ताज़ा खबर
 

अरबी पढ़ाने के बहाने दो छात्राओं संग सालों तक रेप, इस्लामिक टीचर को उम्रकैद

इस केस की जांच कर रही West Midlands Police की Detective Constable सारा वेस्ट ने कहा है कि इन लड़कियों के साथ भयानक घटना हुई है और इस मामले में अब उन्हें इंसाफ मिला है।

Author November 27, 2018 12:06 PM
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

एक इस्लामिक शिक्षक दो स्कूली छात्राओं को अरबी पढ़ाने के नाम पर उनका यौन शोषण करता रहा। 46 साल के इमाम फारुक अहमद को इस मामले में 14 साल की जेल की सजा सुनाई गई है। उसपर आरोप साबित हुआ है कि साल 2009 से साल 2011 के बीच उसने दो बच्चियों के साथ रेप किया है। इंग्लैंड की Wolverhampton Crown Court में इस मामले की सुनवाई की गई। सुनवाई के दौरान यह भी पता चला कि यह इस्लामिक टीचर इन बच्चियों को धमकाता भी था। वेबसाइट ‘डेली मेल’ के मुताबिक इस घिनौनी करतूत का खुलासा साल 2016 में उस वक्त हुआ जब एक पीड़ित बच्ची ने मेंटल हेल्थ नर्स को अपने साथ हुई इस भयानक वारदात के बारे में बताया। हालांकि शुरू में इस टीचर ने पुलिस के सामने यह तो कबूल कर लिया कि उसने इन दोनों बच्चियों को शिक्षा दी है लेकिन उसने यौन शोषण के आरोपों से इनकार कर दिया।

इसके बाद साल फरवरी 2017 में इमाम फारुक अहमद को इसी महीने में इन दोनों लड़कियों को 10 बार गलत तरीके से छूने और उनका यौन शोषण करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। जांच में धीरे-धीरे इस पूरे मामले की भयानक सच्चाई सामने आई और फिर बीते शुक्रवार को इस शख्स को अदालत ने 14 साल कारावास की सजा सुनाई। स्थानीय काउंसलर मोहम्मद परवेज इसी मस्जिद में अक्सर जाया करते थे उन्होंने इसे एक शर्मनाक घटना बताया है। उन्होंने इमाम फारुक अहमद के बारे में बताया कि वो Stoke-on-Trent प्रांत के Cobridge इलाके में स्थिति मस्जिद में रहता था। वो ज्यादा किसी से बातचीत नहीं करता था और खुद को व्यस्त रखता था। उन्होंने कहा कि जेंटलमैन की तरह व्यवहार करने वाले इस शख्स की ऐसी घिनौनी करतूत में संलिप्ता परेशान करने वाला है।

इस केस की जांच कर रही West Midlands Police की Detective Constable सारा वेस्ट ने कहा है कि इन लड़कियों के साथ भयानक घटना हुई है और इस मामले में अब उन्हें इंसाफ मिला है। उन्होंने कहा कि जिस वक्त यह स्कॉलर उन्हें अरबी पढ़ाता था उसी वक्त डाइनिंग टेबल के नीचे वो उनके साथ ऐसी घिनौनी करतूत को अंजाम दिया करता था।  उस वक्त वो काफी डरी हुई थीं। इन बच्चियों को यौन व्यवहार के बारे में कुछ भी नहीं मालूम था और यही वजह थी कि कुछ दिनों तक तो उन्हें कुछ समझ ही नहीं आया कि उनके साथ हुआ क्या है? धीरे-धीरे इन बच्चियों को यह समझ आया कि वो एक वहशी दरिंदे के हाथों में पड़ गई हैं। जिसके बाद उन्होंने इस जुल्म के खिलाफ आवाज उठाई और उन्हें न्याय मिल सका।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App