवरी 1, 1998 की है। बताया जाता है कि उस वक्त मोहम्मदपुरा से कार से जाते समय गौतम अडानी और शांतिलाल पटेल को कथित तौर पर फिरौती के लिए अपहृत कर लिया गया था। आरोप लगा था कि कार के सामने एक स्कूटर को खड़ा कर के कार को रोका गया था और फिर कुछ लोग आए, जिन्होंने दोनों का अपहरण किया था। तब सरखेज थाना के सब-इंस्पेक्टर रहे आरके पटेल ने FIR दर्ज की थी, जिसमें 9 अभियुक्तों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।

उस वक्त यह जानकारी भी सामने आई थी कि गौतम अडानी और शांतिपटेल को अपहरण के बाद किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया गया था। एक बार जब लंदन के Financial Times ने अडानी से इस घटना के बारे में पूछा था कि तब उन्होंने कहा था कि ‘मेरी जिंदगी में 2 या 3 दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुई थीं…यह उनमें से एक है।’ अडानी के अपहरण का आरोप मशूहर गैंगस्टर फजल-उर-रहमान उर्फ फजलू रहमान पर लगा था। कहा जाता है कि फजलू एक वक्त अंडरवर्ल्ड की दुनिया में दाऊद इब्राहिम के टक्कर का डॉन था।

फजलू के बारे में बताया जाता है कि वो मूल रूप से बिहार का रहने वाला है। फिरौती, अपहरण, लूट और हत्या के मामलों में आरोपित फजलू से तब कारोबारी कांपा करते थे। वो 90 के दशक में और 2000 की शुरुआत में सक्रिय था। गौतम अडानी को रिहा करने के एवज में 15 करोड़ की फिरौती मांगने की बात भी सामने आई थी।

इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के अलावा गौतम अडानी की जिंदगी में उस वक्त भी एक वाकया पेश आया था जब वो 26 नवंबर, 2008 को मुंबई के मशहूर ताज होटल में डिनर कर रहे थे। उसी वक्त आतंकियों ने होटल ताज पर हमला कर दिया था। अडानी होटल के बेसमेंट में छिप गए थे। इस हमले में 160 लोगों की जान गई थी।

Next Stories
1 पश्चिम बंगाल चुनाव: TMC विधायक पर पत्रकार को थप्पड़ मारने का लगा था आरोप, विरोध में खबर लिखे जाने से थे नाराज
2 लेडी IAS को केजरीवाल के मंत्री ने धमकाते हुए कहा था- करप्शन में पकड़वा दूंगा, लिमिट में रहो; खूब मचा था बवाल
3 पंजाब से आया व्हीलचेयर पर, जेल में गया पैरों से चलकर, गैंगस्टर मुख्तार अंसारी को लेकर आए थे 150 पुलिसकर्मी
ये पढ़ा क्या?
X